ताज़ा खबर
 

‘RSS पदाधिकारी हैं, नहीं तो लगा देता इंदौर में आग।’ बयान पर विजयवर्गीय समेत 350 भाजपा कार्यकर्ताओं पर मामला दर्ज

भाजपा महासचिव का यह बयान तब सामने आया, जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की आंतरिक बैठकों के लिए संगठन के प्रमुख मोहन भागवत और इसके अन्य शीर्ष पदाधिकारी इंदौर में ही थे। संघ पदाधिकारी अब भी शहर में ही हैं।

Author इंदौर | Updated: January 5, 2020 11:54 AM
बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय। फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस

मध्यप्रदेश के इंदौर में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के एक कथित विवादास्पद बयान का वीडियो सामने आने के बाद कांग्रेस शासित मध्यप्रदेश में राजनीतिक गहमा-गहमी तेज हो गई हैं। इस बीच, पुलिस ने विजयवर्गीय समेत करीब 350 भाजपा कार्यकर्ताओं पर गंभीर आरोपों वाली धाराओं में आपराधिक प्रकरण दर्ज किया है। संयोगितागंज पुलिस थाने के प्रभारी नरेंद्र सिंह रघुवंशी ने रविवार (05 जनवरी) को बताया कि शुक्रवार (03 जनवरी) को दोपहर रेसीडेंसी क्षेत्र में बिना अनुमति किए गए धरना-प्रदर्शन को लेकर एक तहसीलदार की शिकायत पर लगभग 350 प्रदर्शनकारियों के खिलाफ शनिवार (04 जनवरी) की देर रात प्राथमिकी दर्ज की गई है। इनमें विजयवर्गीय, इंदौर लोकसभा क्षेत्र के सांसद शंकर लालवानी और भाजपा के अन्य स्थानीय नेता भी शामिल हैं।

विजयवर्गीय के बयान का वीडियो हुआ वायरलः इस प्रदर्शन का वीडियो सोशल मीडिया पर पहले ही वायरल हो चुका है। विजयवर्गीय इस वीडियो में कहते सुनाई पड़ रहे हैं, ‘आखिर कोई प्रोटोकॉल होता है या नहीं? हम सरकारी अधिकारियों से लिखित निवेदन कर रहे हैं कि हम उनसे मिलना चाहते हैं। क्या वे हमें यह सूचना भी नहीं देंगे कि वे शहर से बाहर हैं? यह अब हम बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं करेंगे। हमारे संघ के पदाधिकारी (यहां) हैं, नहीं तो आज आग लगा देता इंदौर में।’

Hindi News Today, 5 January 2020 LIVE Updates: देश की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दर्ज किए गए मामलेः रघुवंशी ने बताया कि इन प्रदर्शनकारियों के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 143 (विधिविरुद्ध जमाव में शामिल होना), धारा 149 (विधिविरुद्ध जमाव के किसी भी सदस्य द्वारा साझा मकसद को लेकर कोई अपराध किए जाने की सूरत में इस समूह का हर सदस्य उस जुर्म का दोषी होगा), धारा 153 (बलवा कराने की नीयत से भीड़ को अनियंत्रित तौर पर उकसाना), धारा 188 (किसी सरकारी अधिकारी के आदेश की अवज्ञा) और धारा 506 (आपराधिक धमकी) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।

बीजेपी ने लगाया कांग्रेस पर आरोपः बता दें कि विजयवर्गीय की अगुवाई में दो दिन पहले किए गए जिस धरना-प्रदर्शन को लेकर यह प्राथमिकी दर्ज की गई है, उसमें भाजपा के 63 वर्षीय महासचिव ने आरोप लगाया था कि सूबे में सत्तारूढ़ कांग्रेस के इशारे पर स्थानीय प्रशासन भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ राजनीतिक दुर्भावना से पक्षपातपूर्ण कार्रवाई कर रहा है।

बता दें कि भाजपा महासचिव का यह बयान तब सामने आया, जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की आंतरिक बैठकों के लिए संगठन के प्रमुख मोहन भागवत और इसके अन्य शीर्ष पदाधिकारी इंदौर में ही थे। संघ पदाधिकारी अब भी शहर में ही हैं।

आरोपियों को नहीं किया गया था गिरफ्तारः थाना प्रभारी ने बताया कि प्राथमिकी में दर्ज आपराधिक धाराओं की रोशनी में विजयवर्गीय के विवादास्पद बयान की भी जांच की जा रही है। मामले में फिलहाल किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया गया है। सूबे में सत्तारूढ़ कांग्रेस के कई नेताओं ने विजयवर्गीय के बयान को लेकर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भाजपा पर निशाना साधा है।

उधर, विजयवर्गीय के बचाव में भाजपा आरोप लगा रही है कि कमलनाथ की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार माफिया रोधी अभियान की आड़ में सूबे के प्रमुख विपक्षी दल के कार्यकर्ताओं को निशाना बना रही है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मस्जिद में सजेगा मंडप: गरीब बेटी की शादी के लिए मुस्लिम समुदाय की अनूठी पहल, 1000 बारातियों को भोज भी
2 Weather forecast Today Live Updates: दिल्ली-NCR में पारा लुढ़का , बढ़ी गलन , जानिए अपने क्षेत्र के मौसम का हाल
3 हिन्दू बलात्कार के लिए बदनाम होते तो कोई मुस्लिम औरत बच नहीं पाती- ‘हम देखेंगे’ पर शिकायत करने वाले IIT शिक्षक के विचार, जानिए डॉ. शर्मा को
आज का राशिफल
X