ताज़ा खबर
 

कर्नाटक: कांग्रेस-जेडीएस में अब बजट पर रार, 25 दिन में तीसरी बार राहुल गांधी से मिले कुमारस्वामी

कांग्रेस-जेडीएस की सरकार में इससे पहले मंत्रिमंडल गठन और विभागों के बंटवारे को लेकर भी गतिरोध हुआ था। तब अमेरिका से राहुल गांधी को फोन पर मामले में हस्तक्षेप करना पड़ा था।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मिलते कर्नाटक सीएम कुमरस्वामी। साथ में जेडीएस नेता दानिश अली और कांग्रेस प्रभारी केसी वेणुगोपाल। (फोटो- ANI)

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने सरकार बनने के बाद आज (18 जून) तीसरी बार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की है। उनके साथ जेडीएस नेता दानिश अली और कांग्रेस प्रभारी केसी वेणुगोपाल भी थे। इस बार कांग्रेस और जेडीएस के बीच 2018-19 के बजट पर तकरार है। सीएम कुमारस्वामी जहां पूर्ण बजट लाना चाह रहे हैं, वहीं पूर्व मुख्यमंत्री और दोनों पार्टियों की कॉर्डिनेशन कमेटी के अध्यक्ष सिद्धरमैया पूरक बजट लाने की सलाह दे रहे हैं। सिद्धरमैया का तर्क है कि कुछ महीने पहले ही उन्होंने 2018-19 का बजट पेश किया था, इसलिए पूर्ण बजट पेश करने की जरूरत नहीं है। उनका तर्क है कि अगर सीएम को कुछ नई योजनाएं उस बजट में शामिल करना है तो पूरक बजट लाकर पुरानी और नई योजनाओं को क्रियान्वित किया जा सकता है जबकि कुमारस्वामी का तर्क है कि जब भी नई सरकार आती है तो वो पूर्ण बजट पेश करती है। राज्य में भी नई सरकार के गठन के बाद अब पूर्ण बजट पेश किया जाना चाहिए।

दरअसल, मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी पर किसानों के कर्ज माफी को लेकर जबर्दस्त राजनीतिक दबाव है। इसके लिए उन्होंने नीति आयोग की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी बात की है और कर्ज माफी के भार का 50 फीसदी हिस्सा केंद्र सरकार से वहन करने की अपील की है। इनके अलावा कांग्रेस और जेडीएस दोनों दल अपने-अपने चुनावी घोषणा पत्र में किए गए वादों के मुताबिक कुछ योजनाएं नए बजट में शामिल करना चाहते हैं। कॉर्डिनेशन कमेटी दोनों दलों के वादों को बजट में शामिल करने की मंजूरी देगी। ऐसे में माना जा रहा है कि पूरक बजट से काम नहीं चलेगा। लिहाजा, पूर्ण बजट पेश किया जाना चाहिए।

बता दें कि कांग्रेस-जेडीएस की सरकार में इससे पहले मंत्रिमंडल गठन और विभागों के बंटवारे को लेकर भी गतिरोध हुआ था। तब अमेरिका से राहुल गांधी को फोन पर मामले में हस्तक्षेप करना पड़ा था। इसके बाद सरकार गठन के करीब एक पखवाड़े बाद मंत्रिमंडल विस्तार हो सका। हालांकि, सरकार पर किसी भी तरह के संकट से सीएम कुमारस्वामी इनकार करते रहे हैं। कुछ दिनों पहले ही उन्होंने कहा था कि साल 2019 तक कोई भी उनकी सरकार को हिला भी नहीं सकता है। उनके इस कथन से स्पष्ट है कि जब तक लोकसभा चुनाव नहीं हो जाता तब तक राज्य में गठबंधन सरकार काम करती रहेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App