ताज़ा खबर
 

नौकरी का हाल: चौथी पास 13 वेटर्स के लिए आए 7000 आवेदन, ज्‍यादातर ग्रैजुएट

देश में नौकरी का यह हाल जैसे ही सामने आया, तो इस पर सियासत शुरू हो गई। ग्रैजुएट्स को मंत्रालय कैंटीन में बतौर वेटर रखने पर विधानपरिषद में विपक्ष के नेता धनंजय मुंडे ने राज्य सरकार की आलोचना की।

Author January 19, 2019 8:35 AM
नई दिल्ली स्थित महाराष्ट्र सदन में ऑर्डर लेकर जाता बैरा। (एक्सप्रेस फोटोः रवि कनौजिया)

देश में नौकरियों का हाल बेहद खस्ता है। यह बात हाल में तब सामने आई, जब महाराष्ट्र के मंत्रालय (राज्य सचिवालय) में चौथी पास 13 कैंटीन वेटर्स की भर्ती के लिए लगभग 7000 हजार आवेदन आ गए। अहम बात है कि आवेदनकर्ताओं में ज्यादातर ऐसे लोग हैं, जो कि ग्रैजुएट हैं। एक सरकारी अधिकारी के हवाले से पीटीआई की रिपोर्ट में कहा गया, इन पदों के लिए 100 अंकों की लिखित परीक्षा हुई थी। अभ्यर्थियों के लिए शैक्षणिक अर्हता चौथी पास है।

अधिकारी के मुताबिक, “परीक्षा की औपचारिकताएं 31 दिसंबर को पूरी हुईं। फिलहाल ज्वॉइनिंग प्रक्रिया जारी है। चुने गए 13 उम्मीदवारों में आठ पुरुष हैं, जबकि शेष महिलाएं हैं। इनमें से दो-तीन लोगों ने दस्तावेज नहीं जमा कराए हैं। नतीजतन उन्होंने आधिकारिक रूप से काम करना शुरू नहीं किया है।’’

बकौल अधिकारी, “चयनित लोगों में 12 ग्रैजुएट हैं, जबकि एक 12वीं पास है। इन 13 पदों के लिए ज्यादातर ग्रैजुएट लोगों ने आवेदन दिया था। वहीं, बाकी 12वीं पास थे। चुने गए उम्मीदवार 25 से 27 साल के बीच के हैं।”

देश में नौकरी का यह हाल जैसे ही सामने आया, तो इस पर सियासत भी शुरू हो गई। ग्रैजुएट्स को मंत्रालय कैंटीन में बतौर वेटर रखने पर विधानपरिषद में विपक्ष के नेता धनंजय मुंडे ने राज्य सरकार की आलोचना की। उन्होंने कहा, “मंत्रियों और सचिवों को शिक्षित व्यक्तियों की सेवाएं लेने पर शर्म आनी चाहिए।”

राकांपा नेता बोले, “केवल 13 पदों के लिए 7000 आवेदन देश और महाराष्ट्र में रोजगार की स्थिति का स्पष्ट उदाहरण है। यह बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण है कि ग्रैजुएट इन पदों के लिए चुने गए, जबकि अहर्ता चौथी पास की थी।”

मुंडे ने दावा किया कि सरकार इस पर शर्म करने के बजाय इसे राज्य की प्रगति के तौर पर देखेगी। यह पूछे जाने पर कि पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने कार्यकाल में लगभग दो करोड़ लोगों को रोजगार मुहैया कराया? मुंडे का जवाब आया- हाल ही में महाराष्ट्र में 10.5 लाख लोगों ने पुलिस के 852 खाली पदों के लिए आवेदन दिया था। उसी तरह लगभग एक करोड़ बेरोजगार युवाओं ने रेलवे में 10 हजार पदों के लिए फॉर्म भरा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मोदी के मिशन 2019 फतह के लिए अर्थव्यवस्था पर आएगा 1 लाख करोड़ का बोझ: रिपोर्ट
2 एम्स में मेरी भी है पहुंच, अमित शाह को कोई फ्लू नहीं हुआ, दूसरी वजह से हुए भर्ती; हरिप्रसाद का फिर हमला
3 राफेल विमान सौदा: जानिए, एनडीए सरकार में कैसे बढ़ गईं विमानों की कीमतें