ताज़ा खबर
 

JNU विवाद: ओलंपिक पदक विजेता पहलवान योगेश्वर दत्त ने पूछा- अफजल शहीद तो हनुमनथप्पा को क्या कहेंगे?

योगेश्‍वर दत्‍त ने इस मुद्दे फेसबुक पर पोस्‍ट में लिखी है, जो कि वायरल हो गई है। उनकी पोस्‍ट को 58 हजार से ज्‍यादा लाइक्‍स मिले हैं, जबकि 8 हजार से ज्‍यादा लोग इसे शेयर कर चुके हैं।

Yogeshwar Dutt facebook post, JNU row, Afzal Guru,Yogeshwar Dutt, Hanumanthappa, Afzal marty, jnu news, Yogeshwar Dutt viral post, योगेश्‍वर दत्‍त, फेसबुक पोस्‍ट, जेएनयू विवादयोगेश्‍वर दत्‍त ने जेएनयू विवाद पर कविता के जरिए कही है अपनी बात।

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में देश विरोधी नारेबाजी पर पहलवान योगेश्‍वर दत्‍त ने कड़ा ऐतराज जताया है। संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु को शहीद कहे जाने पर उन्होंने पूछा है, ‘अफजल को शहीद कहेंगे तो हनुमनथप्पा को क्या कहेंगे।’ योगेश्‍वर दत्‍त ने इस मुद्दे फेसबुक पर पोस्‍ट में लिखी है, जो कि वायरल हो गई है। उनकी पोस्‍ट को 58 हजार से ज्‍यादा लाइक्‍स मिले हैं, जबकि 8 हजार से ज्‍यादा लोग इसे शेयर कर चुके हैं।

पढ़ें, ओलंपिक में भारत के लिए पदक जीत चुके पहलवान योगेश्‍वर दत्‍त की पोस्‍ट

गज़नी का है तुम में खून भरा जो तुम अफज़ल का गुण गाते हों,
जिस देश में तुमने जनम लिया उसको दुश्मन बतलाते हो!
भाषा की कैसी आज़ादी जो तुम भारत माँ का अपमान करो,
अभिव्यक्ति का ये कैसा रूप जो तुम देश की इज़्ज़त नीलाम करो!
अफज़ल को अगर शहीद कहते हो तो हनुमनथप्पा क्या कहलायेगा,
कोई इनके रहनुमाओं का मज़हब मुझको बतलायेगा!
अपनी माँ से जंग करके ये कैसी सत्ता पाओगे,
जिस देश के तुम गुण गाते हो, वहाँ बस काफिर कहलाओगे!
हम तो अफज़ल मारेंगे तुम अफज़ल फिर से पैदा कर लेना,
तुम जैसे नपुंसको पे भारी पड़ेगी ये भारत सेना!
तुम ललकारो और हम न आये ऐसे बुरे हालात नहीं
भारत को बर्बाद करो इतनी भी तुम्हारी औकात नहीं!
कलम पकड़ने वाले हाथों को बंदूक उठाना ना पड़ जाए,
अफज़ल के लिए लड़ने वाले कहीं हमारे हाथो न मर जाये!
भगत सिंह और आज़ाद की इस देश में कमी नहीं,
बस इक इंक़लाब होना चाहिए,
इस देश को बर्बाद करने वाली हर आवाज दबनी चाहिए!
ये देश तुम्हारा है ये देश हमारा है, हम सब इसका सम्मान करें,
जिस मिट्टी पे हैं जनम लिया उसपे हम अभिमान करें! जय हिंद ।

Read Also: Blog: JNU विवाद को राष्‍ट्रवाद से जोड़कर मोदी सरकार ने किया सबसे बड़ा राष्‍ट्र विरोधी काम

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories