ताज़ा खबर
 

जस्टिस बोबड़े होंगे अगले CHIEF JUSTICE OF INDIA, बाबरी केस की बेंच के भी हैं हिस्सा

Chief Justice of India: बोबड़े साल 2000 से ही जज हैं। उन्होंने बॉम्बे हाई कोर्ट में बतौर अडिशनल जज शुरुआत की थी। 39वें चीफ जस्टिस अल्तमश कबीर ने उन्हें अक्टूबर 2012 में मध्य प्रदेश हाई कोर्ट का चीफ जस्टिस बनाया था। अप्रैल 2013 में जस्टिस बोबड़े को सुप्रीम कोर्ट में जगह मिली।

जस्टिस एस ए बोबड़े होंगे अगले CJI, राष्ट्रपति ने मंजूरी दी। (indian express file photo)

Justice SA Bobde, Chief Justice of India: सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस शरद अरविंद बोबड़े अगले चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया होंगे। उनकी नियुक्ति के वॉरंट पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने हस्ताक्षर कर दिए हैं। जस्टिस बोबड़े 18 नवंबर को बतौर सीजेआई शपथ लेंगे। इससे पहले, वर्तमान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने उनके नाम की सिफारिश की थी। गोगाई के बाद बोबड़े सुप्रीम कोर्ट के दूसरे सबसे वरिष्ठ जज हैं।

बोबड़े साल 2000 से ही जज हैं। उन्होंने बॉम्बे हाई कोर्ट में बतौर अडिशनल जज शुरुआत की थी। 39वें चीफ जस्टिस अल्तमश कबीर ने उन्हें अक्टूबर 2012 में मध्य प्रदेश हाई कोर्ट का चीफ जस्टिस बनाया था। अप्रैल 2013 में जस्टिस बोबड़े को सुप्रीम कोर्ट में जगह मिली। 63 वर्षीय न्यायमूर्ति बोबड़े 18 नवम्बर को सीजेआई पद की शपथ ग्रहण करेंगे। इससे एक दिन पहले, 17 नवंबर को उनके पूर्ववर्ती न्यायमूर्ति रंजन गोगोई सेवानिवृत्त होंगे। न्यायमूर्ति बोबड़े 17 महीने के लिए 23 अप्रैल 2021 तक इस पद पर बने रहेंगे। न्यायमूर्ति रंजन गोगोई भारत के 46वें मुख्य न्यायाधीश हैं। उन्होंने तीन अक्टूबर 2018 को अपना पदभार संभाला था।

जस्टिस बोबड़े उस इन हाउस पैनल का भी हिस्सा रहे हैं, जिसने चीफ जस्टिस गोगोई पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर सुनवाई की थी। इस पैनल से जस्टिस गोगोई को क्लीनचिट दी थी। बता दें कि एक पूर्व कर्मचारी ने चीफ जस्टिस पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे। जस्टिस बोबड़े उस पांच सदस्यीय बेंच के भी सदस्य हैं जो राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद भूमि मालिकाना हक विवाद की सुनवाई कर रही है। इस मामले में कोर्ट की ओर से फैसला सुनाया जाना बाकी है।

Next Stories
1 बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या के आरोपी की लगाई गई मूर्ति, घरवालों ने मांगा ‘गोरक्षा शहीद’ का दर्जा
2 टीपू सुल्तान को कोर्स से हटाने की मांग, शिक्षा मंत्री ने इतिहासकारों की ‘इमर्जेंसी’ मीटिंग बुलाई, 3 दिन में मांगी रिपोर्ट
3 दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर काफी ऊंचा, जानिए अपने शहर के मौसम का सटीक अनुमान
यह पढ़ा क्या?
X