ताज़ा खबर
 

किसान आंदोलन पर कंगना रनौत ने प्र‍ियंका-दिलजीत पर कसा तंज, पूछा- यही चाहिए था तुम लोगों को

उन्होंने एक ट्वीट कर लिखा, "तुम लोगों को बताना होगा। पूरी दुनिया आज हम पर हंस रही है, यही चाहिए था ना तुम लोगों को। बधाई हो!"

kangana ranaut, priyanka chopra, diljit dosanjhकंगना ने एक बार फिर दिलजीत और प्रियंका चोपड़ा पर निशाना साधा है (तस्वीर- Kangana Ranaut Instagram)

दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर किसान परेड निकालने के दौरान लाल किले पर उपद्रव करने और अपने झंडे लहराने पर फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत ने दिलजीत दोसांझ और प्रियंका चोपड़ा पर तंज कसा। उन्होंने एक ट्वीट कर लिखा, “तुम लोगों को बताना होगा। पूरी दुनिया आज हम पर हंस रही है, यही चाहिए था ना तुम लोगों को। बधाई हो!”

दरअसल किसानों के आंदोलन शुरू होने के बाद दिलजीत दोसांझ और प्रियंका चोपड़ा ने किसानों के आंदोलन का समर्थन करते हुए ट्वीट किए थे। प्रियंका ने लिखा था कि किसान तो हमारे सैनिक हैं, उनके हर डर को खत्म करना जरूरी है। उनकी उम्मीदें पूरी होनी जरूरी है। लोकतंत्र होने के नाते हमारी जिम्मेदारी है कि विवाद सुलझ जाए। दिलजीत दोसांझ ने लिखा था कि कुछ लोग प्रदर्शन को हिंदू-सिख की लड़ाई बता रहे हैं। बात सिर्फ किसानों की हो रही है, धर्म की बात तो हो ही नहीं रही है। धर्म कभी भी लड़ाई की बात नहीं करता है।

उन्होंने एक वीडियो जारी कर कहा, “कैसे आज गणतंत्र दिवस के दिन लाल किले पर हमला किया गया। वहां खालिस्तान का झंडा लहराया गया है। ये साल पूरे देश के लिए कितना मुश्किल रहा। अभी हमारा देश कोरोना पैनडेमिक से उबरा है। हमने विजय पाई है। हम उन कुछ देशों में हैं जो बहादुरी के साथ इस लड़ाई में जीते हैं। लेकिन आप देख रहे हैं इन लोगों को जो खुद को किसान कह रहे हैं आतंकी हैं, जो इनको प्रोत्साहन दे रहे हैं और देते आए हैं, इनको सबके सामने तमाशा बनाकर रख दिया है।

कंगना ने कहा, “दुनिया में इसके बाद कुछ भी हमारी इज्जत नहीं रही है। जब भी देखो हम गंवारों की तरह, जब दूसरे देश का कोई आता है, प्रधानमंत्री आते हैं, हम बस नंगे होकर बैठ जाते हैं। इस देश का कुछ नहीं होने वाला है। देश कहीं नहीं जा रहा है। कोई देश को एक कदम आगे ले जाता है तो ये दस कदम पीछे ले जाते हैं। मैं तो कहूंगी उन सबको जेल में डालो जो इस कथित किसान आंदोलन को सपोर्ट कर रहे हैं। उनकी संपत्ति के सारे संसाधन छीने जाने चाहिए। सब मजाक बनकर रह गया है। इस देश की सरकार, सुप्रीम कोर्ट सब मजाक बनकर रह गया है।”

इससे पहले मंगलवार सुबह गणतंत्र दिवस के दिन लाठी-डंडे, राष्ट्रीय ध्वज एवं किसान यूनियनों के झंडे लिये हजारों किसान ट्रैक्टरों पर सवार हो बैरियरों को तोड़ व पुलिस से भिड़ते हुए लालकिले की घेराबंदी के लिए विभिन्न सीमा बिंदुओें से राष्ट्रीय राजधानी में दाखिल हुए। लालकिले में किसान ध्वज-स्तंभ पर भी चढ़ गए। वहीं, कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर पिछले दो महीने से राष्ट्रीय राजधानी की सीमा पर विरोध प्रदर्शनों की अगुवाई करने वाले किसान नेताओं ने इन प्रदर्शनकारियों से खुद को अलग कर लिया।

Republic Day 2021 Live Updates: सिंघू बॉर्डर पर किसानों का जत्था दिल्ली के अंदर बेरिकेडिंग तोड़ कर घुसा

Farmers’ Tractor Rally Live Updates: नहीं मान रहे किसान! लाल किला की प्राचीर से फहराए अपने झंडे; मचा रहे बवाल

एक युवक को लालकिले में ध्वज-स्तंभ पर एक त्रिकोण आकार का पीले रंग का झंडा फहराते देखा गया। इसी पर देश के स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान झंडा फहराया जाता है। हालांकि बाद में प्रदर्शनकारियों को लाल किले के परिसर से हटा दिया गया।

Next Stories
1 दिल्ली में हालात बेकाबू! मेट्रो-इंटरनेट सेवा बंद, अमित शाह ने बुलाई अहम बैठक; एक्शन की तैयारी में सरकार
2 जो रूट दिए उस पर भी बैरिकेडिंग कर दी, दिल्ली हिंसा पर बोले राकेश टिकैत- इसके लिए पुलिस जिम्मेदार
3 दिल्ली दंगों में सुर्खियों में रहे कपिल मिश्रा किसानों के ऐसे प्रदर्शनों पर नाराज, बोले- योगेन्द्र यादव और राकेश टिकैत को जेल में डालो
ये पढ़ा क्या?
X