ताज़ा खबर
 

अंबेडकर जयंती पर AAP ने की विवादित विजापन छपवाकर गलती, केजरीवाल ने मांगी माफी

केजरीवाल सरकार ने एक बयान में कहा कि दिल्ली सरकार बुधवार को संविधान दिवस के अवसर पर अंग्रेजी अखबारों में छपे अपने विज्ञापनों में शब्दों के छूट जाने की भूल के लिए माफी मांगती है।

Author नई दिल्ली | November 27, 2015 12:58 AM

आम आदमी पार्टी(आप) सरकार ने संविधान दिवस पर अनेक अखबारों में दिए विज्ञापनों में प्रस्तावना में से ‘समाजवादी’ और ‘धर्मनिरपेक्ष’ शब्द छूट जाने पर गुरुवार को इस भूल के लिए माफी मांगी और इस पर कठोर रुख अपनाते हुए यह पता लगाने के लिए जांच के आदेश दिए हैं कि क्या इसके पीछे किसी की ‘शरारत’ है। अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली दिल्ली सरकार ने संविधान पास किए जाने की याद में अंग्रेजी विज्ञापन छपवाएं हैं, जो कई अखबारों में छपे हैं इनमें संविधान की प्रस्तावना का मजमून लिखा हुआ है लेकिन इसकी विषय वस्तु में से दो शब्द गायब हैं।

केजरीवाल सरकार ने एक बयान में कहा कि दिल्ली सरकार बुधवार को संविधान दिवस के अवसर पर अंग्रेजी अखबारों में छपे अपने विज्ञापनों में शब्दों के छूट जाने की भूल के लिए माफी मांगती है। उसने कहा कि अंग्रेजी विज्ञापन में छपे मजमून में समाजवादी और धर्मनिरपेक्ष शब्द भूलवश छूट गए हैं। मुख्यमंत्री ने इस मामले में कड़ा रुख अपनाया है और सूचना एवं प्रचार निदेशक को जांच करने और चार दिनों में रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया है। निदेशक को यह पता लगाने को कहा गया है कि संविधान की प्रस्तावना के इतने महत्त्वपूर्ण अंश कैसे छूट गए। सरकार ने कहा कि जांच इस संबंध में केंद्रित होगी कि इसके पीछे किसी ने शरारत तो नहीं की है।

HOT DEALS
  • Moto Z2 Play 64 GB Fine Gold
    ₹ 15750 MRP ₹ 29499 -47%
    ₹0 Cashback
  • Moto G6 Deep Indigo (64 GB)
    ₹ 15727 MRP ₹ 19999 -21%
    ₹0 Cashback

दिल्ली सरकार की ओर से संविधान दिवस पर आयोजित एक समारोह में सिसोदिया ने कहा कि यह गलती सामने आने के बाद गुरुवार की सुबह मुख्यमंत्री केजरीवाल ने उन्हें फोन किया। उन्होंने कहा कि सरकार को इसके लिए जिम्मेदारी तय करनी होगी। तबीयत खराब होने की वजह से केजरीवाल इस कार्यक्रम में शिरकत नहीं कर सके।

बयान में कहा गया, ‘जब गलतियां की जाती हैं तो जिम्मेदारियां भी तय होती हैं। हमें सुनिश्चित करना होगा कि हम संविधान के सिद्धांतों और उसके हर एक शब्द की पवित्रता के लिए लड़ें, ठीक उसी तरह जैसे हम तिरंगे का सम्मान करते हैं।’ सरकार ने कहा कि निदेशक (सूचना एवं प्रचार) से यह पता लगाने को कहा गया है कि संविधान की प्रस्तावना के मजमून से ऐसे अहम हिस्से कैसे गायब हो गए। बयान में कहा गया, ‘जांच से पता चलेगा कि क्या इस मामले में कोई शरारत की गई।’ समारोह को संबोधित करते हुए सिसोदिया ने कहा कि ‘आप’ सरकार पूरी तरह संविधान के सिद्धांतों के आधार पर ही काम करेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App