ताज़ा खबर
 

कर्नाटक में बंदर की मौत पर लोगों ने बनवाया मंदिर, हिंदू रीति रिवाज से किया अंतिम संस्कार; गांव के मुखिया ने दिया पैसा

ये बंदर पालतू जानवरों की तरह खेला करते थे। बच्चों को भी उनके साथ काफी मजा आता था। इससे ये बंदर कॉलोनी वालों के लिए बड़े करीबी हो गए थे।

Author बेंगलूरु | Published on: January 11, 2020 5:25 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर (इंडियन एक्सप्रेस)

कर्नाटक के दावणगेर जिले के चन्नागिरी तालूक (Channagiri Taluq) के एसवीआर कॉलोनी में स्थानीय लोगों ने एक मंदिर बनवाया है। मंदिर की स्थापना एक बंदर की याद में की गई है, जिसकी हाल ही में अचानक मौत हो गई थी। स्थानीय लोगों का कहना है कि उस बंदर से उनकी भावनाएं जुड़ी थीं।

तीन महीने पहले झुंड में आया था : लोगों के मुताबिक तीन महीने पहले कॉलोनी में बंदरों का एक समूह आ गया था। ये बंदर कभी भी वहां किसी को परेशान नहीं किए। खास बात यह है कि यहां के बच्चों के साथ ये बंदर पालतू जानवरों की तरह खेला करते थे। बच्चों को भी उनके साथ काफी मजा आता था। इससे ये बंदर कॉलोनी वालों के लिए बड़े करीबी हो गए थे।

Hindi News Today, 11 January 2020 LIVE Updates: देश की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

कॉलोनी के बच्चों के साथ खेलता था : स्थानीय लोगों का मानना है कि बंदरों का समूह बड़ा ही नम्र और आज्ञाकारी था। वे साथ-साथ खेलते और खाते थे। सबके साथ घुल-मिल गए थे। दुर्भाग्यवश पिछले बुधवार को एक बंदर का अचानक निधन हो गया। इससे लोगों को काफी निराशा हुई। कॉलोनी वालों को किसी अपने के चले जाने जैसा महसूस हुआ।

पूरी रीति रिवाज के साथ किया विदा : मृत बंदर से अपने जुड़ाव के प्रति अपनी संवेदना प्रकट करने के लिए स्थानीय लोगों ने हिंदू रीति-रिवाजों के साथ उसका अंतिम संस्कार किया। बाद में लोगों ने गांव के मुखिया से मिलकर उसकी याद में एक मंदिर बनाने के लिए फंड की मांग की। फंड मिलने पर वहां मंदिर बनना शुरू हो गया। मंदिर उसी जगह बनाया जा रहा है, जहां उसका अंतिम संस्कार हुआ था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X
Next Stories
1 आशुतोष का ट्वीट, ‘अब बचा क्या है देश में?’, ट्रोल्स ने लगाई क्लास; बोले- कागज हम दिखाएंगे, आपके भी बनवाएंगे
2 Indian Railways: जल्द कश्मीर से जुड़ेगी रेल लाइन, देश में तैयार हो रहा विश्व का सबसे ऊंचा रेल ब्रिज; एफिल टावर से भी है ऊंचा
3 UP में घड़ियाली आंसू बहाती हैं प्रियंका गांधी, लेकिन कोटा की मांओं के पास नहीं जातीं; मायावती का हमला
ये पढ़ा क्या?
X