scorecardresearch

बेंगलुरु: NIA ने डॉक्टर को लिया हिरासत में, आतंकी संगठन ISIS का सदस्य होने का आरोप, आतंकवादियों के इलाज के लिए गया था सीरिया!

एनआईए प्रवक्ता सोनिया नारंग ने कहा, ‘‘पूछताछ के दौरान गिरफ्तार आरोपी रहमान ने कबूल किया कि वह आरोपी सामी और सीरिया स्थित आईएसआईएस के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर आईएसआईएस गतिविधियों को आगे बढ़ाने के लिए साजिश रच रहा था।”

NIA, ISIS, Bengaluru, Opthamologist,
एनआईए ने बताया कि गिरफ्तार आतंकी रहमान ने बातचीत में कुछ अहम राज उजागर किये है। उसने बताया कि वह वानी समेत सीरिया स्थित कई आईएसआईएस आतंकियों के साथ मिलकर साजिश रचने की बात कबूली है। (फोटो-NIA)

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने आतंकवादी संगठन आईएसआईएस के सदस्यों के संपर्क में रहने के आरोप में बेंगलुरु के एक मेडिकल कॉलेज के एक नेत्र चिकित्सक को गिरफ्तार किया है। अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि एम एस रमैया मेडिकल कॉलेज में कार्यरत 28 वर्षीय अब्दुर रहमान को सोमवार को इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रोविंस (आईएसकेपी) मामले में एजेंसी द्वारा की जा रही जांच के सिलसिले में हिरासत में लिया गया। राष्ट्रीय राजधानी के ओखला विहार, जामिया नगर से कश्मीरी दंपति, जहांजैब सामी वानी और उसकी पत्नी हिना बशीर बेग की गिरफ्तारी के बाद मार्च, 2020 में आईएसकेपी मामला दिल्ली पुलिस विशेष प्रकोष्ठ ने दर्ज किया था।

दंपति का संबंध आईएसकेपी से था जो आईएसआईएस से संबद्ध समूह है। एनआईए प्रवक्ता सोनिया नारंग ने कहा, ‘‘पूछताछ के दौरान गिरफ्तार आरोपी रहमान ने कबूल किया कि वह आरोपी सामी और सीरिया स्थित आईएसआईएस के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर आईएसआईएस गतिविधियों को आगे बढ़ाने के लिए साजिश रच रहा था।”

एनआईए ने बताया कि गिरफ्तार आतंकी रहमान ने बातचीत में कुछ अहम राज उजागर किये  है। उसने बताया कि वह वानी समेत सीरिया स्थित कई आईएसआईएस आतंकियों के साथ मिलकर साजिश रचने की बात कबूली है। एनआईए ने बताया कि वह 2014 के शुरुवाती महीनों में सीरिया गया था। वहां इसने आईएसआईएस के घायल का इलाज किया था। यह वहां 10 दिन बिताकर भारत लौटा था।

जांच एजेंसी एनआईए ने एक बयान में कहा यह मामला दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ द्वारा मार्च 2020 में कश्मीरी दंपति जहानज़िब समी वानी और उसकी पत्नी हिना बशीर शेख की गिरफ़्तारी के बाद शुरू किया गया था। इस दंपत्ति को इस्लामिक स्टेट से जुड़े प्रतिबंधित आतंकी संगठन आईएसकेपी का सदस्य पाया गया था। यह संगठन देश में राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में लिप्त है। एनआईए ने बताया कि इनका संपर्क तिहाड़ जेल में बंद आतंकी अब्दुल बासित से भी पाया गया था। जो की आईएसआईएस अबू डाभी मोड्यूल का सदस्य है। वहीं अभी तक इसके अतिरिक्त इस संगठन के 2 सदस्य पुणे से भी गिरफ्तार किये जा चुके हैं।

नारंग ने कहा कि वह घायल आईएसआईएस कैडरों की मदद के लिए मेडिकल ऐप तथा लड़ाकों के लिए हथियार से संबंधित ऐप विकसित करने की प्रक्रिया में था।  रहमान की गिरफ्तारी के बाद एनआईए ने उसके तीन परिसरों की तलाशी ली और डिजिटल उपकरणों, मोबाइल फोन, लैपटॉप आदि जब्त किए।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट