ताज़ा खबर
 

संजय गांधी के लंगोटिया यार रहे हैं कमलनाथ, उनकी खातिर जज पर फेंक दिया था कागज का गोला, पहुंचे थे जेल

कमलनाथ और संजय गांधी की दोस्ती की वजह से वो इंदिरा गांधी के भी करीबी थे। कहा जाता है कि विपक्षी नेता कनलनाथ को इंदिरा गांधी का तीसरा बेटा कहते थे और उनके लिए एक लोकोक्ति भी बनाई थी। इंदिरा गांधी के दो हाथ- संजय गांधी और कमलनाथ

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नौ बार लोकसभा सांसद रहे कमलनाथ को मध्य प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी के सीनियर नेता और नौ बार लोकसभा सांसद रहे कमलनाथ को मध्य प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया है। कमलनाथ नेहरू-गांधी परिवार के काफी करीबी नेताओं में गिने जाते रहे हैं। वो इंदिरा गांधी, संजय गांधी, राजीव गांधी और सोनिया गांधी के काफी करीब रहे हैं। उन्होंने 1968 में मात्र 22 साल की उम्र में कांग्रेस का हाथ थामा था। कानपुर में जन्मे कमलनाथ एक समृद्ध परिवार से आते थे। वो देहरादून के दून स्कूल में संजय गांधी के साथ पढ़ते थे। संजय गांधी और कमलनाथ की दोस्ती स्कूल के जमाने से ही मशहूर थी। दोनों का सपना देश में छोटी कार का बड़े पैमाने पर उत्पादन करना था लेकिन संजय गांधी के आकस्मिक निधन से उनका सपना अधूरा रह गया। संजय गांधी और कमलनाथ स्कूल के क्लासरूम से लेकर पॉलिटिकल कॉरिडोर तक साथ-साथ रहे।

कमलनाथ और संजय गांधी की दोस्ती की वजह से वो इंदिरा गांधी के भी करीबी थे। कहा जाता है कि विपक्षी नेता कनलनाथ को इंदिरा गांधी का तीसरा बेटा कहते थे और उनके लिए एक लोकोक्ति भी बनाई थी। इंदिरा गांधी के दो हाथ- संजय गांधी और कमलनाथ। 1975 में जब इंदिरा गांधी ने देश में इमरजेंसी लगवाई थी, उस वक्त भी कमलनाथ संजय गांधी के साथ रहा करते थे। 1977 में जब केंद्र में पहली गैर कांग्रेसी और जनता पार्टी की सरकार बनी और 1979 में संजय गांधी को तिहाड़ जेल भिजवाया था, तब इंदिरा गांधी संजय गांधी की सुरक्षा को लेकर चिंतित हो गई थीं। तब कमलनाथ ने नाटकीय घटनाक्रम में तिहाड़ जेल में एंट्री ली थी।

बिजनेस स्टैंडर्ड में मोनिका गुप्ता के छपे एक लेख के मुताबिक संजय गांधी के साथ साए की तरह रहने वाले कमलनाथ ने इसके लिए अपने वकील से सलाह ली थी और अगले ही दिन योजना के मुताबिक संजय गांधी का मुकदमा सुन रहे जज पर कागज के गोले फेंके थे। भीड़ में छिपे कमलनाथ को जब जज ऐसा करते हुए नहीं देख पाए तब कमलनाथ कोर्ट रूम में जोर-जोर से चिल्लाने लगे थे। कमलनाथ जज को बार-बार कहने लगे कि इस हरकत के लिए आप ही जिम्मेदार हो। इससे गुस्साए जज साहब ने कमलनाथ पर 500 रुपये का जुर्माना लगा दिया था लेकिन उन्होंने जुर्माना भरने से इनकार कर दिया तो सात दिनों के लिए तिहाड़ जेल भेज दिए गए थे। पत्रकार मोनिका गुप्ता को खुद कमलनाथ ने बताया था कि इमरजेंसी के बाद वो संजय गांधी के साथ 14 बार जेल जा चुके थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App