scorecardresearch

Jharkhand Ropeway: रेस्क्यू के दौरान हेलीकॉप्टर से गिरा शख्स, मौत; जानें अबतक का हाल

सोमवार को अंधेरा बढ़ने की वजह से राहत बचाव कार्य रोक दिया गया है और इसे मंगलवार की सुबह फिर शुरू किया जाएगा। भारतीय वायुसेना के अनुसार, देवघर जिले में बचाव कार्य में दो एमआई-17 हेलीकॉप्टर शामिल हैं।

jharkhand ropeway, Ropeway accident

झारखंड के देवघर में रविवार को हुए रोपवे हादसे में बचाव कार्य में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। सोमवार को बचाव अभियान के दौरान रोपवे की ट्रॉली में फंसे एक व्यक्ति को निकालने की कोशिश की जा रही थी। लेकिन हेलीकॉप्टर के कॉकपिट के करीब वह पहुंचा ही था कि नीचे गिर गया। जिससे उसकी मौत हो गई।

इसका एक वीडियो भी सामने आया है जिसमें व्यक्ति भारतीय वायु सेना (IAF) के हेलीकॉप्टर से लटकती रस्सी को पकड़े हुए दिखाई दे रहा है। वह कॉकपिट के करीब पहुंचता नजर आ रहा था कि तभी फिसल गया और नीचे गिर गया। बता दें कि झारखंड के देवघर जिले में बाबा बैद्यनाथ मंदिर के पास त्रिकूट पहाड़ियों पर रविवार शाम रोपवे पर कुछ केबल कारों के आपस में टकराने से यह हादसा हुआ।

भारतीय वायुसेना के अनुसार, देवघर जिले में बचाव कार्य में दो एमआई-17 हेलीकॉप्टर शामिल है। सोमवार को अंधेरा बढ़ने की वजह से राहत बचाव कार्य रोक दिया गया है और इसे मंगलवार की सुबह फिर शुरू किया जाएगा।

देवघर के उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री ने जानकारी दी कि बचाव कार्य में एनडीआरएफ की एक टीम शामिल है। उन्होंने कहा कि स्थानीय लोग भी बचाव अभियान में एनडीआरएफ की मदद कर रहे हैं। उन्होंने लोगों से अफवाह न फैलाने की अपील करते हुए कहा कि मामला पूरी तरह से नियंत्रण में है। पैनिक होने की जरुरत नहीं है। जो लोग अभी भी फंसे हुए हैं, निकालने की कोशिश की जा रही है।

सोमवार की शाम में मंजूनाथ भजंत्री ने बताया कि रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान एक व्यक्ति की मौत हुई। मरने वालों की कुल संख्या 2 हुई। अब तक 32 लोगों को बचाया गया है। 15 लोगों के अभी भी 3 ट्रॉलियों में फंसे होने की आशंका है। कल सुबह फिर से शुरू होगा रेस्क्यू ऑपरेशन।

वहीं न्यूज एजेंसी एएनआई ने भारत सरकार के सूत्रों के हवाले से बताया है कि रोपवे घटना को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी लगातार देवघर के हालात पर नजर रखे हुए हैं। उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह के साथ बचाव कार्यों पर भी चर्चा की।

वहीं झारखंड के मंत्री हाफिजुल हसन ने ANI को बताया, “NDRF, वायुसेना और भारतीय सेना बचाव कार्य कर रही है। मेंटेनेंस के अभाव में दुर्घटना हो सकती है। मामले में जांच की जाएगी और जो भी लोग दोषी होंगे उन पर कार्रवाई की जाएगी। जान बचाना हमारी प्राथमिकता है।”

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.