ताज़ा खबर
 

JNU छात्रों के आगे झुकी मोदी सरकार, हॉस्टल फीस बढ़ोतरी में 50% कमी; छात्रों को आर्थिक मदद का भी ऐलान

विश्वविद्यालय में फीस बढ़ाने को लेकर चल रहे छात्रों के प्रदर्शन के बाद सरकार की तरफ से फीस बढ़ाने के फैसले को वापस ले लिया गया है। इसके अलावा सरकार ने आर्थिक मदद का भी ऐलान किया है।

Author नई दिल्ली | Updated: November 14, 2019 12:17 PM
सरकार ने जेएनयू में हॉस्टल फीस बढ़ाने के फैसले को वापस ले लिया है।(फाइल फोटो)

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय यानी JNU में हॉस्टल फीस बढ़ाने के फैसले को लेकर अंतत: मोदी सरकार को झुकना पड़ा है। विश्वविद्यालय में फीस बढ़ाने को लेकर चल रहे छात्रों के प्रदर्शन के बाद सरकार की तरफ से फीस बढ़ाने के फैसले को वापस ले लिया गया है। इसके अलावा सरकार ने आर्थिक मदद के लिए भी कहा है।

पिछले एक पखवाड़े से जारी प्रदर्शन के बीच जेएनयू ने हास्टल फीस में वृद्धि में बुधवार को आर्थिक रूप से कमजोर तबके (ईब्ल्यूएस) के छात्रों को कमरे के किराये सहित कुछ मदों में रियायत दे दी। साथ ही हास्टल में आने के समय तथा डाइनिंग हाल से जुड़े ड्रेस कोड से जुड़े निर्देश को भी वापस ले लिया गया है ।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्र संघ और अध्यापक संघ के सदस्यों ने छात्रावास शुल्क में वृद्धि को ‘‘आंशिक रूप से वापस लेने’’ को ‘दिखावटी’ बताया। मानव संसाधन विकास मंत्रालय में सचिव आर सुब्रमण्यम ने ट्वीट किया, ‘‘ जेएनयू कार्यकारिणी परिषद् छात्रावास शुल्क और अन्य नियमों को बहुत हद तक वापस लेने का फैसला करती है। आर्थिक रूप से कमजोर तबके (ईब्ल्यूएस) के छात्रों के लिये आर्थिक सहायता की एक योजना का भी प्रस्ताव किया गया है। कक्षाओं में लौटने का वक्त आ गया है।’

जेएनयू की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, आर्थिक रूप से कमजोर तबके (ईब्ल्यूएस) के पात्र छात्रों के लिये एक बेड वाले कमरे का किराया आंशिक रूप से वापस लेते हुए 300 रूपया कर दिया गया है जिसे पहले 20 रूपये प्रति माह से बढ़ाकर 600 रूपया कर दिया गया था । दो बेड वाले कमरे का किराया अब कम करके 150 रूपया किया गया है जिसे पहले 10 रूपये से बढ़ाकर 300 रूपये प्रति माह किया गया था।

एक मुश्त रिफंडेबल मेस डिपोजिट को सभी वर्गो के लिये पूर्ववत 5500 रूपया कर दिया गया है जो पहले बढ़ाकर 12000 रूपया कर दिया गया था । हास्टल में आने के समय तथा डाइनिंग हाल से जुड़े ड्रेस कोड संबंधी निर्देश को भी वापस ले लिया गया है । इस तरह से आज की बैठक में आर्थिक रूप से कमजोर तबके (ईब्ल्यूएस) के छात्रों के लिये के कमरे के किराये, पानी, बिजली चार्ज तथा सर्विस चार्ज में की गई वृद्धि में 50 प्रतिशत की रियायत दी गई है ।

इसके तहत जेआरएफ, एसआरएफ एवं अन्य छात्रवृत्ति या फेलोशिप प्राप्त अन्य छात्रों को एक सीटर कमरे के लिये 600 रूपये और दो सीटर कमरे के लिये 300 रूपये किराया देना होगा। इससे पहले जेएनयू के  रजिस्टार ने एक बयान में कहा था कि विश्विद्यालय में प्रतिवर्ष पानी, बिजली और सेवा शुल्क पर 10 करोड़ रुपये खर्च होते हैं। जो विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) से प्राप्त सामान्य धनराशि से चुकाया जाता है।

(भाषा इनपुट के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ओवैसी पर भड़के BJP सांसद साक्षी महाराज, कहा- गद्दारी की बातें न करें, सरकार का अगला लक्ष्य जनसंख्या नियंत्रण
2 ‘नाजायज है येदियुरप्पा सरकार’, कांग्रेस नेता बोले- SC ने ऑपरेशन कमल के ढोल की पोल खोल दी
3 Kerala State Lottery Today Results announced Live: इनकी लगी 60 लाख रुपए तक की लॉटरी, इनाम की रकम पाने के लिए सिर्फ 30 दिन
जस्‍ट नाउ
X