ताज़ा खबर
 

15 साल पहले 15 मिनट की बातचीत के बाद छह छात्रों से आडवाणी ने हटवा दिया था देशद्रोह का आरोप

आडवाणी ने डीयू के तत्‍कालीन वाइस चांसलर दीपक नैयर के साथ सिर्फ 15 मिनट बातचीत की थी, जिसके बाद आरोप वापस ले लिए गए थे। इन छात्रों को करीब 10 दिन तिहाड़ जेल में बिताने पड़े थे।

दयाल सिंह कॉलेज में सुनील कुमार, शाहबाज आलम, सुनील मांडिवाल और नवीन चंद्रा।

‘जिस तरह का माहौल अभी बनाया जा रहा है, वो तब भी था। फर्क यही है कि इनको अफजल गुरु का समर्थक बताया जा रहा है और हमें ओसामा का कहा जाता था।’ 14 साल पहले सुनील कुमार (35) और उनके पांच दोस्‍तों पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कराया गया था। उस वक्‍त ये सभी दिल्‍ली यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे थे। सुनील कुमार के अलावा शाहबाज आलम, नवीन चंद्रा, जीवन मेहता और गुरमीत सिंह को दिल्‍ली पुलिस ने 8 अक्‍टूबर 2001 को भजनपुरा से गिरफ्तार किया था। ये लोग उस वक्‍त अफगानिस्‍तान पर अमेरिकी हमले का विरोध कर रहे थे। इन पर देशद्रोह का चार्ज इसलिए भी लगाया गया था कि क्‍योंकि ये लोग अमेरिका को भारत के समर्थन का भी विरोध कर रहे थे। सभी आरोपी डेमोक्रेटिक स्‍टूडेंट यूनियन और ऑल इंडिया पीपुल्‍स रेजिस्‍टेंस फोरम से जुड़े थे।

Read Also: कंडोम की गिनती बताने वाले BJP MLA ने अब कहा- दिल्‍ली में 50% रेप JNU के छात्र करते हैं

देशद्रोह के आरोपों का सामना कर चुके ये लोग मानते हैं कि जेएनयू विवाद में फंसे उमर खालिद और कन्‍हैया कुमार की स्थिति ज्‍यादा गंभीर इसलिए है, क्‍योंकि सरकार इनके खिलाफ एक्‍शन को बिल्‍कुल सही ठहरा रही है, जबकि 2001 में जब एनडीए की सरकार थी, तब तत्‍कालीन गृह मंत्री एलके आडवाणी के कहने पर महज दो हफ्ते में छात्रों पर से देशद्रोह का आरोप वापस ले लिया था।

Read Also: BJP सांसद उदित राज ने भी महिषासुर को शहीद माना, स्‍मृति ईरानी ने जताई थी आपत्ति

आडवाणी ने डीयू के तत्‍कालीन वाइस चांसलर दीपक नैयर के साथ सिर्फ 15 मिनट बातचीत की थी, जिसके बाद आरोप वापस ले लिए गए थे। इन छात्रों को करीब 10 दिन तिहाड़ जेल में बिताने पड़े थे। 32 साल के शाहजाद आलम ने कहा, ‘हम लोग सौभाग्‍यशाली इसलिए भी थे, क्‍योंकि उस वक्‍त मीडिया कोई प्रोपेगेंडा नहीं चला रहा था। जैसा कि कन्‍हैया और उमर खालिद के साथ हो रहा है।’ आलम ने बताया कि वह उस वक्‍त 18 साल के थे।

Read Also: UP: अमित शाह का कार्यकर्ताओं को फरमान- हर घर जाकर पूछो क्‍या आप सहेंगे देशविरोधी नारे?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories