ताज़ा खबर
 

GST में रोटी-पराठे में भी फर्क! अथॉरिटी ने कहा- दोनों अलग चीजें, एक पर 18 तो दूसरे पर 5 फीसदी लगेगा टैक्स, लोगों ने उड़ाया मजाक

अलग-अलग उत्पादों पर जीएसटी दरों का निर्धारण करने वाली अथॉरिटी फॉर एडवांस रूलिंग्स (AAR) ने यह फैसला सुनाया है।

Roti Paratha, GSTजीएसटी में अब रोटी और पराठे पर लगने वाली दरों में भी फर्क।

गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) की 3 साल पहले हुई लॉन्चिंग के बाद से लेकर अब तक इसमें सामानों के वर्गीकरण और उसके हिसाब से लगने वाले टैक्स को लेकर संशय की स्थित बनी रही है। मोदी सरकार दावे कर रही थी कि जीएसटी से हर जगह टैक्स समान होने के साथ लोगों को चीजों की खरीदारी में आसानी होगी, लेकिन अब तक टैक्स सिस्टम में कई चीजें साफ नहीं हैं। ताजा मामला खाने की ही दो चीजों का है। अथॉरिटी फॉर एडवांस रूलिंग्स (AAR) की कर्नाटक बेंच ने कहा है कि रोटी और पराठा एक चीज नहीं हैं और इसीलिए पराठे पर 18 फीसदी की दर से जीएसटी लगेगा, जबकि रोटी के लिए यह 5 फीसदी ही रहेगा।

दरअसल, AAR एक प्राइवेट फूड मैन्युफैक्चरिंग कंपनी व्हाइटफील्ड की एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी। रेडिमेड फूड आइटम्स के लिए लोकप्रिय यह कंपनी AAR के पास गेहूं के आटे से बने पराठे और मालाबार पराठों पर जीएसटी की दर तय करवाने के मकसद से गई थी। याचिका में कहा गया था कि पराठे भी प्लेन चपाती, खाखरा या रोटी के वर्ग में ही आते हैं। बता दें कि रोटी पर जीएसटी सिर्फ 5 फीसदी ही लगता है।

हालांकि, AAR ने इसे मानने से इनकार कर दिया। प्राइसवॉटर्स कूप इंडिया (PwC) में इनडायरेक्ट टैक्स के जानकार प्रतीक जैन ने द टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि AAR ने यह मानने से इनकार कर दिया कि रोटी एक व्यापक शब्द है, जिसमें अलग-अलग तरह की भारतीय ब्रेड्स आ सकती हैं। AAR ने अपने आदेश में कहा, “रोटियां पहले से ही पकाया हुआ खाने का सामान होती हैं, जबकि पराठों को खाने से पहले गर्म करने की जरूरत होगी। इस लिहाज से पराठे रोटी के वर्ग में नहीं आते।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 महाराष्ट्र में तीसरे मंत्री हुए कोरोना पॉजिटिव, सीएम उद्धव बोले- नहीं लागू होगा दोबारा लॉकडाउन, दिल्ली सरकार का भी इनकार
2 अयोध्या के बाद अब काशी-मथुरा की बारी, सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर नरसिम्हा राव सरकार में बनाए गए कानून को दी गई चुनौती
3 ‘कोरोना पीड़ितों की लाश भी ठीक से नहीं रख सकते, परिजनों को भी नहीं बता रहे’, ये हो क्या रहा है? SC जजों ने लगाई फटकार
IPL 2020 LIVE
X