जम्मू कश्मीर: पुंछ में घात लगाए आतंकियों ने किया हमला, JCO समेत पांच जवान शहीद हुए

जानकारी के मुताबिक जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में आतंकवाद रोधी अभियान के दौरान जेसीओ और चार जवानों की जान चली गई है।

kashmir, pakistan
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में आतंकवाद निरोधी अभियान में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच सोमवार को हुई मुठभेड़ में एक ‘जूनियर कमीशंड अधिकारी’ (जेसीओ) सहित सेना के पांच जवान शहीद हो गए। इस मामले में रक्षा विभाग के एक प्रवक्ता ने जानकारी दी कि, आतंकवादियों की मौजूदगी की जानकारी मिलने के बाद सुरनकोट में डीकेजी के पास एक गांव में तड़के एक अभियान शुरू किया गया।

छिपे हुए आतंकवादियों के सुरक्षा बल पर गोलीबारी करने से एक जेसीओ और चार अन्य जवान घायल हो गए। सभी को इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया, लेकिन रास्ते में उन्होंने दम तोड़ दिया। अधिकारियों ने बताया कि भारी हथियारों के साथ आतंकवादियों के नियंत्रण रेखा पार कर चरमेर के जंगल में छुपे होने की खबर मिली थी। मौके पर अतिरिक्त बल को भेजा गया है, ताकि आतंकवादियों के निकलने के सभी रास्ते बंद किए जा सकें। हमलावर आतंकियों के 4 से 5 तक होने की आशंका है।

बढ़ रही है आंतकी घटनाएं: बता दें कि घाटी में आतंकियों के हौसले एक बार फिर से बुलंद देखे जा रहे हैं। आतंकी घटनाओं से घाटी में दहशत कायम करने की कोशिश की जा रही है। हाल ही में श्रीनगर के ईदगाह में गुरुवार को आतंकियों ने 2 सरकारी स्कूल के शिक्षकों की गोली मारकर हत्या कर दी थी। जान गंवाने वालों की पहचान अलोची बाग क्षेत्र निवासी सुपिन्दर कौर(प्रिंसिपल) और जम्मू निवासी दीपक चंद के रूप में हुई है। वे सरकारी बॉयज स्कूल, संगम में टीचर थे।

इससे पहले इसी महीने की शुरुआत में आतंकियों ने दवा विक्रेता माखन लाल बिंदरू की गोली मारकर हत्या कर दी थी। माखन कश्मीरी पंडित थे और आतंकियों ने उन्हें कई बार कश्मीर छोड़ने की धमकी दी थी। लेकिन आतंकियों की धमकी के बाद भी बिंदरू ने घाटी नहीं छोड़ी। इस खुन्नस में आतंकियों ने उनकी दुकान के बाहर उन्हें गोली मार दी। बिंदरू की हत्या के एक घंटे बाद ही आतंकियों ने बांदीपोरा के शहगुंद गांव में टैक्सी एसोसिएशन के मालिक मोहम्मद शफी लोन को गोली मारी थी।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट