ताज़ा खबर
 

VIDEO: बरसे कन्हैया कुमार- PM कहते हैं पकौड़ा तलना है रोजगार, तो अमित शाह क्यों नहीं बेटे को खुलवा देते हैं दुकान?

कन्हैया ने कहा कि हमारे पास करने के लिए कोई काम नहीं बचा है। हमारी स्थिति ऐसी कर दी गई है कि देश चलाते हैं हम और हमारे साथ ही कीड़े-मकोड़ों जैसा व्यवहार होता है।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार (फाइल फोटो)

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने रोजगार के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत के गृहमंत्री अमित शाह पर जमकर निशाना साधा। कन्हैया ने कहा, “पीएम कहते हैं कि पकौड़ा तलना रोजगार है, तो वह अमित शाह के बेटे की दुकान क्यों नहीं खुलवा देते हैं।”

कन्हैया ने कहा, “आप सोचिए कि किसान किसानी नहीं करे, मजदूर मजदूरी नहीं करे, ड्राईवर कहे कि हम ट्रेन नहीं चलाएंगे, सफाईकर्मी कहें कि हम सड़क को साफ नहीं करेंगे, तो देश कैसे चलेगा? देश में बुनियादी काम करने वाले लोग, रेहड़ी-पटरी पर दुकान लगाने वाले लोग, टैक्सी चलाने वाले, ऑटो चलाने वाले, दुकानों में मजदूरी करने वाले, फैक्ट्रियों, घरों और ऑफिसों में काम करने वाले यदि काम नहीं करें तो देश कैसे चलेगा?”

उन्होंने कहा, “किसी पकौड़ा तलने वाले से कभी सुने हैं कि अपने बेटे को पकौड़ा तलने वाला बनाएंगे? प्रधानमंत्री कहते हैं कि पकौड़ा तलना भी रोजगार है। यदि यह भी एक रोजगार है तो अमित शाह अपने बेटे का एक पकौड़ा का दुकान क्यों नहीं खुलवा देते हैं? अपने बेटे को तो बीसीसीआई का सेक्रेटरी बना रहे हैं और हमको कहा जा रहा है कि तुम्हारा बाप भी पकौड़ा तलता था, तुम भी पकौड़ा तलो। तुम्हारा बाप भी गटर में उतरता था, तुम भी गटर में उतरो। तुम्हारा बाप भी खेती करता था, तुम भी खेती करो।”

कन्हैया ने कहा, “हमारे पास करने के लिए कोई काम नहीं बचा है। हमारी स्थिति ऐसी कर दी गई है कि देश चलाते हैं हम और हमारे साथ ही कीड़े-मकोड़ों जैसा व्यवहार होता है। बताइए, मजदूर मजदूरी नहीं करेगा तो यह शहर चलेगा? करोड़ों लोगों के राज्य में चुनाव हो रहा है और उनका मुद्दा गायब कर दिया गया है। सिर्फ एक ही आदमी का चेहरा दिख रहा है। दिन-रात एक ही आदमी का चेहरा इसलिए दिखाया जाता है कि आपके सपने को उस आदमी के नाम पर खरीद लिया जाए।”

Next Stories
1 Bharat Bandh: ममता बनर्जी का लेफ्ट पार्टियों पर हमला, कहा- गुंडागर्दी कर पब्लिसिटी पाने से बेहतर है ‘राजनैतिक मौत’
2 JNU हिंसा यूनिवर्सिटी प्रशासन की मिलीभगत और पुलिस की निष्क्रियता के बिना संभव नहीं; शिक्षक संघ का बड़ा आरोप
3 Kerala Akshaya Lottery AK-427 Today Results: परिणाम घोषित, यहां देखें विजेताओं की सूची
ये पढ़ा क्या?
X