ताज़ा खबर
 

कांग्रेस ने कहा- कश्मीर मुद्दे का हल चाहिए है तो बीजेपी को बदलनी होगी ‘हिंदू राष्ट्र’ बनाने की मानसिकता

अय्यर ने कहा, मुझे उम्मीद है कि वे करते हैं लेकिन मुझे विश्वास नहीं है कि वे सफल हो पाएंगे क्योंकि जब तक वह अपनी मानसिकता नहीं बदलते और 'हिंदू राष्ट्र' स्थापित करने का प्रयास बंद नहीं कर देते, तब तक वह कश्मीर का हल नहीं निकाल पाएंगे।

Author नई दिल्ली | May 22, 2017 4:38 PM
कांग्रेस के निलंबित नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मणिशंकर अय्यर। (फाइल फोटो)

कश्मीर में लंबे समय से जारी हिंसा और आतंकी घटनाओं को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर निशाना साधा। कांग्रेस ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए सोमवार को कहा कि यह बीजेपी का ‘पेट डॉयलॉग’ है। कांग्रेस की ओर से कहा गया कि यह मुद्दा तब तक हल नहीं होगा जब तक बीजेपी अपनी हिंदू राष्ट्र की मानसिकता को नहीं छोड़ती है। कश्मीर में तनाव और आतंकी घटनाओं को लेकर राजनाथ सिंह ने कहा था कि केंद्र, कश्मीर मुद्दे का जल्द ही “स्थायी हल” ढूंढ लेगा। इस पर कांग्रेस की ओर से प्रतिक्रिया आई। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने एएनआई से बातचीत के दौरान केंद्र पर पिछले तीन सालों में कश्मीर समस्या का हल निकलने के लिए कुछ नहीं करने का आरोप लगाया।

अय्यर ने कहा, मुझे उम्मीद है कि वे करते हैं लेकिन मुझे विश्वास नहीं है कि वे सफल हो पाएंगे क्योंकि जब तक वह अपनी मानसिकता नहीं बदलते और ‘हिंदू राष्ट्र’ स्थापित करने का प्रयास बंद नहीं कर देते, तब तक वह कश्मीर का हल नहीं निकाल पाएंगे। उन्होंने आगे कहा कि कश्मीर के लिए हल निकालने के बजाए, केंद्र ने वहां स्थिति को गंभीर कर दिया है। अय्यर के सुर में सुर मिलाते हुए यूपी कांग्रेस के अध्यक्ष राजबब्बर ने कहा कि सरकार इस कश्मीर की समस्याओं के बारे में बात करती है, लेकिन कार्यों में इसे पूरा नहीं करती है। इस मुद्दे को लेकर बीजेपी के पास दो डॉयलॉग हैं। पहला डायलॉग है कि यह एक पुरानी समस्या है। इसे लेकर वह कानून-व्यवस्था, सीमा नीति और विदेश नीति सबके बारे में कहते हैं। उनका दूसरा डायलॉग होता है कि यह निंदनीय और जल्द ही इसका मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। लेकिन तीन सालों में उन्होंने ऐसा कुछ भी नहीं किया।

बता दें कि सिक्किम के अपने तीन दिवसीय दौरे पर गृहमंत्री ने कहा था कि कश्मीर, कश्मीरी व कश्मीरियत सब हमारे हैं। पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान इस राज्य की मौजूदा स्थिति के लिए जिम्मेदार है। मोदी सरकार कश्मीर समस्या का स्थायी समाधान करेगी। लंबे अर्से से अशांत चल रहे राज्य को लेकर सरकार बेहद गंभीरता से रणनीति बना रही है। उनका कहना है कि हम पाक से द्विपक्षीय संबंध रखने के इच्छुक हैं। इसी वजह से 2014 में नरेंद्र मोदी के शपथग्रहण समारोह में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को आमंत्रित किया गया था, लेकिन उन्होंने इसका मतलब कुछ और निकाला।

कश्मीर: छात्रों ने की घाटी में पत्थरबाजी, स्कूल-कॉलेज रहेंगे बंद

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App