ताज़ा खबर
 

कारगिल शहीद सौरभ कालिया के पिता का गुरमेहर कौर को जवाब- मेरे बेटे को जंग ने नहीं, पाकिस्‍तान ने मारा

गुरमेहर कौर ने मंगलवार को खुद को 'डीयू बचाओ' आंदोलन से खुद को अलग कर लिया और कहा है कि उन्हें अकेला छोड़ दिया जाए।

GurMehar Kaur, Kargil Martyrs, Saurabh kalia, Capt Saurabh kalia, India Pakistan War, Kargil War, GurMehar Kaur vs ABVP, GurMehar Kaur DU, GurMehar Kaur Facebook, who is GurMehar Kaur, saurabh kalia father, GurMehar Kaur father, Saurabh Kalia Indian Army, Indian Army, Ramjas College, Delhi University, Indiaकैप्‍टन सौरभ कालिया को कारगिल युद्ध में पाकिस्‍तानी सेना ने बंदी बनाकर भयानक यातनाएं दी थीं।

दिल्‍ली यूनिवर्सिटी की छात्रा गुरमेहर कौर के ABVP के खिलाफ सोशल मीडिया पर चलाए गए कैंपेन को लेकर उठे विवाद पर कारगिल शहीद कैप्‍टन सौरभ कालिया के पिता ने प्रतिक्रिया दी है। कौर ने आरोप लगाया था कि अपने फेसबुक कैंपेन के बाद उन्‍हें बलात्‍कार की धमकी मिली थी। कैप्‍टन के पिता एनएन कालिया ने मंगलवार को कहा कि महिला का सम्‍मान और आबरू सबसे ऊपर है, उन्‍होंने कहा कि दोषियों को सजा मिलनी चाहिए। एएनआई से बातचीत में कालिया ने कहा, ”महिला का सम्‍मान, चाहे वह किसी भी जाति, नस्‍ल या धर्म की हो, सबसे अहम है और गुरमेहर कौर ने रेप की कोशिश की धमकियां मिलने का आरोप लगाया है। जो भी ऐसा दुस्‍साहसिक अपराध करने की कोशिश करता है, उसे कानून के हिसाब से सजा दी जानी चाहिए।” हालांकि कैप्‍टन कालिया के पिता ने गुरमेहर कौर के बयान कि ‘पाकिस्‍तान के उनके पिता को नहीं मारा, जंग ने मारा’ से असहमति जताई।

गुरमेहर के बयान पर कालिया ने कहा, ”यह कहना भारत के लिए उनके पिता और अन्‍य शहीदों द्वारा किए गए त्‍याग का अपमान होगा कि उन्‍हें पाकिस्‍तान ने नहीं, जंग ने मारा। और मैं उनके (गुरमेहर) इस बयान से पूरी तरह असहमत हूं।” गुरमेहर कौर ने मंगलवार को खुद को ‘डीयू बचाओ’ आंदोलन से खुद को अलग कर लिया और कहा है कि उन्हें अकेला छोड़ दिया जाए। उन्‍होंने ट्वीट कर कहा, ”मैं अभियान से अलग हो रही हूं। आप सभी को बधाई। मुझे अकेला छोड़ दो। मैंने वही कहा जो कहना चाहिए था। मैं काफी कुछ सह चुकी हूं। 20 साल की उम्र में इससे ज्यादा सहने की ताकत नहीं है।”

विरोधियों को जवाब देते हुए गुरमेहर कौर ने ट्विटर पर मंगलवार को लिखा, ”जो लोग भी मेरी बहादुरी और साहस को लेकर सवाल उठा रहे हैं उन्हें बता दूं कि मैने जरूरत से ज्यादा बहादुरी दिखाई। लेकिन एक बात तो पक्की है, अगली बार हिंसा और धमकियों के खिलाफ बोलने से पहले हम दो बार सोचेंगे।”

20 साल की गुरमेहर कौर डीयू के लेडी श्रीराम कॉलेज में इंग्लिश (ऑनर्स) की छात्रा हैं। गुरमेहर के पिता कारगिल की जंग में शहीद हो गए थे। उन्‍होंने रामजस कॉलेज में हिंसा के बाद फेसबुक पर कैंपेन चलाया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सुप्रीम कोर्ट अमृतधारा नहीं है, हमारे पास कोई और काम नहीं है क्‍या: चीफ जस्टिस खेहर
2 गुरमेहर कौर ने विरेंदर सहवाग को लगाई लताड़, कहा- मेरे खिलाफ नफरत को बढ़ावा देने के लिए शुक्रिया
3 राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: क्यों 28 फरवरी को मनाया जाता है ‘साइंस डे’, रमन प्रभाव से इसका क्या है संबंध
IPL 2020 LIVE
X