ताज़ा खबर
 

फैक्स मशीन पर रवीश कुमार ने मारा ताना तो गवर्नर मलिक ने मंच से ही दिया जवाब

मलिक ने कहा, किसी गवर्नर की यह ड्यूटी नहीं कि छुट्टी के दिन वह खुद फैक्श मशीन से महबूबा मुफ्ती की चिट्ठी आने का इंतजार करे। अगर मुफ्ती सरकार बनाने के लिए संजीदा थीं तो फ्लाइट से किसी को भी भेजा जा सकता था।

पत्रकार रवीश कुमार और जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक

जम्मू-कश्मीर के गवर्नर सत्यपाल मलिक द्वारा राज्य की विधानसभा भंग करने के बाद राजनीतिक संग्राम शुरू हो गया है। 21 नवंबर को पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती और सज्जाद लोन ने राज्य में सरकार बनाने का दावा किया था। लेकिन राज्यपाल ने असेम्बली भंग कर दी। इसके बाद से आरोप प्रत्यारोप का दौर अभी तक चालू है। राज्यपाल के अचानक लिए गए इस एक्शन पर मुफ्ती का आरोप है कि उनके सरकार बनाने के दावे को लेकर गवर्नर ऑफिस ने न तो फोन कॉल्स का जवाब दिया और न ही फैक्स का। इस मुद्दे पर सत्यपाल मलिक ने सफाई देते हुए कहा था कि उस दिन ईद की छुट्टी के चलते फैक्स ऑपरेटर नहीं था। वहीं इस पर पत्रकार रवीश कुमार ने भी मलिक पर ताना मारा है। हालांकि इसका जवाब मंच से ही राज्यपाल ने दिया।

मध्य प्रदेश में ग्वालियर के एक इंजीनियरिंग कॉलेज के कॉन्वोकेशन में पहुंचे पत्रकार रवीश कुमार ने जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक पर ताना मारते हुए कहा, छात्रों को ऐसी फैक्स मशीन बनानी चाहिए जो शाम को 7 बजे के बाद भी काम करे। इस दौरान गवर्नर मलिक भी वहीं उपस्थित थे। रवीश ने इस दौरान लोकतंत्र, एम पी के साथ वर्तमान हालात पर भी बात की।

रवीश कुमार द्वारा कसे फैक्स वाले तंज पर मलिक ने भी जवाब दिया। माइक संभालते ही मलिक ने चीन की एक कहावत सुनाकर इशारों में सवाल उठाने वालों को नासमझ बताया। इसके बाद उस दिन के वाकये पर मलिक ने कहा, किसी गवर्नर की यह ड्यूटी नहीं कि छुट्टी के दिन वह खुद फैक्श मशीन से मुफ्ती की चिट्ठी आने का इंतजार करे। अगर मुफ्ती सरकार बनाने के लिए संजीदा थीं तो श्रीनगर और जम्मू के बीच कई फ्लाइट भी चलती हैं। किसी को भी भेजा जा सकता था।

साथ ही उन्होंने कहा, अगर चाहते तो फोन भी कर लेते, मैं तो रात के दो बजे भी फोन उठाता हूं। मलिक ने कहा, वाट्पऐप पर आई हुई शिकायतें भी सरकार के स्तर पर हल करने की कोशिश करता हूं। उन्होंने कहा, एक हफ्ते पहले मुफ्ती ने फोन कर कहा कि मेरे विधायकों को खरीदने की कोशिश की जा रही है। इसके लिए पैसे और धमकी का सहारा लिया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App