ताज़ा खबर
 

देश में बढ़ रहीं दानवी हरकतें, “जय श्री राम” कहने की जरूरत ज्यादा- बोले केरल के निलंबित डीजीपी

आईपीएस अधिकारी ने कहा कि "हम एक ऐसा देश नहीं बन सकते, जहां जय श्री राम का नारा लगाने पर पाबंदी हो। यह ऐसा समय है, जब जय श्री राम का नारा और ज्यादा लगाने की जरुरत है।"

केरल के बर्खास्त डीजीपी जैकब थॉमस।

देश में ‘जय श्री राम’ के नारे पर इन दिनों खूब हंगामा चल रहा है। वहीं केरल सरकार के निलंबित डीजीपी जैकब थॉमस का कहना है कि ‘देश में इन दिनों दानवी हरकतें ज्यादा हो रही हैं, इसलिए जय श्री राम का नारा ज्यादा लगाने की जरुरत है।’ जैकब थॉमस केरल के त्रिशूर में एक रामकथा कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे। जैकब थॉमस ने इस दौरान राम को सच्चाई, नैतिकता, न्याय का प्रतीक बताया।

केरल के अट्टापदी इलाके में एक आदिवासी युवक मधु और पलक्कड़ जिले में एक राजनैतिक कार्यकर्ता की हत्या का जिक्र करते हुए जैकब थॉमस ने कहा कि “आज उन मूल्यों को अपनाने और बढ़ाने की जरुरत है, जिनका प्रतिनिधित्व राम किया करते थे।” टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार, आईपीएस अधिकारी ने कहा कि “हम एक ऐसा देश नहीं बन सकते, जहां जय श्री राम का नारा लगाने पर पाबंदी हो। यह ऐसा समय है, जब जय श्री राम का नारा और ज्यादा लगाने की जरुरत है।” इतना ही नहीं जैकब थॉमस ने ‘जय श्री राम’ के नारे के साथ ही अपनी बात खत्म भी की।

बता दें कि केरल सरकार ने जैकब थॉमस को भ्रष्टाचार के आरोप में दिसंबर 2017 में निलंबित कर दिया था। जैकब थॉमस पर आरोप है कि उन्होंने साल 2010-11 में बंदरगाह निदेशक पद पर रहते हुए कटर सक्शन में की खरीद में भ्रष्टाचार किया था। हालांकि बीती 30 जुलाई को सेंट्रल एडमिनिस्ट्रेटिव ट्रिब्यूनल (CAT) की एर्नाकुलम बेंच ने डीजीपी जैकब थॉमस की बहाली का निर्देश दिया है।

जैकब थॉमस ने ओखी तूफान को हैंडल करने के सरकार के रवैये पर सवाल खड़े किए थे, जिसके बाद उन्हें पद से निलंबित कर दिया गया था। बाद में जैकब थॉमस पर भ्रष्टाचार में शामिल होने के आरोप लगे। थॉमस का कहना है कि उनका निलंबन ऑल इंडिया सर्विस रूल्स के नियमों के खिलाफ है और इसके चलते उन्होंने याचिका दाखिल की। कैट की बेंच ने राज्य सरकार को निर्देश दिए कि जैकब थॉमस को डीजीपी के बराबर रैंक पर नियुक्ति दी जाए। कैट के फैसले के बाद अब गेंद केन्द्र सरकार के पाले में है। जैकब थॉमस की मांग है कि या तो उन्हें किसी उचित पद पर नियुक्ति दी जाए, या फिर उन्हें वीआरएस दे दिया जाए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Weather Forecast: राजस्थान के 13 जिलों में मूसलाधार बारिश की चेतावनी, मुंबई में भी अगले 48 घंटों में भारी बारिश का अनुमान
2 Bangalore News Today Updates: अयोग्य ठहराए गए विधायक सुप्रीम कोर्ट पहुंचे, बोले- स्पीकर का फैसला गैर-कानूनी
3 जिहादियों के चंगुल में फंसने वाला था महाराष्ट्र का युवक, परिवार ने पुलिस के साथ मिल ऐसे बचाया