ताज़ा खबर
 

कोटा: ICU में बाथरूम का पानी, मशीनें खराब, ऑक्सीजन तक नहीं, 30 दिन में 91 बच्चों की मौत

बताया जा रहा है कि यहां आधारभूत संरचाओं की भारी कमी है। अस्पताल में स्टाफ, डॉक्टर, ऑक्सीजन और जरुरी मशीनों की भारी कमी है।

child dead, dead, kota प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स – इंडियन एक्सप्रेस

राजस्थान के कोटा जिले में स्थित JK Lone Maternal and Child Hospital में बच्चों की मौतों का सिलसिला नहीं रूक रहा है। यहां एक महीने में यानी दिसंबर में अब तक 91 बच्चों की मौत हो चुकी है। इस महीने में शुक्रवार तक यहां 77 बच्चों की मौत हो चुकी थी। लेकिन महज पांच दिनों के अंदर यहां करीब दर्जन भर बच्चों की मौत हो गई। अस्पताल में इस साल अब तक कुल 900 से ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है। बच्चों की मौत के बाद अब अस्पताल के अंदर कई खामियों का खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है कि यहां आधारभूत संरचाओं की भारी कमी है। अस्पताल में स्टाफ, डॉक्टर, ऑक्सीजन और जरुरी मशीनों की भारी कमी है।

यह भी खुलासा हुआ है कि शिशू रोग विभाग के FBNC (Facility Based Newborn care) यूनिट में कई दिनों से ऊपर बने वार्ड के बाथरूम से गंदा पानी टपक रहा है। आईसीयू में भी बाथरूम का पानी आने की वजह से यहां हर वक्त संक्रमण का खतरा बना रहता है। अस्पताल के आईसीयू में बिस्तर की कमी होने की वजह से एक ही बिस्तर में 2-3 बच्चों को इलाज किया जाता है। यह अस्पताल कोटा-बूंदी संसदीय क्षेत्र में पड़ता है जिसके प्रतिनिधि लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला हैं। बीते रविवार को ओम बिड़ला ने अस्पताल में बच्चों की मौत और अस्पताल की जर्जर हालत पर चिंता जाहिर की थी। उन्होंने राज्य सरकार से इस मामले में संवेदनशीलता के साथ कार्रवाई करने की मांग भी की थी।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस मामले की जांच के लिए हाई-लेवल कमेटी भी बनाई थी। इस कमेटी में विशेषज्ञ डॉक्टर और विषयों से संबंधित चिकितत्सक शामिल थे। तीन सदस्यीय टीम ने अस्पताल में आधारभूत संरचनाओं के विकास और तत्काल ऑक्सीजन की सप्लाई किये जाने की सलाह दी थी।

इतना ही नहीं अस्पताल प्रशासन को जरूरी चिकित्सीय मशीनों के लिए जल्द से जल्द टेंडर प्रक्रिया को खत्म करने का निर्देश भी दिया गया है। आपको बता दें कि इससे पहले ऐसी ही घटना उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में स्थित अस्पताल में भी हुई थी। इस अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी की वजह से अगस्त 2017 में 77 बच्चों की मौत हो गई थी।

Next Stories
1 VIDEO: कोटा में 8 पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थियों को मिली भारत की नागरिकता, 19 साल बिता रहे थे निर्वासित जीवन
2 लॉन्च से पहले Xiaomi Mi 10 Pro की डिटेल लीक! मिलेगा 108MP का कैमरा और वायरलेस चार्जिंग सपोर्ट
3 बेडशीट में लिपटा मिला महिला का बिना सिर और पांव वाला शव, अज्ञात शव मिलने का तीसरा मामला
ये पढ़ा क्या?
X