ताज़ा खबर
 

कश्मीर में ताबड़तोड़ आतंकी हमले, 11 सुरक्षाकर्मी शहीद, 8 आतंकवादी ढेर

प्रधानमंत्री के जम्मू कश्मीर दौरे से दो दिन पहले आतंकवादियों ने शुक्रवार को कई स्थानों पर हमले किए जिनमें 11 सुरक्षाकर्मियों सहित 21 लोगों की जान चली गई। बारामूला जिले के उड़ी में सेना के एक शिविर पर हमले में एक लेफ्टिनेंट कर्नल सहित 11 सुरक्षाकर्मी मारे गए। इसके बाद श्रीनगर के त्राल और शोपियां […]

Author December 6, 2014 9:19 AM
उरी सेक्टर में सेना के शिविर पर हमला: 11 सुरक्षाकर्मियों और छह उग्रवादियों की मौत

प्रधानमंत्री के जम्मू कश्मीर दौरे से दो दिन पहले आतंकवादियों ने शुक्रवार को कई स्थानों पर हमले किए जिनमें 11 सुरक्षाकर्मियों सहित 21 लोगों की जान चली गई। बारामूला जिले के उड़ी में सेना के एक शिविर पर हमले में एक लेफ्टिनेंट कर्नल सहित 11 सुरक्षाकर्मी मारे गए। इसके बाद श्रीनगर के त्राल और शोपियां में कई हमले हुए। त्राल में हमले में दो नागरिक मारे गए। सुरक्षा बलों ने जवाबी कार्रवाइयों में लश्कर ए तैयबा के एक शीर्ष कमांडर सहित आठ आतंकवादियों को मार गिराया। जम्मू कश्मीर में मंगलवार को दूसरे चरण के मतदान में 72 फीसद वोट पड़ने के तीन दिन बाद यह घटना हुई है।

श्रीनगर में सोमवार को रैली को संबोधित करने वाले मोदी ने आतंकवादी हमले की निंदा करते हुए इसे ज्यादा मतदान से पैदा हुई उम्मीदों को ध्वस्त करने के लिए ‘बेतरतीब प्रयास’ बताया और देश के लिए कुर्बान होने वाले सैनिकों को सैल्यूट किया। उड़ी, श्रीनगर, त्राल और शोपियां में तीसरे और चौथे चरण के तहत आगामी दस दिनों में मतदान होंगे।

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि आतंकवादियों ने यहां से 100 किलोमीटर दूर उत्तर कश्मीर के बारामूला जिले के उड़ी तहसील के मोहरा में शुक्रवार तड़के तीन बजे सेना के शिविर पर हमला बोल दिया। आतंकवादियों के हमले में सेना के आठ जवान और तीन पुलिसकर्मी मारे गए। उड़ी श्रीनगर से करीब 100 किलोमीटर उत्तर पश्चिम में है जहां मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक रैली को संबोधित करने वाले हैं।

uri-print

सूत्रों ने कहा कि आतंकवादी उच्च सुरक्षा वाली तोप इकाई में सुबह तीन बजकर 10 मिनट पर घुसे और कई चक्र गोलियां चलाईं जिससे आग लग गई। हमले में जख्मी सेना के चार जवान बैरक से बाहर ही नहीं निकल पाए और उनकी झुलसकर मौत हो गई। स्थानीय पुलिस और निकटवर्ती पंजाब रेजीमेंट को संदेश दिया गया जिसने आतंकवादियों से मुकाबले के लिए त्वरित प्रतिक्रिया दल को रवाना किया। बहरहाल यह टीम गोलीबारी में फंस गई जिसमें पंजाब रेजीमेंट के लेफ्टिनेंट कर्नल संकल्प कुमार और तीन अन्य सैनिक मारे गए। जम्मू कश्मीर पुलिस के एक सहायक उपनिरीक्षक और दो सिपाहियों को भी आतंकवादियों ने मार गिराया। इन आतकंवादियों के बारे में माना जा रहा है कि उन्होंने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से सोमवार या मंगलवार को घुसपैठ की होगी।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सैन्य शिविर पर हमला करने वाले सभी छह आतंकवादियों को मार गिराया गया। इसके अलावा पंजाब रेजीमेंट के लेफ्टिनेंट कर्नल संकल्प कुमार और सात जवान शहीद हो गए। सेना के चार जवानों के शव झुलस गए, एक शव पर जलने के निशान हैं और तीन अन्य पर गोलियों के जख्म हैं।

