ताज़ा खबर
 

JNU के 11 प्रोफसर ने बनार्इ 200 पन्‍नों की रिपोर्ट, यूनिवर्सिटी को बताया- ऑर्गनाइज्‍ड सेक्‍स रैकेट का अड्डा

जेएनयू के 11 प्रोफेसर्स ने 200 पेज का एक डॉजियर तैयार किया है जिसमें JNU को 'ऑर्गनाइज्ड सेक्स रैकेट' का गढ़ बताया गया है। यह डॉजियर जेएनयू प्रशासन को सौंपा गया दिया गया है।

जेएनयू के 11 प्रोफेसर्स ने 200 पेज का एक डॉजियर तैयार किया है जिसमें JNU को ‘ऑर्गनाइज्ड सेक्स रैकेट’ का गढ़ बताया गया है। (Photo: Express Archive)

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के शिक्षकों के एक वर्ग ने एक साल पुरानी रपट लीक कर नया विवाद पैदा कर दिया है। जेएनयू के 11 प्रोफेसर की ओर से तैयार की गई इस रिपोर्ट का हवाला देकर शिक्षकों ने संवाददाताओं से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि कैंपस में पैसे, सेक्स और शराब के चक्कर में नवांगतुक छात्र फंस रहे हैं। उन्होंने यह भी दावा किया है कहा कि इस रैकेट में कुछ सुरक्षाकर्मी भी शामिल हैं।

जानकारी के मुताबिक जेएनयू के 11 शिक्षकों के एक समूह ने 200 पन्नों की रिपोर्ट तैयार की है, जिसमें विश्वविद्यालय को ‘सेक्स रैकेट चलाने वालों का अड्डा’ बताया गया है। यह दस्तावेज 2015 में तैयार गया था, लेकिन इसे कुछ पत्रकारों को हाल में जारी किया गया है। उन्होंने दावा किया कि यह रिपोर्ट जेएनयू प्रशासन को सौंपी जा चुकी है।

Read Also: कन्‍हैया पर आरोप-JNU कैंपस में खुले में पेशाब करने से रोकने पर छात्रा को धमकाया, लगा था 3 हजार का जुर्माना

एक शिक्षक अमिता सिंह ने कहा कि एक हजार से ज्यादा छात्र-छात्राओं पर शराब पीने और दूसरी अनैतिक गतिविधियों के लिए 2 हजार से लेकर 5 हजार रुपए तक जुर्माना लगाया जा चुका है। हॉस्टल के गेटों पर कोई भी शराब की बोतलें देख सकता है। हॉस्टल की मेस में सेक्स वर्करों का आना आम है।  इस डॉजियर का टाइटल ‘जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी: द डेन ऑफ सेशेनिज्म एंड टेररिज्म’ है। इसे तैयार करने में स्पेशल सेंटर फॉर संस्कृत स्टडी के असिस्टेंट प्रोफेसर हरिराम मिश्रा भी शामिल थे।

Read Also: BJP MLA ने कहा- सेक्स और ड्रग्स का गढ़ है JNU, रोज मिलती हैं 3000 बीयर कैन और कंडोम

प्रोफेसर मिश्रा ने बताया कि यह डॉजियर यूनिवर्सिटी को बचाने के लिए तैयार किया गया है। यूनिवर्सिटी में वामपंथी दूसरे लोगों को फ्रीडम ऑफ स्‍पीच के नाम पर डराते हैं। जेएनयू में मेधावी छात्रों पर वामपंथी छात्रों को प्राथमिकता दी जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App