scorecardresearch

कांग्रेस पर निशाना साध रहे केजरीवाल और AAP पर हमला करने से बच रही बीजेपी, मतलब गुजरात चुनाव में किसकी लड़ाई किसके साथ ये अब साफ

गुजरातः 2021 के सूरत निकाय चुनाव में बीजेपी ने सबसे अधिक सीटें 93 सीटें जीती पर आम आदमी पार्टी ने 27 सीटें जीतकर राजनीति में हलचल मचा दी थी।

Arvind Kejriwal, AAP| Kejriwal Photo|
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Photo Source – Social Media)

गुजरात के 2021 निकाय चुनावों में बीजेपी ने पूरे राज्य में शानदार प्रदर्शन किया था। लेकिन सूरत के रिजल्ट देखकर उसके भी होश उड़ गए थे। बेशक सूरत में बीजेपी ने सबसे अधिक सीटें 93 सीटें जीती पर आम आदमी पार्टी ने 27 सीटें जीतकर राजनीति में हलचल मचा दी। आप वहां दूसरे नंबर आई थी। खास बात है कि कांग्रेस को एक भी सीट सूरत में नहीं मिल सकी। परिणाम इशारा कर रहे थे कि आप की जड़ें गुजरात में जमनी शुरू हो गई हैं। बावजूद इसके कि 2017 के असेंबली चुनाव में आप की हर जगह जमानत जब्त हो गई थी।

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने सूरत के परिणाम को देखकर मन बना लिया था कि वो गुजरात विधानसभा के लिए होने वाले चुनावों में मजबूती से ताल ठोकेंगे। उनके हाल के गुजरात दौरे को देखा जाए तो ये बात साफ तौर पर झलक रही है कि वो कांग्रेस को चारों खाने चित्त करने को तैयार हैं।

गुजरात की यात्रा पर गए आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि गुजरात में कांग्रेस को वोट देने का कोई तुक नहीं है। उन्होंने कहा कि जो लोग बीजेपी से नाराज हैं और कांग्रेस को वोट नहीं देना चाहते हैं, वो आम आदमी पार्टी को वोट दे। रविवार को अहमदाबाद में पार्टी के करीब 7 हजार कार्यकर्ताओं से केजरीवाल ने कहा कि हमें सत्ता हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी।

दो दिवसीय गुजरात दौरे पर पहुंचे केजरीवाल ने लोगों से अपील की कि वो गुजरात के आगामी विधानसभा चुनाव में अपना मत आप को दें। कांग्रेस को मत देकर बेकार न करें। उन्होंने कहा कि अगर भाजपा से नाराज उन सभी लोगों के मत उसे मिल जाए, जो कांग्रेस को अपना मत नहीं देना चाहते हैं तो आप गुजरात में अगली सरकार बना सकती है।

बीजेपी से नाराज लोगों पर केजरी की नजर

केजरीवाल ने कहा कि आप कार्यकर्ताओं को उन लोगों का समर्थन हासिल करने की कोशिश करनी चाहिए जो भाजपा शासन से नाराज हैं, लेकिन कांग्रेस को मत नहीं देना चाहते हैं। पिछली बार लोगों ने उम्मीद के साथ कांग्रेस को मत दिया था, लेकिन एक के बाद एक करके उसके विधायक भागते जा रहे हैं। केजरीवाल भाजपा विरोधी वोटों पर फोकस कर रहे हैं, जो अभी कांग्रेस को मिलता रहा है।

दिल्ली सीएम ने कहा कि हाल में दिल्ली के दौरे पर गुजरात से गया भाजपा का प्रतिनिधिमंडल वहां के स्कूलों और अस्पतालों में एक भी कमी निकालने में असफल रहा। उन्होंने पार्टी पदाधिकारियों से कहा कि वो गुजरात के मतदाताओं को दिल्ली और पंजाब की आप सरकारों द्वारा किए गए काम बताए। कांग्रेस गुजरात में केवल कागजों पर ही अस्तित्व में है।

पहले पंजाब और दिल्ली तो संभाल लो- कांग्रेस

उधर बीजेपी भी समझ रही है कि आप तेजी से गुजरात में पैर जमा रही है। लिहाजा उसने कांग्रेस पर हमले तीखे कर दिए हैं, जिससे आप चर्चा से भी दूर रहे। उधर कांग्रेस के प्रवक्ता मनीष दोशी कहते हैं कि आप इस तरह से बीजेपी की मदद कर रही है। उनका कहना है कि सभी को पता है कि दिल्ली और पंजाब में सरकार कैसे चल रही हैं। अपराध चरम पर है तो करप्शन पर रोक लगाने में दोनों सरकार नाकाम रही हैं।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X