ताज़ा खबर
 

सीतराम येचुरी बोले- इंदिरा गांधी को थी ‘दुर्गा’ कहे जाने पर आपत्ति, क्‍योंकि दलित महिषासुर को पूजते हैं

येचुरी ने जैसे ही यह बात कही, लीडर ऑफ हाउस अरुण जेटली खड़े हो गए। उन्‍होंने कहा कि इनकी एक-एक बात को रिकॉर्ड पर लिया जाएं।

सीताराम येचुरी और अरुण जेटली के बीच शुक्रवार को संसद में जोरदार बहस हुई।

राज्‍यसभा में शुक्रवार को एक बार फिर जेएनयू विवाद और रोहित वेमुला आत्‍महत्‍या मामले पर तीखी बहस हुई। मार्क्‍सवादी कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के नेता सीताराम येचुरी ने बीजेपी पर कई बार हमले किए। बहस के दौरान येचुरी ने यहां तक दावा कर दिया कि अटल बिहारी वाजपेयी ने देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को दुर्गा कहकर पुकारा था, लेकिन उन्‍होंने इसे स्‍वीकार करने से इनकार कर दिया था, क्‍योंकि बहुत से दलित महिषासुर की पूजा करते हैं। उन्‍होंने जैसे ही यह बात कही, लीडर ऑफ हाउस अरुण जेटली खड़े हो गए। उन्‍होंने कहा कि येचुरी की कही एक-एक बात को रिकॉर्ड पर लिया जाए, क्‍योंकि एक जिम्‍मेदार नेता अगर कुछ बोलता है कि उसे तथ्‍यों के साथ बात करनी चाहिए। जेटली की बात सुनने के बाद येचुरी बीजेपी पर कई और तीखे हमले किए। उन्‍होंने कहा कि अच्‍छा हिंदू कौन है? इसका सर्टिफिकेट ये लोग देंगे क्‍या?

Read Also: कंडोम की गिनती बताने वाले BJP MLA ने अब कहा- दिल्‍ली में 50% रेप JNU के छात्र करते हैं

कहां से आया महिषासुर का मुद्दा

आपको बता दें कि बुधवार को संसद में अपने भाषण के दौरान स्‍मृति ईरानी ने जेएनयू में बांटे गए कुछ पेम्‍फलेट को पढ़कर सुनाया था। ईरानी ने सदन में कहा था, ‘जेएनयू में महिषासुर शहीदी दिवस मनाया जाता है। मैं भगवान से माफी मांगती हूं कि मुझे यह पढ़ना पढ़ रहा है।’ इसके बाद उन्‍होंने पेम्‍फलेट में देवी दुर्गा के लिए लिखे कई आपत्तिजनक शब्‍द पढ़ते हुए पूछा था, कि क्‍या कोलकाता की गलियों में मां दुर्गा के बारे में कोई ऐसी बातें सुनना चाहेगा?

Read Also: मायावती ने कहा- जवाब से संतुष्‍ट नहीं, सिर काटकर चढ़ाने का वादा पूरा करें, स्‍मृति ईरानी बोलीं-हिम्‍मत है तो ले जाओ

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories