CM येदियुरप्पा का इस्तीफाः जज्बाती हो बोले- खफा नहीं, खुश हूं; कर्नाटक पर शाह-नड्डा ने की मंत्रणा

तमाम सियासी अटकलों के बीच बीएस येदियुरप्पा ने सोमवार को कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। उनके इस्तीफे के साथ कर्नाटक में अगले मुख्यमंत्री की चर्चाओं ने जोर पकड़ लिया है।

Karnataka CM BS Yediyurappa, BS Yediyurappa Resign, Resignation Yediyurappa
बीएस येदियुरप्पा ने इस्तीफे का ऐलान किया। (फाइल फोटो)- Photo Source- PTI

तमाम सियासी अटकलों के बीच बीएस येदियुरप्पा ने सोमवार को कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। बंगलुरु में राजभवन में गवर्नर थावरचंद गहलोत इस्तीफा मंजूर कर लिया है। कर्नाटक के राज्यपाल थावर चंद गहलोत ने मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा का इस्तीफा स्वीकार किया और उनसे अगले मुख्यमंत्री के शपथ लेने तक कार्यवाहक मुख्यमंत्री बने रहने को कहा। इस्तीफे के बाद येदियुरप्पा ने कहा कि उन्होंने हाईकमान के दबाव में यह इस्तीफा नहीं दिया बल्कि खुद इसकी पेशकश की थी। उन्होंने कहा कि मैं अब पार्टी को मजबूत करने का काम करुंगा।

उन्होंने कहा कि दो साल कर्नाटक की सेवा करने का मौका देने के लिए मैं पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जे.पी. नड्डा का आभारी हूं। मैंने 2 दिन पहले इस्तीफा देने का फैसला लिया था और राज्यपाल ने मेरा इस्तीफा स्वीकार कर लिया है।

इस्तीके के साथ ही राज्य में नए मुख्यमंत्री के नाम की गहमागहमी तेज हो गई है। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह औऱ पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा के बीच बैठक चल रही है। येदियुरप्पा का इस्तीफा उस दिन हुआ है जब उनकी सरकार के दो साल पूरे हो रहे हैं। इस संबंध में सूबे में कई कार्यक्रमों का आयोजन भी किया गया है।

भावुक हुए येदियुरप्पा: भाजपा के कद्दावर नेता माने जाने वाले येदियुरप्पा उस वक्त भावुक हो गए जब वह इस्तीफे के ऐलान के बाद मीडिया के सामने आए। उन्होंने कहा कि मैं हर वक्त अग्नीपरीक्षा से गुजरा हूं।

10 दिनों पहले अटकलबाजियों ने पकड़ा था जोर: बीएस येदियुरप्पा ने 16 जुलाई ने दिल्ली पहुंचकर पीएम मोदी से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद से ही येदियुरप्पा के इस्तीफे की अटकलों ने जोर पकड़ा था। पीएम मोदी से मुलाकात के बाद पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्‌डा और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। सूत्रों के अनुसार येदियुरप्पा ने अपने स्वास्थ्य का हवाला देते हुए खुद से ही इस्तीफे की पेशकश की थी और अपने बेटे को सियासी पद देने की भी गुजारिश की थी।

इस्तीफे की अटकलों को येदियुरप्पा ने कभी भी पूरी तरह से खारिज नहीं किया। कयासबाजी के दौर में उन्होंने इस्तीफे के संकेते देते हुए कहा था कि मैं आखिरी मिनट तक काम करुंगा, जब भी मुझसे कहा जाएगा मैं इस्तीफा देने के लिए तैयार हूं।

नई CM की रेस में: फिलहाल इस इस्तीफे के साथ ही कर्नाटक की राजनीति में नई संभावनाओं ने भी जन्म ले लिया है कि अगला मुख्यमंत्री कौन होगा। इस रेस में  कर्नाटक के मौजूदा खनन और भूविज्ञान मंत्री मुरुएश आर, येदियुरप्पा के करीबी कहे जाने वाले बासवराज बोम्मई और RSS के करीबी माने जाने वाले बसनगौड़ा पाटिल यतनाल का नाम शामिल है।

इस्तीफे के संभावित कारण: येदियुरप्पा बीजेपी के पुराने और कद्दावर नेता माने जाते हैं। कर्नाटक लिंगायत समुदाय पर उनकी जबरदस्त पकड़ रही है। प्राप्त जानकारी के अनुसार, हाल ही के दिनों में उनकी कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए कई विधायकों ने आलाकमान से शिकायत की थी। इसके अलावा वह बीजेपी के 75 की उम्र वाले पैरामीटर पर फिट नहीं बैठ रहे थे। 78 वर्षीय येदियुरप्पा को लेकर सवाल उठाए जा रहे थे कि मार्गदर्शक की उम्र में उन्हें मुख्यमंत्री की कुर्सी पर क्यों बिठाया गया है। आगामी चुनावों को देखते हुए पार्टी नेतृत्व भी नए चेहरे के नाम पर सहमत दिखाई दे रहा है।

 

अपडेट
X