ताज़ा खबर
 

हबीब जालिब की नज्म गाने वाले JNU छात्र की पुलिस ने की पिटाई, अस्पताल में सुनाई आपबीती, ‘जूतों से कुचला, फिर दौड़ा लाठियों से मारा’

शशिभूषण के अनुसार, पुलिसवालों ने इसके बाद उन्हें गर्दन से पकड़कर उठाया और भागने को कहा। जब वह वहां से जाने लगे तो पुलिसवालों ने पीछे से एक बार फिर उन्हें लाठी मारी।

Author नई दिल्ली | Updated: November 19, 2019 10:42 PM
प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने नेत्रहीन छात्र शशिभूषण पांडे की भी पिटाई की। (फाइल फोटो)

जवाहर लाल नेहरु यूनिवर्सिटी के छात्रों ने सोमवार को फीस बढ़ोत्तरी के खिलाफ यूनिवर्सिटी से संसद तक मार्च किया। इस दौरान उनकी पुलिस के साथ झड़प भी हुई, जिससे कुछ देर के लिए दिल्ली की सड़कों पर अव्यवस्था के हालात बन गए। पुलिस ने इस दौरान लाठी चार्ज किया जिसमें कई छात्र घायल हो गए। पुलिस के लाठीचार्ज में जेएनयू के छात्र शशिभूषण पांडे घायल हुए।

बता दें कि शशिभूषण नेत्रहीन हैं और बीते दिनों मशहूर शायर हबीब जालिब की नज्म गाकर चर्चा में आए थे। शशिभूषण ने अस्पताल में अपनी आप-बीती सुनायी। शशिभूषण ने बताया कि हम और हमारे साथी शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन करते हुए संसद भवन जा रहे थे, तभी पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया।

शशिभूषण पांडे ने बताया कि उनके साथियों ने पुलिस लाठीचार्ज में उन्हें बचाने की कोशिश की और पुलिस को बताया कि मैं देख नहीं सकता, तो पुलिसवालों ने मुझे एक तरफ करने को कहा। शशिभूषण ने बताया कि जब मैं साइड में खड़ा था तो एक पुलिसकर्मी ने मुझे लाठियों से मारा। शशिभूषण ने बताया कि इसके बाद दो-तीन पुलिसवाले और आ गए और उन्होंने भी मुझे पीटना शुरु कर दिया। शशिभूषण के अनुसार, उन्होंने पुलिसवालों से एक बार फिर कहा कि वह देख नहीं सकते और ब्लाइंड हैं, तो पुलिवालों ने कहा कि ब्लाइंड है तो विरोध प्रदर्शन में क्यों शामिल हुए?

शशिभूषण के अनुसार, पुलिसवालों ने इसके बाद उन्हें गर्दन से पकड़कर उठाया और भागने को कहा। जब वह वहां से जाने लगे तो पुलिसवालों ने पीछे से एक बार फिर उन्हें लाठी मारी। बता दें कि जेएनयू स्टूडेंट्स का विरोध प्रदर्शन दोपहर 12 बजे साबरमती ढाबे से शुरु हुआ। छात्रों ने यह प्रदर्शन छात्रावास शुल्क वृद्धि और शिक्षा के निजीकरण के खिलाफ आयोजित किया था।

इस दौरान भारी संख्या में दिल्ली पुलिस और अर्द्धसैनिक बलों के जवानों ने उन्हें रोकने का प्रयास किया, जिसमें पुलिस ने लाठीचार्ज किया। पुलिस ने करीब 150 विद्यार्थियों को हिरासत में भी लिया है। सोमवार को देर शाम विद्यार्थियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने मानव संसाधन विकास मंत्री से मुलाकात की, जिसके बाद छात्रों का धरना प्रदर्शन खत्म हुआ। उल्लेखनीय है कि फीस वृद्धि के विरोध में यूनिवर्सिटी के छात्रों का बीते कई दिनों से यूनिवर्सिटी में विरोध प्रदर्शन चल रहा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 केंद्रीय मंत्री बोले- फीस वापसी बहाना, JNU को अरबन नक्सलियों का गढ़ है बनाना, कन्हैया कुमार ने पूछा- फीस बढ़ाना जरूरत या साजिश?
2 झारखंड चुनावः BJP स्टार प्रचारकों की पहली सूची में बिहार के डिप्टी CM सुशील मोदी और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के नाम नहीं
3 पॉल्यूशन पर संसद की बहस में नहीं पहुंचे अधिकारी, स्टाफ तो स्पीकर ने लगायी झाड़, नोटिस जारी कर मांगा जवाब
जस्‍ट नाउ
X