ताज़ा खबर
 

बरखा दत्त ने कहा, मिल रहीं धमकियां, तवलीन सिंह ने नाम बताने कहा तो बोलीं- बीजेपी के बड़े नेता भी शामिल

बरखा दत्त ने कहा,''ये बात मेरे काम करने के अधिकार में सरकार के हस्तक्षेप से जुड़ी हुई है। मीडिया समूह के मालिकों ने व्यक्तिगत रूप से मुझे बताया है कि भाजपा के कारण शीर्ष पर बैठे लोग मुझे पसंद नहीं करते हैं। वे मेरा शो अपने चैनल पर दिखाने का खतरा नहीं उठा सकते हैं।''

वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त। Express photo by Jasbir Malhi

वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने गुरुवार (7 जून) को लगातार कई ट्वीट किए। अपने ट्वीट में उन्होंने आरोप लगाया कि सत्ताधारी दल के कुछ लोग उन्हें धमकियां दे रहे हैं। बरखा दत्त ने कहा,”ये बात मेरे काम करने के अधिकार में सरकार के हस्तक्षेप से जुड़ी हुई है। मीडिया समूह के मालिकों ने व्यक्तिगत रूप से मुझे बताया है कि भाजपा के कारण शीर्ष पर बैठे लोग मुझे पसंद नहीं करते हैं। वे मेरा शो अपने चैनल पर दिखाने का खतरा नहीं उठा सकते हैं।” उन्होंने कहा कि मुझे दोस्तों की तरफ से धमकियां और सलाह मिल रही है कि भाजपा और सरकार ने मुझे कम झूठ बोलने के लिए कहा है। दिसंबर 2017 में कथित तौर पर एक प्रमोटर ने उनसे संपर्क किया था। वह एक न्यूज चैनल के लिए टीम खड़ी करने की प्लानिंग में जुटा हुआ था।

बरखा दत्त ने अपने ट्वीट में लिखा,”पिछले कुछ महीनों में सत्ता से जुड़े लोगों ने मुझे नम्रतापूर्वक और बदतमीजी से भी बताया कि मुझे नए टीवी प्रोजेक्ट पर काम नहीं करना चाहिए। मुझे कहा गया कि वो कभी ऐसा नहीं होने देंगे। आज मुझे बताया गया कि करीब 45 मिनट की बैठक मुझे रोकने, बदनाम करने, छवि धूमिल करने और मेरा काम बंद करने के लिए आयोजित की गई है।” एक अंग्रेजी अखबार को दिए बयान में बरखा दत्त ने कहा कि सरकार मुझे चेतावनी देने के लिए कानून को ​हथियार की तरह इस्तेमाल कर रही है। उन्होंने कहा,”मैंन आज इसीलिए पब्लिक के सामने जाने का फैसला किया है, क्योंकि मुझे बताया गया कि अब वे मेरे परिवार के पीछे पड़ने वाले हैं।”

कई लोगों ने प्रस्तावित न्यूज चैनल के मालिकानों की पहचान पर भी सवाल खड़े किए हैं। कई लोगों का दावा है कि कांग्रेस के सांसद और वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल भी चैनल के फाइनेंसर्स में से एक हैं। बरखा दत्त ने कहा,”हो या न हो, क्या विपक्ष में बैठा कोई सांसद वित्तीय रूप से किसी चैनल से नहीं जुड़ सकता है? जब तक कोई न्यूज चैनल सभी नियम-कानूनों का पालन करता है क्यों उसे लाइसेंस देने से इंकार किया जाता है? पिछले डेढ़ सालों में भाजपा सरकार ने सिर्फ एक ही चैनल के लाइसेंस को अनुमति दी है।”

वहीं बरखा दत्त के ट्वीट पर सवाल खड़े करते हुए जानी-मानी लेखिका और साहित्यकार तवलीन सिंह ने ट्वीट करते हुए सवाल किया। तवलीन सिंह ने लिखा,”यहां उनके नाम दो, ये उन्हें डरा देगा।” तवलीन सिंह के ट्वीट पर जवाब देते हुए बरखा दत्त ने लिखा,”तवलीन इसमें भाजपा के कई बड़े नेता शामिल हैं।” बरखा दत्त के इस ट्वीट के बाद कई ट्विटर यूजर्स ने उन्हें खुलकर नाम लेने के लिए कहा। लेकिन नामों के खुलासे पर बरखा दत्त ने अपनी चुप्पी नहीं तोड़ी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App