ताज़ा खबर
 

कमलेश तिवारी मर्डर: हिंदू समाज पार्टी में शामिल होने के लिए आरोपी अशफाक ने बनवाया फर्जी AADHAAR CARD, कई खुलासे

अखिल भारत हिंदू महासभा के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष रहे कमलेश तिवारी की लखनऊ में उनके आवास पर हत्या कर दी गई। सीसीटीवी कैमरे से पता चला है कि दो युवा दोपहर के करीब उनके घर में घुसे। एक पिस्तौल और खाली कारतूस घटनास्थल से बरामद किए गए हैं।

Author सूरत | Published on: October 22, 2019 8:24 AM
कमलेश तिवारी की हत्या के संदिग्धों की सीसीटीवी फुटेज।

कमलेश तिवारी हत्याकांड के मुख्य संदिग्धों में से एक अशफाक शेख (33) ने तिवारी की हिंदू समाज पार्टी में शामिल होने के लिए रोहित कुमार सोलंकी के रूप में अपनी पहचान बनाने के लिए एक सहयोगी का फर्जी आधार कार्ड बनवाया। इसी साल तीन जून को वो तिवारी की पार्टी में शामिल हुआ, जहां सूरत में वराछा वार्ड में उसे आईटी सेल के प्रचारक के रूप में नियुक्त किया गया है। शेख और दूसरा संदिग्ध फरीद पठान उर्फ​मोइनुद्दीन पर शक है कि उन्होंने 18 अक्टूबर को लखनऊ में कमलेश तिवारी की हत्या कर दी। दोनों अभी फरार हैं। रोहित कुमार सोलंकी उस दवा कंपनी में मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव था जिसमें शेख टीम लीडर और सह मैनेजर था। जाली आधार कार्ड में, सोलंकी की तस्वीर को शेख की तस्वीर में बदल दिया गया जबकि बाकी जानकारी से छेड़छाड़ नहीं की गई।

सोलंकी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, ‘मैं अशफाक शेख के साथ पिछले ढाई सालों से काम कर रहा हूं। बीते रविवार को सोशल मीडिया के जरिए मुझे मालूम हुआ कि शेख ने मेरे आधार कार्ड का गलत इस्तेमाल किया। वडोदरा पुलिस स्टेशन में मैंने इस मामले में एक शिकायत भी दर्ज कराई है।’

बता दें कि फार्मा कंपनी का मुख्यालय मुंबई में है और शेख सूरत में इसकी बिक्री का प्रभारी था। शेख ने सोलंकी के नाम से अपना फेसबुक अकाउंट भी बनाया था। इसमें उसने खुद की फोटो लगाई। इस दौरान वह फेसबुक पर जेमीन देव उर्फ बापू का दोस्त बना जो गुजरात में हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष हैं। तीन जून को देव ने उसे पार्टी में शामिल किया और वराछा वार्ड में आईटी सेल का प्रचारक नियुक्त किया।

हिंदू समाज पार्टी के सूत्रों के मुताबिक शेख सोलंकी के रूप में जून के आखिरी सप्ताह में तिवारी से मिला। पिछले सप्ताह सूरत छोड़ने से पहले उसने कथित तौर पर तिवारी को फोन किया और बताया कि सूरत में पार्टी विस्तार की योजना के लिए लखनऊ में उनसे मुलाकात करेगा। 17 अक्टूबर को लखनऊ पहुंचने के बाद उसने कथित तौर पर तिवारी को दोबारा फोन किया और पुष्टि की कि वह अगले दिन कमलेश तिवारी से मुलाकात करेगा।

देव ने अपनी फेसबुक पोस्ट में बताया, ‘अपने रिकॉर्ड के लिए हम पार्टी में शामिल होने वाले इच्छुक लोगों के आधार कार्ड और फोटोग्राफ रखते हैं। आधार कार्ड के आधार पर हमने हमने राष्ट्रीय अध्यक्ष गुरुजी (कमलेश तिवारी) से अनुमति ली और बाद में रोहित कुमार सोलंकी (अशफाक शेख) को अपने संगठन का सदस्य नियुक्त किया। उसने जब मुझे फेसबुक पर रिक्वेस्ट भेजी तो कई हिंदू समाज पार्टी के कार्यकर्ता पहले से ही उसकी फ्रेंड लिस्ट में थे।’

उन्होंने आगे कहा कि इन्हीं सभी बातों को ध्याम में रखते हुए हमने उसे पार्टी का सदस्य नियुक्त किया। इस दौरान हमने सभी जरूरी पात्रता भी पूरी कीं। अब हमें पता चला है कि उसने जाली आधार कार्ड जमा किया था। बीते शनिवार को शेख से जुड़े सभी दस्तावेजों और फर्जी आधार कार्ड की कॉपी गुजरात एटीएस को सौंप दी। देव ने कहा कि शेख सोलंकी के रूप में पूरे देश में पार्टी पदाधिकारियों के संपर्क में था।

उन्होंने कहा, ‘वो उनसे फोन पर बात करता और रोहित कुमार सोलंकी के रूप में टेक्स्ट मैसेज भेजता।’ हालांकि इंडियन एक्सप्रेस ने सोमवार को जब देव से बात करनी चाही तो फोन पर उनसे संपर्क नहीं हो पाया।

अखिल भारत हिंदू महासभा के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष रहे कमलेश तिवारी की लखनऊ में उनके आवास पर हत्या कर दी गई। सीसीटीवी कैमरे से पता चला है कि दो युवा दोपहर के करीब उनके घर में घुसे। एक पिस्तौल और खाली कारतूस घटनास्थल से बरामद किए गए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 MOB LYNCHING, धार्मिक कारणों से हुई हत्याओं के आंकड़े NCRB की ताजा रिपोर्ट में नहीं किए गए शामिल!
2 नोटबंदी, जीएसटी के बाद मजदूर बनने को मजबूर हुए युवा! मनरेगा में बढ़ी 18-30 साल के मजदूरों की संख्या
3 Hindi News Today, 22 October 2019 LIVE Updates: कुलगाम में सीआरपीएफ की टीम पर आतंकियों का ग्रेनेड हमला, जवान घायल