ताज़ा खबर
 

खराब मौसम की वजह से रुकी केदारनाथ यात्रा, पूर्व सीएम, विधायक, सांसद समेत कई फंसे

केदारनाथ में लगातार बर्फबारी हो रही है और 2-3 इंच तक बर्फ गिर चुकी है। फिलहाल तीर्थयात्रियों को भीमबली और लिंचौली में तब तक इंतजार करने को कहा गया है, जब तक मौसम पूरी तरह से साफ नहीं हो जाता।

खराब मौसम के कारण रोकी गई केदारनाथ यात्रा। (image source-PTI)

सोमवार से जारी खराब मौसम को देखते हुए प्रशासन ने केदारनाथ यात्रा कुछ समय के लिए रोक दी है। तीर्थयात्रियों को लिंचौली और भीमबली इलाकों से आगे जाने से मना कर दिया गया है। बता दें कि आधा दर्जन कांग्रेस नेता भी इस यात्रा के बीच फंसे हुए हैं। इन कांग्रेस नेताओं में उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, कांग्रेस के राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा और स्थानीय विधायक मनोज रावत शामिल हैं। रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने यह जानकारी दी है। जिलाधिकारी ने बताया है कि केदारनाथ में लगातार बर्फबारी हो रही है और 2-3 इंच तक बर्फ गिर चुकी है। फिलहाल तीर्थयात्रियों को भीमबली और लिंचौली में तब तक इंतजार करने को कहा गया है, जब तक मौसम पूरी तरह से साफ नहीं हो जाता।

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता हरीश रावत अपने समर्थकों के साथ रविवार को यात्रा पर गए थे। इस दौरान हरीश रावत भगवान शिव के दर्शन करने और भाजपा के केदारनाथ मंदिर पर पुनर्निर्माण के दावों की सच्चाई जाने के उद्देश्य से गए थे। लेकिन मौसम खराब होने के चलते बीच रास्ते में ही फंस गए हैं। रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी घिल्डियाल का कहना है कि हरीश रावत समेत सभी नेताओं को अभी इंतजार करने को कहा गया है, क्योंकि उन लोगों को हेलीकॉप्टर से वापस आना है और अभी मौसम उड़ान के लिए ठीक नहीं है।

बता दें कि मौसम विभाग ने आज देश के कई हिस्सों में तूफान और भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। सोमवार देर रात भी दिल्ली और एनसीआर में तेज आंधी आयी थी। इस दौरान 90 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चली थी। आज खराब मौसम की चेतावनी के बाद अलर्ट जारी किया गया है। देश के 20 राज्यों में खराब मौसम का असर देखने को मिल सकता है। यही वजह है कि आज कई स्कूल कॉलेज बंद कर दिए गए हैं और लोगों को सावधानी बरतने को कहा जा रहा है। मौसम विभाग का कहना है कि खराब मौसम के दौरान 50-70 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। बता दें कि बीते हफ्तें भी आयी तेज आंधी से 5 राज्यों में 120 से ज्यादा जानें चली गईं थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App