ताज़ा खबर
 

JNU Row: देशद्रोह के आरोपी उमर खालिद और अनिर्बान को छह महीने की जमानत

दिल्ली की एक कोर्ट ने शुक्रवार को देशद्रोह का आरोप झेल रहे जेएनयू स्टूडेंट उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य को छह महीने की अंतरिम जमानत दे दी है।

Author नई दिल्ली | March 18, 2016 4:54 PM
जमानत देते हुए कोर्ट ने दोनों को 25-25 हजार रुपए का बॉन्ड भरने के लिए भी कहा। (Photo Source: Indian Express )

दिल्ली की एक कोर्ट ने शुक्रवार को देशद्रोह का आरोप झेल रहे जेएनयू स्टूडेंट उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य को छह महीने की अंतरिम जमानत दे दी है। दोनों पर आरोप है कि इन्होंने 9 फरवरी को जेएनयू कैम्पस में भारत विरोधी नारे लगाए थे। जमानत देते हुए कोर्ट ने दोनों को 25-25 हजार रुपए का बॉन्ड भरने के लिए भी कहा। दोनों को 23 फरवरी को देशद्रोह के आरोप में जेल भेजा गया था। बुधवार को एडिशनल सेशन जज रीतेश सिंह ने इनकी जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए बहस सुनी थी, जिसमें दोनों ने कोर्ट से कहा था कि उन्हें कन्हैया की तरह राहत दी जाए। साथ ही कोर्ट से कहा था कि वे तब से न्यायिक हिरासत में हैं और पुलिस को जांच के लिए उनकी कस्टडी की जरूरत नहीं है।

खालिद और भट्टाचार्य को जमानत मिलने पर जेएनयू कैम्पस में छात्रों द्वारा जश्न मनाया गया। जश्न के दौरान जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने कहा कि इससे साबित होता है कि अभी पूरे देश का भगवाकरण नहीं हुआ है।

Anirban Bhattacharya, Umar Khalid, Umar Khalid bail, Anirban Bhattacharya bail, Kanhaiya, JNU, Smriti Irani, Delhi Court, freedom of speech, Bharat ki barbaadi, seditation case, JNU Row, seditation in jnu, उमर खालिद, अनिर्बान, देशद्रोह, उमर खालिद जमानत, जमानत, जेएनयू, जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय

पुलिस ने कोर्ट में इनकी जमानत याचिका का विरोध किया था। पुलिस का कहना था कि उमर-अनिर्बान और कन्हैया का केस बहुत अलग है। साथ ही पुलिस ने बताया कि कन्हैया उस समारोह के उमर और अनिर्बान की तरह आयोजक नहीं थे। पुलिस ने साथ ही कोर्ट में बताया कि 10 गवाहों ने इसकी पुष्टि की है कि समारोह में भारत विरोधी नारे लगाए गए थे।

JNU 2

Read Also: अमित शाह ने कहा-देशद्रोही नहीं हैं ओवैसी उन्हें हम समझाएंगे, राहुल का JNU जाना भी गलत नहीं था

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App