ताज़ा खबर
 

भाजपाई मंत्री ने कांग्रेस नेताओं को कहा हिजड़ा, बोले- 50 हजार मुस्लिम वोट खोने के डर से चाह कर भी नहीं जॉइन कर रहे थे बीजेपी

ग्रामीण विकास और पचांयती राज मंत्री ने यह टिप्पणी दक्षिण पंथी संगठन श्री राम सेना द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान की।

Author Published on: September 18, 2019 9:26 AM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

सीएम बीएस येदियुरप्पा की अगुवाई वाली कर्नाटक सरकार में कैबिनेट मिनिस्टर केएस ईश्वरप्पा ने कांग्रेस नेताओं और मुस्लिमों के खिलाफ विवादित बयान दिया है। एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के मुताबिक कैबिनेट मिनिस्टर ने कहा कि मुस्लिम वोट खोने के डर से कांग्रेस नेता भाजपा में शामिल होने के लिए दुविधा में पड़े थे। उन्होंने कहा, ‘क्या होगा अगर हमें मुस्लिम वोट ना मिलें तो? सत्ता में आने से पहले मैं कुछ कांग्रेसी विधायकों से मिला जो भाजपा में शामिल होने के लिए तैयार थे। मगर हर कोई अपने विधानसभा क्षेत्र में 50 हजार मुस्लिम वोटों के खोने के चलते डरा हुआ था। यह ‘हिजड़ा’ होने का संकेत देता है।’

ग्रामीण विकास और पचांयती राज मंत्री ने यह टिप्पणी रविवार को दक्षिण पंथी संगठन श्री राम सेना द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान की। इसी कार्यक्रम में कैबिनेट मिनिस्टर ने सुझाव दिया कि जो मुस्लिम भाजपा को वोट नहीं देते वो पाकिस्तानी समर्थक हैं। देशभक्त मुस्लिम भाजपा को वोट देते हैं मगर जो पाकिस्तान का समर्थन करते हैं वो हमें वोट नहीं देते। इस दौरान उन्होंने गोहत्या पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने की भी मांग की।

अंग्रेजी अखबार टेलीग्राम में छपी खबर के मुताबिक कांग्रेस नेता पर विवादित टिप्पणी के चलते युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा नेता के खिलाफ एक शिकायत दर्ज करवाई है। साथ ही मांग की मुस्लिमों के खिलाफ टिप्पणी के चलते उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए।

कांग्रेस प्रवक्ता वीसी उगरप्पा ने कहा, ‘भाजपा नेता की टिप्पणी उनकी मानसिकता और संस्कृति को दर्शाती है।’ उन्होंने कहा कि भाजपा पूरे देश में सांप्रदायिक अशांति चाहती है जो अल्पसंख्यक समुदाय को निशाने बनाने के लिए केएस ईश्वरप्पा जैसे नेताओं को बढ़ावा देती है ताकि जो हिंदुत्व की विचारधारा का समर्थन ना करे उसे निशाना बनाया जा सके।

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘अगर गो हत्या पर प्रतिबंध उन्हें और उनकी पार्टी को खासा प्रिय हैं तो मैं उन्हें चुनौती देता हूं कि जाएं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस मुद्दे पर बात करें व गोमांस के निर्यात पर प्रतिबंध लगाएं।’ उन्होंने कहा सभी जानते हैं कि गोमांस का निर्यात करने वाले सबसे बड़े कारोबारी गुजरात से हैं। उन्होंने भाजपा नेताओं से अपील करते हुए कहा कि वह जाएं और कानून पड़े जिसमें कहा गया कि केवल निश्चित उम्र वालों जानवरों को ही वध किया जा सकता है।

कांग्रेस नेता ने आगे कहा, ‘एक उम्र के पूरा हो जाने के बाद एक किसान उस पशु का क्या करेगा? वह युवा पशु को खरीदने के लिए उसे बेच देगा। जाहिर है कि ये सभी पशु बूचड़खाने में जाते हैं।’

उल्लेखनीय है कि इस साल अप्रैल में लोकसभा चुनाव के दौरान ईश्वरप्पा ने अजीब बयान देते हुए कहा था कि भाजपा मुस्लिमों को टिकट नहीं देगी। कांग्रेस नेता कहा, ‘हम मुस्लिमों को टिकट ना दें…मगर क्यों। क्या आप विश्वास नहीं करते।’

दक्षिणपंथी संगठन के कार्यक्रम के दौरान ईश्वरप्पा ने यह भी कहा कि ईसाई ईमानदार और अपने देश के प्रति वफादार नहीं होते। कैबिनेट मिनिस्टर के इस बयान के बाद ईसाई समुदाय ने उनसे माफी मांगने की मांग की है, हालांकि उन्होंने इसे ठुकरा दिया।

इसी बीच टीपू युनाइटेड फ्रंट के अध्यक्ष सरदार कुरैशी ने भाजपा नेता के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘हम भारतीय नागरिक हैं और हमें अपनी मातृभूमि के प्रति वफादारी साबित करने के लिए उनके प्रमाणपत्र की जरुरत नहीं है।’ उन्होंने कहा, ‘हर कोई जानता है कि वो एक बाद एक किस तरह विवादों को बढ़ावा दे रहे हैं। मगर ये सभी मोर्चों पर पूरी तरह से विफल रहे। वो ऐसा करके सिर्फ लोगों का ध्यान आकर्षित करते हैं।’

जानना चाहिए की भाजपा आलाकमान ने अभी ईश्वरप्पा के बयान पर टिप्पणी नहीं दी है। एक बयान में प्रदेश इकाई के पार्टी पदाधिकारी ने कहा, ‘हम इस मामले में कुछ भी नहीं कहना चाहते।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 PM से मिलने दिल्ली आ रही थीं ममता बनर्जी, एयरपोर्ट पर MODI की पत्नी जसोदाबेन दिखीं तो मिलने दौड़ पड़ीं, तोहफे में दी साड़ी
2 RSS के स्मृति मंदिर पहुंचे दिग्गज कारोबारी राहुल बजाज, हेडगेवार और गोलवलकर को दी श्रद्धांजलि
3 उत्तर प्रदेश: अलग-अलग समुदाय के नाबालिग लड़का-लड़की भागे, आगरा में सांप्रदायिक हिंसा, दो दुकानें जलाईं