मारे गए आतंकवादियों से छह एके राइफल, 55 मैगजीन, दो शॉटगन, रात में देखने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले दो दूरबीन, चार रेडियो सेट, 32 ग्रेनेड, एक चिकित्सा किट और काफी मात्रा में गोला बारूद व अन्य चीजें जब्त की गईं।
हमले का ब्योरा देते हुए सेना के अधिकारियों ने कहा कि सेना के शिविर पर भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों ने स्वचालित हथियारों से गोलीबारी की। उन्होंने बताया कि सेना ने तुरंत जवाबी कार्रवाई की और नजदीक के शिविरों से भी सहायता मिली। उन्होंने कहा कि अभियान करीब छह घंटे तक चला।

पुलिस ने बताया कि श्रीनगर के पास सौरा में लश्कर ए तैयबा का शीर्ष कमांडर कारी इसरार अपने सहयोगियों के साथ मारा गया। ये दोनों शहर में घुसने की कोशिश में थे। अहमदनगर के सौरा में एक जांच चौकी पर उन्होंने भागने की कोशिश की लेकिन उनका पीछा किया गया जिसके बाद हुई मुठभेड़ में इसरार मारा गया। उससे एक एके 47 राइफल बरामद की गई। उसी इलाके में एक घर में छिपे उसके साथी आतंकवादी को भी संक्षिप्त मुठभेड़ में मार गिराया गया। पुलिस महानिरीक्षक अब्दुल गनी मीर ने बताया कि सुरक्षाबलों और छिपे हुए आतंकवादी के बीच मुठभेड़ के दौरान गौशाला में एक ग्रेनेड धमाका हुआ जिससे वहां आग लग गई।

मीर ने कहा कि उनके पास सूचना थी कि आतंकवादी आगामी दिनों में बड़ा हमला करने के लिए श्रीनगर में घुसेंगे। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के त्राल में आतंकवादियों ने भीड़भाड़ वाले बस स्टैंड पर खड़े सुरक्षाकर्मियों पर ग्रेनेड फेंका। इसमें गुलाम हसन मीर (60) सहित दो नागरिकों की मौत हो गई और छह अन्य जख्मी हो गए। पुलिस के मुताबिक ग्रेनेड विस्फोट के तत्काल बाद पूरे इलाके को सुरक्षाबलों ने घेर लिया है और हमले में शामिल आतंकवादियों की धर-पकड़ के लिए अभियान छेड़ दिया है। किसी भी आतंकवादी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है।

Uri Sector Militant attack उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के उड़ी इलाके में तड़के हमले में चार सुरक्षा कर्मी और तीन आतंकियों की मौत हो गई (एक्सप्रेस फोटो: शूएब मसूद)

मीर ने कहा कि हम इसे प्रधानमंत्री की यात्रा से पहले एक बड़ी सफलता के रूप में देखते हैं। खतरा खत्म कर दिया गया। अचानक आतंकवादी हमलों में तेजी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि कश्मीर में आतंकवाद खत्म नहीं हुआ है। घाटी में अभी भी आतंकवाद है जिससे हम निपट रहे हैं।
चुनाव और मंगलवार को प्रधानमंत्री की प्रस्तावित रैली से पहले श्रीनगर में आतंकवादियों के आत्मघाती हमले करने की सूचना के बाद पुलिस ने वाहनों की जांच तेज कर दी है।

एक अन्य हमले में दक्षिण कश्मीर के शोपियां में आतंकवादियों ने पुलिस के गश्ती दल पर ग्रेनेड फेंका लेकिन किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। शोपियां संवेदनशील इलाका रहा है क्योंकि आतंकवादी पीरपंजाल श्रृंखला से डोडा इलाके में आते हैं और इस इलाके का इस्तेमाल पारगमन स्थल के रूप में करते हैं।

सेना ने कुपवाड़ा जिले के हंदवाड़ा इलाके में दो दिसंबर को छह आतंकवादियों को ढेर कर घुसपैठ के प्रयास को विफल कर दिया था। इस दौरान सेना का एक जवान भी मारा गया था। कुपवाड़ा जिले में मतदान के दौरान घुसपैठ की नाकाम कोशिश की थी।

जम्मू क्षेत्र के राजौरी में केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पाकिस्तान को आतंकवादी हमले रोकने के लिए तुरंत कदम उठाने चाहिए। पाकिस्तान को अगर इसे रोकने में समस्या आ रही है तो उन्हें भारत से वार्ता करनी चाहिए। हम उनकी मदद को इच्छुक हैं। उन्होंने कहा कि सीमा पार से घुसपैठ जारी है और पाकिस्तान से आतंकवादी घुसकर यहां विध्वंस मचाते हैं। उन्होंने पूछा, ‘क्या पाकिस्तान इसके लिए जवाबदेह नहीं है।’

दिल्ली में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर ने कहा कि यह संभव है कि चुनावों के कारण ऐसा हुआ हो। जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा कि हमला शांति व स्थिरता को भंग करने का ‘निराशाजनक प्रयास’ है। उन्होंने ट्वीट किया- एक बार फिर लगता है कि निराश आतंकवादी शांति एवं स्थिरता को बाधित करेंगे।
सैन्य शिविर पर निशाना

तड़के तीन बजे हुए स्वचालित हथियारों से उड़ी के सैन्य शिविर पर किया हमला। छह घंटे तक चली मुठभेड़ में फौज ने सभी छह आतंकवादियों को मार गिराया। लेकिन इस दौरान पंजाब रेजीमेंट के लेफ्टिनेंट कर्नल संकल्प कुमार और सात जवानों के अलावा जम्मू कश्मीर पुलिस का एक एएसआइ और दो सिपाही भी शहीद हो गए। उड़ी श्रीनगर से करीब 100 किलोमीटर उत्तर पश्चिम में है जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को एक रैली को संबोधित करने वाले हैं।
त्राल और शोपियां में ग्रेनेड हमले

दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के त्राल में आतंकवादियों ने बस अड्डे पर खड़े सुरक्षाकर्मियों पर ग्रेनेड फेंका। इसमें गुलाम हसन मीर (60) सहित 2 की मौत हो गई और 6 अन्य जख्मी हो गए। पूरे इलाके को सुरक्षाबलों ने घेर लिया है और आतंकवादियों की धरपकड़ के लिए अभियान जारी है। दक्षिण कश्मीर के ही शोपियां में भी ग्रेनेड हमला हुआ पर कोई हताहत नहीं हुआ।

लश्कर कमांडर व साथी ढेर

आत्मघाती हमलों को अंजाम देने के इरादे से श्रीनगर में घुसने की कोशिश कर रहा लश्कर ए तैयबा का शीर्ष कमांडर कारी इसरार और उसका साथी आतंकवादी को सुरक्षा बलों ने मार गिराया। श्रीनगर के पास सौरा में सुरक्षाबलों को देखकर भागने की कोशिश की पर मुठभेड़ में मारा गया। पास के ही एक घर में छिपे उसके साथी आतंकवादी को भी संक्षिप्त मुठभेड़ में मार गिराया गया। मुठभेड़ के दौरान गौशाला में एक ग्रेनेड धमाका हुआ जिससे वहां आग लग गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App