ताज़ा खबर
 

कर्नाटक: बहुमत परीक्षण के बीच ‘काला जादू’ पर चर्चा, बीजेपी बोली- CM के भाई नंगे पांव, नींबू क्यों लाए असेंबली?

सीएम कुमारस्वामी के विश्वास प्रस्ताव पर मतदान के बिना ही विस सोमवार (22 जुलाई, 2019) तक के लिए स्थगित कर दी गई है। विस स्पीकर केआर रमेश कुमार ने कांग्रेस-जद(एस) सरकार के राज्यपाल वजु भाई वाला द्वारा तय की गई दो डेडलाइन को पूरा न कर पाने पर सदन को सोमवार तक के लिए स्थगित किया।

Karnataka Crisis, Karnataka Assembly, HD Kumarswamy, Revanna Kumarswamy, Bare Foot, 'Black Magic', Lemons, Trust Vote Debate, BJP, Video, National Newsकर्नाटक विधानसभा सोमवार तक के लिए स्थगित कर दी गई है। (फोटोः ANI)

कर्नाटक का सियासी संकट फिलहाल टला नहीं है। शुक्रवार (19 जुलाई, 2019) को दो बार डेडलाइन के बावजूद बहुमत परीक्षण नहीं हो सका, जबकि सदन में ‘काला जादू’ पर चर्चा होने लगी। बीजेपी ने कहा कि मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के भाई, कबीना मंत्री और एचडी देवगौड़ा के बेटे एचडी रेवन्ना नंगे पांव विधानसभा पहुंचे।

सीएम कुमारस्वामी ने इसी पर कहा- आप रेवन्ना पर नींबू लाने का आरोप लगाने रहे हैं? आप (बीजेपी) हिंदू संस्कृति में विश्वास रखते हैं, फिर भी आप उन पर दोष मढ़ रहे हैं। वह अपने साथ नींबू लाते हैं और मंदिर जाते हैं, पर आप उन पर काला जादू करने का आरोप लगाते हैं। क्या यह सच में संभव है कि कोई सरकार काला जादू से बचाई जा सकती है?

देखें, रेवन्ना किस हालत में पहुंचे थे कर्नाटक विधानसभाः

बता दें कि सीएम कुमारस्वामी के विश्वास प्रस्ताव पर मतदान के बिना ही विस सोमवार (22 जुलाई, 2019) तक के लिए स्थगित कर दी गई है। विस स्पीकर केआर रमेश कुमार ने कांग्रेस-जद(एस) सरकार के राज्यपाल वजु भाई वाला द्वारा तय की गई दो डेडलाइन को पूरा न कर पाने पर सदन को सोमवार तक के लिए स्थगित किया।

उन्होंने इससे पहले साफ किया कि सोमवार को विश्वास प्रस्ताव पर अंतिम निर्णय लिया जाएगा और इसे अन्य किसी भी परिस्थिति में आगे नहीं बढ़ाया जाएगा।

‘किसी MLA ने नहीं मांगी सुरक्षा’: कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष केआर रमेश कुमार ने कहा है कि किसी भी विधायक ने उनसे सुरक्षा नहीं मांगी है। उन्होंने कांग्रेस के इन आरोपों के बीच यह बात कही कि सरकार को गिराने के लिए बागी विधायकों को बंधक बनाया गया है। विधानसभा में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एच के पाटिल ने विधानसभा अध्यक्ष से अनुरोध किया कि शहर के बाहर रोककर रखे गये विधायक सत्र में भाग ले सकें, इसके लिए सुगम माहौल बनाया जाए।

कुमार के अनुसार, “किसी ने सुरक्षा की मांग नहीं की है। ना ही उनके परिवार वाले आए हैं। इसलिए मुद्दा यहीं समाप्त होता है।” कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डी के शिवकुमार ने कहा कि वह मुंबई गये थे जहां बागी विधायकों को रखा गया है और उनकी सूचना के मुताबिक उन्हें बंधक बनाकर रखा गया है। (पीटीआई-भाषा इन्पुट्स के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मॉब लिंचिंग पर डिबेट में वरिष्ठ पत्रकार ने LJP प्रवक्ता को हड़काया- डॉन्ट बिहैव लाइक डिक्टेटर वर्ना…
2 सोनभद्र कांड: ‘बच्चे को गोली लगी है, उसकी मां का सिर कुचला गया’, प्रियंका गांधी ने बताया अस्पताल का आंखों देखा हाल
3 आजम खान का तंज- मुझे डर है कहीं मदन मोहन मालवीय भी मरणोपरांत भूमाफिया न करार दिए जाएं