ताज़ा खबर
 

JHARKHAND ELECTIONS: मर्डर आरोपी, कथित साजिशकर्ता और मृतक के बेटे के बीच दिलचस्प जंग, दो जेल से ही किया प्रचार!

विधायक रमेश मुंडा की हत्या के बाद हुए उपचुनाव में जीत हासिल करने के लिए भी राजा पीटर ने माओवादियों की मदद ली। इसके बाद वह झारखंड सरकार में मंत्री भी बन गया।

Author Translated By Anil Kumar रांची | Updated: December 7, 2019 10:44 AM
jharkhand election, jharkhand election 2019, jharkhand election voting, jharkhand election news, jharkhand election polling, jharkhand election 2019 live, jharkhand chunav, jharkhand assembly election 2019, jharkhand vidhan sabha chunav, jharkhand vidhan sabha election live news, jharkhand today news, jharkhand election latest news, jharkhand election result dateविकास मुंडा, राजा पीटर (मध्य) और कुंदन पाहन(दाएं)। (फाइल फोटो)

झारखंड में दूसरे चरण के चुनाव में तमाड़ विधानसभा सीट पर मुकाबला बेहद अनोखा है। यहां चुनाव उम्मीदवार के रूप में एक मर्डर का आरोपी, कथित साजिशकर्ता और मृतक के बेटे के बीच चुनावी टक्कर देखने को मिल रही है। इनमें से दो लोगों ने जेल से ही अपना चुनाव प्रचार किया।

तमाड़ विधानसभा सीट पर झारखंड मुक्ति मोर्चा ने विकास मुंडा को उम्मीदवार बनाया है। विकास पूर्व विधायक रमेश मुंडा के बेटे हैं जिनकी साल 2008 हत्या कर दी गई थी। इस हत्या के मामले में मुख्य आरोपी कुंदन पाहन झारखंड पार्टी की तरफ से चुनावी मैदान में हैं। हत्या के मामले में साजिशकर्ता गोपाल कृष्ण पातर ऊर्फ राजा पीटर भी एनसीपी के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं।

विकास मुंडा खुद अपना चुनाव प्रचार किया जबकि दो अन्य उम्मीदवार कुंदन पाहन और राजा पीटर जेल में बंद हैं। इन दोनों के लिए उनके परिवारवालों ने चुनाव प्रचार किया। रमेश मुंडा साल 2008 में जब जदयू की तरफ से विधायक थे, तब उनकी हत्या कर दी गई थी। कुंदन व अन्य माओवादियों ने रमेश मुंडा की कथित रूप से हत्या की थी।

पुलिस ने कहा था कि कुंदन 128 आपराधिक मामले में वांछित था। उनसे साल 2017 में आत्मसमर्पण कर दिया। कुंदन के बड़े भाई हरी ने कहा कि हमारी जमीन को जबरदस्ती हमसे छीन लिया गया था। इसके बाद कुंदन माओवादी बन गया था। अब उसने सरेंडर कर दिया है, वह चुनाव लड़ना चाहता था और हमने उसके चुनाव प्रचार में मदद की।

कुंदन के एनआईए के सामने यह स्वीकार किया कि विधायक रमेश मुंडा की हत्या का मुख्य साजिशकर्ता राजा पीटर था। एनआईए ने कहा था कि राजनीतिक महत्वाकांक्षा के तहत राजा पीटर ने माओवादियों के साथ मिलकर हत्या की साजिश रची थी। इतना ही नहीं विधायक की हत्या के बाद हुए उपचुनाव में जीत हासिल करने के लिए भी उसने माओवादियों की मदद ली। इसके बाद वह झारखंड सरकार में मंत्री भी बन गया।

हालांकि, चुनाव प्रचार के दौरान पीटर की पत्नी आरती ने कहा कि उनके पति के खिलाफ लगाए गए आरोप आधारहीन हैं और जनता इस बात को जानती है। लोगों का कहना है कि पीटर की पत्नी जनता की सहानुभूति के तहत वोट हासिल करना चाहती हैं। पीटर उप चुनाव में झामुमो के मुखिया शिबू सोरेन को हरा चुका है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 हैदराबाद रेप केस: 50 मीटर के दायरे में पड़ी थीं चार लाशें, वी.एस. सज्जनार ने किए तीन एनकाउंटर, तीनों एक तरीके से और एक ही दलील देकर
2 ‘तालिबानी न्याय की संविधान में जगह नहीं’, HYDERABAD ENCOUNTER के खिलाफ रिटायर्ड जजों ने यूं उठाई आवाज
3 HYDERABAD ENCOUNTER: आरोपी की गर्भवती पत्नी बोली- मुझे भी वहीं ले जाकर गोली से उड़ा दो; मां का दर्द- उन्हें कुत्तों का खाना खिलाते, मारा क्यों?
ये पढ़ा क्या?
X