केंद्र सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार केवी सुब्रमण्यम ने अपने पद से इस्तीफा दिया, बताई ये वजह

उन्होंने कहा कि मैंने 3 साल का कार्यकाल पूरा होने के बाद शिक्षा जगत में वापस लौटने का फैसला किया है।

K V Subramanian
केवी सुब्रमण्यम ने कहा कि राष्ट्र की सेवा करना मेरे लिए परम सौभाग्य रहा है। (फोटो- Twitter/K V Subramanian)

केंद्र सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार केवी सुब्रमण्यम ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने इस बारे में ट्वीट करते हुए कहा, ‘ मैंने अपना 3 साल का कार्यकाल पूरा होने के बाद शिक्षा जगत में वापस लौटने का फैसला किया है। राष्ट्र की सेवा करना मेरे लिए परम सौभाग्य रहा है। इससे मुझे अद्भुत समर्थन और प्रोत्साहन मिला है।’

केवी सुब्रमण्यम ने अपना पूरा बयान ट्विटर पर पोस्ट किया है और इसे पीएमओ इंडिया, पीएम मोदी, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और पीआईबी इंडिया को टैग किया है।

अपने कार्यकाल पर केवी सुब्रमण्यम ने कहा कि मुझे सरकार से जबरदस्त प्रोत्साहन और समर्थन मिला और सीनियर अधिकारियों से मेरे संबंध मधुर रहे। लेकिन अब 3 साल सेवाएं देने के बाद मैं रिसर्चर के रूप में देश को अपनी सेवाएं दूंगा।

उन्होंने अपने बयान में कहा कि मैं जब नॉर्थ ब्लॉक में गया हूं तो मैंने खुद को इस जिम्मेदारी की याद दिलाई है। मैंने हमेशा अपने फर्ज को पूरा करने का प्रयास किया है।

उन्होंने कहा कि मैं अब तक के सबसे प्रेरक प्रधानमंत्री से मुखातिब हुआ, उनकी आर्थिक नीति की सहज समझ आम नागरिकों के जीवन को ऊंचा करने में मदद करेगी। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को उनके द्वारा दिए गए अवसर के लिए धन्यवाद दिया।

केवी सुब्रमण्यम ने 7 दिसंबर, 2018 को सीईए का पद संभाला था और उनसे पहले इस पद पर अरविंद सुब्रमण्यम थे।

केवी सुब्रमण्यम इससे पहले भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की विशेषज्ञ समितियों में रहे हैं। उन्होंने जेपी मॉर्गन चेस, आईसीआईसीआई बैंक और टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज में भी सेवाएं दी हैं।

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही मुख्य आर्थिक सलाहकार के वी सुब्रमण्यम ने बताया था कि भारत इस दशक में सात फीसदी से अधिक की आर्थिक वृद्धि दर्ज करेगा। उन्होंने कहा था कि देश की आर्थिक बुनियाद मजबूत है और चालू वित्त वर्ष में वृद्धि दर 10 फीसदी से ज्यादा रहेगी।

उन्होंने ये भी कहा था कि अगले वित्त वर्ष में यह घट जाएगी और 6.5 से 7 फीसदी ही रह जाएगी।

बता दें कि सरकार ने अभी तक नए सीईए के बारे में घोषणा नहीं की है। उम्मीद है कि सरकार जल्द देश को नया मुख्य आर्थिक सलाहकार देगी।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट