scorecardresearch

जूही चावला की याचिका पर चल रही थी दिल्ली HC में सुनवाई, बजने लगा ‘मेरी बन्नो की आएगी बारात’ गाना

5 जी के खिलाफ जूही चावला की ओर से दिल्ली हाईकोर्ट में डाली याचिका पर सुनवाई शुरू ही हुई थी कि अभिनेत्री की फिल्मों के गाने बजने शुरू हो गए। कम से कम तीन बार वेबएक्स प्लेटफॉर्म पर वर्चुअल कोर्ट रूम में प्रवेश कर गाने गाए।

Juhi Chawla, Delhi HC, Unknown person sang thrice, Meri Banno Ki Aayegi Baaraat,
जूही चावला की 5जी के खिलाफ याचिका को रद्द करते हुए कोर्ट ने लगाया था 20 लाख रुपए का जुर्माना। (फोटोः ट्विटर/@iam_juhi)

दिल्ली उच्च न्यायालय में 5जी खिलाफ अभिनेत्री जूही चावला के मुकदमे की वर्चुअल हियरिंग में अज्ञात लोगों द्वारा गाने बजाकर कोर्ट को काफी परेशान किया। करीब तीन बार ऐसा देखने को मिला जब जूही की फिल्मों के गाने बजाए गए, जिसमें ‘मेरी बन्नो की आएगी बारात’ गाना भी शामिल था। जस्टिस मिधा ने अपने कर्मचारियों से इन लोगों के बारे में पता लगाने और कार्रवाई करने का आदेश दिया।

5 जी के खिलाफ जूही चावला की ओर से दिल्ली हाईकोर्ट में डाली याचिका पर सुनवाई शुरू ही हुई थी कि अभिनेत्री के फिल्मों के गाने बजने शुरू हो गए। कम से कम तीन बार वेबएक्स प्लेटफॉर्म पर वर्चुअल कोर्ट रूम में प्रवेश कर गाने गाए। जिन लोगों के द्वारा यह हरकत की जा रही थी स्क्रीन पर उनके नाम भी ‘मनीषा कोइराला’ और ‘जाह्नवी’ नजर आ रहे थे। जिस पर न्यायमूर्ति मिधा ने रुकावटों पर कड़ा संज्ञान लेते हुए व्यक्तियों की पहचान करने का आदेश दिया ताकि अवमानना की कार्रवाई की जा सके। अदालत ने बैठक से व्यक्तियों को हटाने का भी आदेश दिया।

किसी भी प्रतिभागी को खुद को अनम्यूट न करने देने के लिए कोर्ट रूम को बाद में कोर्ट स्टाफ द्वारा ‘लॉक’ कर दिया गय। हालांकि, जब सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता बहस कर रहे थे, प्रतिभागियों ने उनके तर्कों के खिलाफ इमोजी का इस्तेमाल किया। कोर्ट रूम ‘लॉक’ होने के बाद सुनवाई सुचारू रूप से चली। एक बिंदु पर, प्रतिभागियों की संख्या भी सामान्य रूप से 200 से ज्यादा होती है। सुनवाई के दौरान जूही चावला भी मौजूद रहीं।

इस बीच, अदालत ने पहले सरकार से संपर्क किए बिना सीधे अदालत का रुख करने के लिए चावला की खिंचाई की और कहा कि आप सरकार के पास जाकर वही राहत मांग सकते थीं।  अदालत ने मुकदमे को “बहुत चौंकाने वाला” करार देते हुए कहा कि यह केवल मीडिया प्रचार के लिए किया जा रहा है।  दिल्ली उच्च न्यायालय ने तब तकनीकी मुद्दों और मुकदमे की स्थिरता पर दलीलें सुनने के बाद मुकदमे में अपना आदेश सुरक्षित रख लिया है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

X