ताज़ा खबर
 

मांझी ने सीएम नीतीश पर लगाया ‘कमीशन’ लेने का आरोप, जदयू विधायक ने जताई आपत्ति

जीतनराम मांझी ने आरोप लगाया, ‘‘धान खरीद के लिए सरकार की ओर से समर्थन मूल्य 1400 रुपये प्रति क्विंटल तय किया गया है, लेकिन बिहार में किसानों को मात्र 900 रुपये से 1000 रुपये प्रति क्विंटल मिलता है और बाकी राशि ‘दलाल’ हड़प कर जाते हैं।’’

Author पटना | March 2, 2016 11:30 PM
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) सेक्युलर प्रमुख जीतन राम मांझी। (फाइल फोटो)

बिहार विधानसभा में बुधवार (2 मार्च) को पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) सेक्युलर प्रमुख जीतन राम मांझी ने राज्य में जारी विभिन्न परियोजनाओं का ‘कमीशन’ मुख्यमंत्री आवास पहुंचाए जाने का आरोप लगाते हुए मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की। हालांकि इस आरोप पर कड़ी आपत्ति जताते हुए जदयू के एक विधायक ने मामले में सबूत पेश करने या फिर माफी मांगने को कहा है।

औरंगाबाद जिला के रफीगंज विधानसभा क्षेत्र से जदयू विधायक अशोक कुमार सिंह ने शून्यकाल के दौरान मामले को उठाते हुए मांझी से कहा, ‘‘या तो वह आरोप को साबित करने के लिए सबूत पेश करें या फिर इस ‘बेबुनियाद’ आरोप के लिए सदन में माफी मांगे।’’

मांझी सदन में मौजूद थे लेकिन उन्हें बोलने का मौका नहीं मिल सका। बाद में मांझी ने सदन के मुख्यद्वार पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान अपने आरोप पर कायम रहे और सच सामने लाने के लिए सीबीआई जांच कराने की मांग की। उन्होंने कहा, ‘‘यदि सीबीआई जांच में यह बात गलत साबित होगी तो मैं सदन की सदस्यता से इस्तीफा दे दूंगा।’’

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘धान खरीद के लिए सरकार की ओर से समर्थन मूल्य 1400 रुपये प्रति क्विंटल तय किया गया है, लेकिन बिहार में किसानों को मात्र 900 रुपये से 1000 रुपये प्रति क्विंटल मिलता है और बाकी राशि ‘दलाल’ हड़प कर जाते हैं।’’

मांझी ने आरोप लगाया कि बिचौलियों द्वारा हड़पी गयी राशि नीचे से उपर तक, जिसमें मुख्यमंत्री आवास भी शामिल है, को जाती है। उन्होंने आरोप लगाया कि इसी प्रकार से बाहर की कंपनियां जो कि मुख्यमंत्री आवास और अन्य को अधिक ‘कमीशन’ उपलब्ध कराते हैं उनको लाभ पहुंचाने के लिए पटना में बनाए जा रहे अंतराष्ट्रीय संग्रहालय के निर्माण के वास्तविक प्राक्कलन 250 करोड़ रुपये को बढ़ाकर 580 करोड़ रुपये कर दिया गया। सीबीआई को मामले की जांच करने दी जाए सच्चाई सामने आ जाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App