ताज़ा खबर
 

जेपी नड्डा BJP के नए अध्यक्षः JP के आंदोलन से बीजेपी के शिखर तक, यूं तय किया सियासत का सफर

पीएम नरेंद्र मोदी के बेहद करीबी लोगों में शामिल जेपी नड्डा 1991 में बीजेपी युवा मोर्चा के अध्यक्ष बनाए गए थे। उस वक्त नरेंद्र मोदी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव थे। दोनों नेताओं में तभी से घनिष्ठता है और वे साथ-साथ आगे बढ़ते रहे।

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

बीजेपी के नए अध्यक्ष वरिष्ठ नेता जेपी नड्डा का पार्टी संगठन में मजबूत पकड़ रही है। वह संगठनकर्ता, छात्रनेता, विधायक, सांसद, मंत्री और कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में विभिन्न पदों पर पार्टी के लिए काम करते रहे हैं। राजनीति से उनका जुड़ाव छात्र जीवन से ही शुरू हो गया था। वह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के सक्रिय सदस्य रहे हैं। 1993 में हिमाचल प्रदेश विधानसभा के लिए चुने जाने के बाद से वह पूरी तरह से सियासत में आ गए। वह तीन बार (1993, 1998, 2007) विधायक चुने गए। इस दौरान वह अलग-अलग समय में हिमाचल प्रदेश की बीजेपी सरकार में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, संसदीय मामलों, वन, पर्यावरण, विज्ञान और तकनीकी विभागों के मंत्री रहे हैं।

2010 से केंद्रीय राजनीति में सक्रिय हैं : 2010 में बीजेपी के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी ने उन्हें पार्टी का महासचिव बनाकर बड़ी जिम्मेदारी दी। उसके बाद से वह पार्टी के लिए लगातार बड़ी भूमिका का निर्वहन करते रहे हैं। अप्रैल 2012 में वह राज्य सभा के लिए चुने गए और मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के रूप में अपनी सेवाएं दीं। 2019 के आम चुनाव में उन्होंने उत्तर प्रदेश में बड़ी जिम्मेदारी निभाते हुए पार्टी को भारी जीत (62 सीटें) दिलाने में अपनी भूमिका निभाई। पीएम नरेंद्र मोदी के बेहद करीबी लोगों में शामिल जेपी नड्डा 1991 में बीजेपी युवा मोर्चा के अध्यक्ष बनाए गए थे। उस वक्त नरेंद्र मोदी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव थे। दोनों नेताओं में तभी से घनिष्ठता है और वे साथ-साथ आगे बढ़ते रहे।

Hindi News Live Hindi Samachar 20 January 2020: देश की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

जेपी आंदोलन में रहे और आपातकाल में जेल भी गए :  पिछले आम चुनाव के बाद मई 2019 में अध्यक्ष अमित शाह के गृहमंत्री बनने के बाद उन्हें पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया था। पार्टी में एक व्यक्ति एक पद का विधान है। लिहाजा अमित शाह को गृहमंत्री बनने के बाद अध्यक्ष पद छोड़ना था। 59 वर्षीय अनुभवी राजनेता जेपी नड्डा पार्टी को नए शिखर पर ले जाने की बड़ी जिम्मेदारी निभाने जा रहे हैं। वह जेपी आंदोलन में शामिल हुए और 1975 में आपातकाल में जेल भी गए।

उनकी सास भी पार्टी की सांसद रही हैं : उनका जन्म 2 दिसंबर 1960 को बिहार की राजधानी पटना में हुआ था। उन्होंने वहीं के सेंट जैवियर स्कूल से पढ़ाई की और पटना विश्वविद्यालय से आर्ट्स में स्नातक की डिग्री हासिल की। उन्होंने एलएलबी की डिग्री हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला से ली। बाद में वे वहीं स्थायी रूप से रहने लगे। उनका विवाह मल्लिका नड्डा से हुआ है और उनके दो बेटे हैं। नड्डा की सास जयश्री बनर्जी मध्यप्रदेश की वरिष्ठ बीजेपी नेता और पूर्व सांसद हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Pariksha Pe Charcha: मोदी बोले- स्मार्ट फोन की जगह मां-बाप, दादा-दादी के साथ बिताएं समय, पढ़ें छात्रों के सवाल और PM के जवाब
2 सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज करने के मामले में यूपी सरकार को जारी किया नोटिस
3 आंध्र प्रदेश में अब 3 राजधानियांः रेड्डी सरकार ने अमरावती के साथ-साथ कुरनूल और विशाखापटनम को दिया दर्जा, जानें पूरा फॉर्मूला
ये पढ़ा क्या?
X