ताज़ा खबर
 

CM को संत देने लगे ‘ज्ञान’ तो भड़क कर बोले बीएस येदियुरप्पा- मैं ये सब सुनने नहीं आया; छोड़ कर जाने वाले थे मंच

संत की बात सुनते ही येदियुरप्पा के चेहरे लाल हो गए और वे तुरंत अपनी जगह से उठ खड़े हुए। उन्होंने कहा कि मैं यहां यह सब सुनने के लिए नहीं हूं।

लिंगायत रैली में जाने के लिए मंच से उठ खड़े हुए येदियुरप्पा (Photo: ANI)

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा मंगलवार को एक सार्वजनिक कार्यक्रम में अपना आपा खो बैठे और मंच से जाने लगे। हालांकि लिंगायत संत वचनानंद स्वामी ने उन्हें मंच पर रोक लिया। दरअसल कर्नाटक के दवंगेरे में लिंगायत रैली के दौरान वचनानंद स्वामी ने कहा, “मुख्यमंत्री, आप मेरे बगल में हैं। मैं आपको बताना चाहता हूं, मुरुगेश निरानी को नजरअंदाज न करें। यदि आप अब उनकी देखभाल नहीं करते हैं, तो आप पूरे समुदाय का समर्थन खो देंगे।” स्वामी मुरुगेश निरानी को मंत्रिमंडल में शामिल करने की मांग कर रहे थे।

संत की बात सुनते ही येदियुरप्पा के चेहरे लाल हो गए और वे तुरंत अपनी जगह से उठ खड़े हुए। उन्होंने कहा, “मैं यहां यह सब सुनने के लिए नहीं हूं। मैं आपकी मांगों के अनुसार काम नहीं कर सकता। मैं जा रहा हूं।” उन्होंने संत के पैर छुए और जाने लगे लेकिन वचनानंद ने आग्रह कर उन्हें रोक लिया। इसके बाद मुख्यमंत्री फिर से अपनी कुर्सी पर बैठ गए। इस पूरे घटनाक्रम के दौरान राज्य के गृह मंत्री बसवराज बोम्मई और अन्य भाजपा नेता मौजूद थे। एएनआई के अनुसार इस मामले पर येदियुरप्पा ने कहा, “पंचमाली लिंगायत समुदाय के लिए के लोगों को मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने के बारे में अभी तक कोई चर्चा नहीं हुई है।”

इस घटना के बाद येदियुरप्पा ने रैली को संबोधित करते हुए अपने इस्तीफे की पेशकश की। उन्होंने जोर देकर कहा कि वह उन 17 बागी विधायकों की “देखभाल करने” के लिए मजबूर थे जिन्होंने उन्हें मुख्यमंत्री बनाने में मदद करने के लिए अपनी पार्टियों को छोड़ दिया था। उन्होंने कहा, मैं संत से अनुरोध करता हूं, कृपया मेरी स्थिति को समझें। 17 विधायकों ने विधायक और मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। यदि वे नहीं होते तो येदियुरप्पा मुख्यमंत्री नहीं होते। यह उनके त्याग और आपके सभी आशीर्वादों के कारण है कि मैं राज्य का सीएम बन गया हूं। आप मुझे सुझाव देते हैं तो मैं व्यक्तिगत रूप से आऊंगा और चर्चा करूंगा। अगर आपको जरूरत नहीं है, तो मैं कल इस्तीफा देने को तैयार हूं।”

बिलगी के एक विधायक मुरुगेश निरानी लिंगायत समुदाय से हैं और समुदाय के चेहरे के रूप में भाजपा के भीतर एक मजबूत चेहरे के रूप में गिने जाते हैं। लिंगायतों के पास कर्नाटक में भाजपा के वोटों की संख्या है। संभावना जताई जा रही है कि इस महीने के बाद येदियुरप्पा मंत्रिमंडल में नए सदस्यों को शामिल किया जा सकता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Delhi Assembly Polls 2020: 15 सीटों पर घमासान संभालना होगा सबसे बड़ी चुनौती, इन सीटों पर मौजूदा विधायकों के नाम काटे ‘आप’
2 CAA पर पल-पल बदल रहा जदयू का रुख, बिहार सरकार के मंत्री बोले- समर्थन में मतदान किया है, अपने रुख पर कायम हैं
ये पढ़ा क्या?
X