ताज़ा खबर
 

मांझी ने सम्मानजनक संख्या में सीटें मांगी राजग से, बोले दूसरे विकल्प खुले

पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने बिहार विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा नीत राजग से सम्मानजनक संख्या में सीटों की मांग की है। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं हुआ...

Author July 13, 2015 08:58 am
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी। (फाइल फोटो)

हिंदुस्तान अवामी मोर्चा सेक्युलर के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने बिहार विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा नीत राजग से सम्मानजनक संख्या में सीटों की मांग की है। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं हुआ तो वह दूसरे विकल्पों पर भी विचार कर सकते हैं।

राजद से निष्कासित मधेपुरा के सांसद और नवगठित जनाधिकार पार्टी के संस्थापक राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव के साथ रविवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में मांझी ने कहा कि हम राजग से सम्मान और बिहार विधानसभा चुनाव में सम्मानजनक सीटों की उम्मीद रखते हैं। हाल में राजग में शामिल हुए मांझी ने कहा कि हमें जब तक सम्मान मिलता रहेगा, हम कहीं नहीं जाएंगे, वरना सभी विकल्प खुले हैं।

पप्पू यादव की पार्टी के साथ गठबंधन की संभावना जताते हुए उन्होंने कहा कि समाज के वंचित लोगों से जुड़े विषयों के अलावा सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक विषयों पर उनके विचार समान हैं। इस अवसर पप्पू ने मांझी को नीतीश कुमार और लालू प्रसाद से बड़ा नेता बताते हुए राजग को उन्हें मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर पेश करने का सुझाव दिया।

गत 25 जून को राजग के घटक दल राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) की ओर से अपने नेता उपेंद्र कुशवाहा को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने का प्रस्ताव पारित करने व भाजपा को बिहार विधानसभा की 243 सीटों में से 102 सीटों पर ही चुनाव लड़ने का सुझाव दिए जाने और लोजपा की तरफ से हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा सेक्युलर के पांच संभावित चुनावी उम्मीदवारों को टिकट देने पर उनके खिलाफ अपना उम्मीदवार खड़ा करने की धमकी के कारण राजग के इन घटक दलों के बीच मतभेद की अटकलों को बल मिला है।

लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान साफ कर चुके हैं कि वे या उनकी पार्टी के भीतर कोई भी मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार नहीं है। सबसे बड़ा घटक दल होने के नाते भाजपा जिसे भी मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाएगी, उन्हें स्वीकार होगा। लेकिन जीतन राम मांझी की पार्टी के उन पांच संभावित उम्मीदवारों जद (एकी) के बागी विधायक व पूर्व कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह के दो बेटों अजय प्रताप (जमुई) और सुमित कुमार सिंह (चकाई), जद (एकी) से निष्कासित विधायक राजू सिंह (साहेबगंज) और अजित कुमार (कांटी) के अलावा टेकारी से जद (एकी) विधायक अनिल कुमार को टिकट दिए जाने की संभावना का यह कहकर विरोध कर रही है कि इन लोगों ने 2005 में उसे दगा दिया था और जद (एकी) में चले गए थे। लेकिन मांझी ने कहा कि राजग के साथ सीटों को लेकर बातचीत के समय उनके साथ 15 निवर्तमान जद (एकी) के बागी विधायकों को टिकट दिए जाने की शर्त तो रहेगी ही।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, जिन्होंने लोकसभा चुनाव के बाद मांझी को अपना उत्तराधिकारी चुना था, से बगावत करने वाले मांझी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से तीन बार मिलने के बाद भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से हाल में दिल्ली में मिले थे और बिहार विधानसभा चुनाव में राजग के साथ हाथ मिलाने की घोषणा की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App