अकेले मोदी लहर से नहीं जीत जाएंगे कर्नाटक- बोले बीएस येदियुरप्पा; बंगाल BJP विधायक ने भी दिए पार्टी छोड़ने के संकेत

भाजपा कोर कमेटी की बैठक को संबोधित करते हुए येदियुरप्पा ने कहा, ‘‘आप सभी के लिए मेरा सुझाव है। आप में से किसी को भी विपक्ष को हल्के में नहीं लेना चाहिए। उनका अपना आकलन और ताकत है।’’

PM Modi, Modi Government, Modi with Mask
BJP के फायरब्रांड नेता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। फाइल फोटोः PTI

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने कहा है कि अकेले मोदी लहर से सूबे को नहीं जीता जा सकता है। रविवार (19 सितंबर) को दावणगेरे में उन्होंने यह बात अपने पार्टी सहयोगियों को आगाह करते हुए कही। भाजपा कोर कमेटी की बैठकभाजपा कोर कमेटी की बैठक को संबोधित करते हुए येदियुरप्पा ने कहा, “इस भ्रम में बिल्कुल भी न रहें कि हम सभी चुनाव सिर्फ पीएम मोदी का नाम इस्तेमाल कर के जीत सकते हैं। हो सकता है कि लोकसभा चुनाव जीतना आसान हो, मगर राज्य में हम उस पर निर्भर नहीं रह सकते। हमें लोगों के पास विकास कार्यों को लेकर जाना होगा।”

“विपक्ष को न लें हल्के में”: येदियुरप्पा आगे बोले, ‘‘आप सभी के लिए मेरा सुझाव है। आप में से किसी को भी विपक्ष को हल्के में नहीं लेना चाहिए। उनका अपना आकलन और ताकत है।’’ लिंगायत समुदाय से आने वाले पूर्व सीएम ने दावा किया कि कांग्रेस के कुछ नेता भाजपा के कुछ नेताओं के संपर्क में हैं। उन्होंने कहा, ‘‘आपको ऐसी किसी घटना (दलबदल) का मौका दिए बिना विश्वास के साथ चलना है। हमें अगले विधानसभा चुनाव में 140 सीटों के साथ भाजपा की सत्ता में वापसी के लिए ईमानदार प्रयास करने होंगे।’’

बंगाल में MLA ने बढ़ाई BJP की टेंशन!: उधर, पश्चिम बंगाल में रायगंज से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक कृष्ण कल्याणी ने पार्टी छोड़ने के संकेत दे डाले। उन्होंने पार्टी नेतृत्व के खिलाफ अपनी नाराजगी जताते हुए कहा कि अगर उनकी शिकायतों का समाधान नहीं किया गया तो वह जल्द ही अपने राजनीतिक भविष्य का फैसला करेंगे।

विकल्पों पर कर रहा हूं विचार- कल्याणीः कोलकाता में पत्रकारों से वह आगे बोले ‘‘मैंने पार्टी के सभी कार्यक्रमों से खुद को दूर कर लिया है और मैंने मुद्दों के समाधान के लिए एक समय सीमा दी है, अन्यथा मुझे सोचना होगा।’’ हालांकि, कल्याणी ने अपनी शिकायतों के बारे में विस्तार से नहीं बताया। यह पूछे जाने पर कि क्या वह किसी अन्य पार्टी में शामिल होंगे, कल्याणी ने कहा कि वह विकल्पों पर विचार कर रहे हैं और सही समय पर अपना निर्णय सार्वजनिक करेंगे।

बाबुल-रॉय पहले ही दे चुके हैं झटकाः बता दें कि बंगाल विस चुनाव के दो मई को नतीजे आने के बाद सांसद बाबुल सुप्रियो और मुकुल रॉय समेत चार विधायक तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में शामिल होने के लिए भाजपा छोड़ चुके हैं। कल्याणी ने कहा, ‘‘यह देखना होगा कि वे किन परिस्थितियों में पार्टी छोड़ रहे हैं।’’ उत्तर दिनाजपुर में टीएमसी जिला नेतृत्व ने कहा कि वे कल्याणी का पार्टी में स्वागत करेंगे।

जिंदगी ने नया रास्ता खोला- बाबुलः भाजपा छोड़ बंगाल में टीएमसी का दामन थामने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो ने कहा कि जिंदगी ने सार्वजनिक मामलों से ‘रिटायर्ड हर्ट’ (सक्रिय न रहने) होने की आशंका के बजाए उनके लिये एक नया रास्ता खोल दिया है। सुप्रियो ने कहा कि उन्हें किसी को कुछ साबित नहीं करना है और वह 2014 में आसनसोल से भाजपा के टिकट पर सांसद बनने के बाद से ही जमीनी स्तर की राजनीति करते रहे हैं।

दीदी ने सुप्रियो को दी थी लिफ्टः टीएमसी मुख्यालय में एक पीसी में उन्होंने बताया, ‘‘जब मैं प्रधानमंत्री के एक कार्यक्रम के बाद अपनी कार की प्रतीक्षा कर रहा था, दीदी ने मुझे जाते समय देखा और लिफ्ट देने की पेशकश की। मैं सहमत हो गया क्योंकि मुझे अपने निर्वाचन क्षेत्र में प्रमुख परियोजनाओं के बारे में बात करनी थी। और, जब उन्होंने मुझे झालमुरी की पेशकश की, तो मैंने उसे स्वीकार कर ली। इसमें गलत बात क्या है?”

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट