ताज़ा खबर
 

Kerala: मुसलमानों के कम वोट पाकर भी एलडीएफ को मिली 8 सीटें ज्‍यादा, बीजेपी को 3% ज्‍यादा मत, पर नहीं खुला खाता

2011 विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 7.4 प्रतिशत वोट मिले थे। 2016 में यह आकंड़ा बढ़कर 10.3 प्रतिशत हो गया है।
Author नई दिल्‍ली | May 20, 2016 15:53 pm
2016 विधानसभा चुनाव में सबसे ज्‍यादा नुकसान यूएडीएफ को हुआ है। पिछली बार की तुलना में इस बार उसे 8 सीटें कम मिली हैं। वहीं, एलडीएफ का वोट प्रतिशत थोड़ा घटा है, लेकिन उसे सीटें ज्‍यादा मिली हैं।

केरल विधानसभा चुनाव में मुस्लिम फैक्‍टर हमेशा से अहम रहा है। मुस्लिम आबादी के मामले में केरल का नंबर जम्‍मू-कश्‍मीर, असम और पश्चिम बंगाल के बाद आता है। आइए जानते हैं इस राज्‍य की मुस्लिम बहुल सीटों पर किस पार्टी का प्रदर्शन, कैसा रहा।

Read Also: West Bengal Election Results: लेफ्ट का मुस्लिम वोट 18 फीसदी गिरा, बीजेपी का 5 फीसदी बढ़ा

-केरल में कुल 43 सीटें ऐसी हैं, जहां पर मुस्लिम मतदाता राजनीतिक समीकरण बना और बिगाड़ सकते हैं।

-2011 में यहां एलडीएफ को 40.4 फीसदी मुस्लिम वोटों के साथ 14 सीटें मिली थीं।

-2016 विधानसभा चुनाव में एलडीएफ का वोट प्रतिशत (39.6) थोड़ा कम जरूर हुआ, लेकिन इस बार उसे 22 सीटें मिली हैं। पिछली बार की तुलना में एलडीएफ को 8 सीटों का फायदा हुआ है।

-यूडीएफ को 2011 विधानसभा चुनाव में 29 सीटों पर विजय मिली थी। वोट प्रतिशत की बात करें तो पिछले विधानसभा चुनाव में यूडीएफ को 47.8 प्रतिशत मुस्लिम वोट मिले थे।

-2016 विधानसभा चुनाव में यूडीएफ को नुकसान उठाना पड़ा। पार्टी इस बार 21 सीटें जीती हैं। पिछली बार से 8 सीटें कम। यूडीएफ वोट प्रतिशत इस बार 38.4 रहा है, जो कि पिछले चुनाव की तुलना में करीब 11 प्रतिशत कम है।

– 2011 विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 7.4 प्रतिशत वोट मिले थे। 2016 में यह आकंड़ा बढ़कर 10.3 प्रतिशत हो गया है। बीजेपी का वोट प्रतिशत बढ़ा जरूर है, लेकिन मुस्लिम इलाकों में पार्टी का खाता इस बार भी नहीं खुल पाया।

Read Also: Assam Results: मुस्लिम इलाकों में बीजेपी का मिले दोगुने वोट, AIUDF को सबसे ज्‍यादा नुकसान

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.