ताज़ा खबर
 

करतारपुर पर बहस में देश के रक्षा विशेषज्ञ ने PAK एक्सपर्ट को किया दुरुस्त, कहा- खाली ढोल न बजाएं, शर्म नहीं आती?

चीमा इस बीच बोले, "बीजेपी को अगर सिखों से वोट न चाहिए होते, तो वह इस चीज के लिए मंजूरी ही न देती।"

Author नई दिल्ली | Updated: November 7, 2019 11:39 PM
भारतीय सुरक्षा एक्सपर्ट ने करतारपुर कॉरिडोर के आसपास पाकिस्तानी सरकार द्वारा भिंडरावाला के कथित तौर पर पोस्टर लगाने को लेकर चीमा को घेरा था। (फाइल फोटो)

करतारपुर कॉरिडोर के उद्धाटन के मसले पर गुरुवार को एक टीवी डिबेट में भारतीय रक्षा विशेषज्ञ मे.ज (रिटायर्ड) विशंभर दयाल ने अपने तर्कों से पाकिस्तानी एक्सपर्ट कमर चीमा को बुरी तरह धो डाला। उन्होंने वहां इमरान खान सरकार द्वारा कथित तौर पर भिंडरावाले के पोस्टर लगवाने को लेकर पाक, पीएम इमरान खान और चीमा को घेरा। सख्त लहजे में पूछा कि वह डिबेट में खाली ढोल न बजाएं। ये सब करने पर उन्हें शर्म नहीं आती क्या?

यह मामला हिंदी चैनल आज तक की डिबेट से जुड़ा है। 7 नवंबर, 2019 को चैनल पर एंकर अंजना ओम कश्यप के साथ चर्चा में दयाल और चीमा समेत कई और मेहमान थे। डिबेट में एक पल ऐसा आया, जब भारतीय रक्षा विशेषज्ञ ने कहा, “आप सूफी पर्यटन को बढ़ावा देने की बात करते हैं। पर क्या गुरुनानक देव जी के जीवन पर कम तस्वीरें हैं, जो आपको भिंडरावाला के फोटो इस्तेमाल करने पड़े। अगर आपमें और आपकी इमरान खान की सरकार में थोड़ी भी तहजीब होती तो, तब पूरे कॉरिडोर पर आप दोनों तरफ गुरुनानक देव जी के फोटो लगवा देते। आप लोग छिपे हुए एजेंडा के तहत भारत को नुकसान पहुंचाना चाहते हैं। अगर आपके पास मेरे सवाल का जवाब है, तब बात करें। वरना खाली ढोल न बजाएं।”

चीमा इस बीच बोले, “बीजेपी को अगर सिखों से वोट न चाहिए होते, तो वह इस चीज के लिए मंजूरी ही न देती।” भारतीय एक्सपर्ट ने इसी पर उन्हें फिर दुरुस्त किया- आप बातें बड़ी-बड़ी करती हैं, पर मुद्दा आप लोगों का एक ही है। और, पूरा देश, सेना और आपकी ISI उसी पर चल रहा है। गुरुनानक देव जी की आत्मा को भी आप लोग दुख पहुंचा रहे हैं। हमारे लोग वहां पहुंचेंगे तो वे उन पोस्टर्स को फाड़ देंगे।

देखें, भारतीय रक्षा विशेषज्ञ ने आगे और कहाः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 महाराष्ट्र में नहीं बनी 9 नवंबर तक सरकार तब क्या होगा? राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी के पास रहेंगे ये ऑप्शंस
2 10 माह से अटकी थी सैलरी, 130 दिनों से कर रहा था प्रदर्शन; नहीं पूरी हुई मांग तो BSNL कर्मी ने दफ्तर में ही लगा ली फांसी
3 राम मंदिर पर चर्चा में फालतू बोल रहे थे पैनलिस्ट, एंकर का तंज- निबंध याद कर आएं हैं? वापस मुद्दे पर आएं