ताज़ा खबर
 

खाप पंचायत ने प्रेमी दंपत्ति को सुनाया गो-मूत्र पीने, गोबर खाने का फरमान, पांच लाख जुर्माना भी

जिलाधिकारी शिव सहाय अवस्थी और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डी प्रदीप कुमार ने इसको गंभीरता से लिया है। प्रेमी युगल के घर पर सीओ और सिटी मजिस्ट्रेट को भेजकर मामले की जानकारी ली।

खाप पंचायत ने सुनाया अजीब फरमान।

यूपी के झांसी में खाप पंचायत ने एक प्रेमी दंपत्ति को गो-मूत्र पीने और गोबर खाने का फरमान सुनाया है। साथ में पांच लाख रुपए जुर्माना भी लगाया है। पंचायत ने युगल को बिरादरी से बाहर भी कर दिया है। इस बेतुकी आदेश से प्रेमी युगल बुरी तरह परेशान है। उसने डीएम-एसपी समेत उच्चाधिकारियों से गुहार लगाकर मदद और सुरक्षा की गुहार लगाई है। पुलिस का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। केस भी दर्ज किया गया है।

खास बात यह है कि प्रेमी युगल ने घर-परिवार की सहमति से शादी की थी। समारोह में दोनों परिवारों के लोग शामिल भी हुए थे। शादी के पांच साल हो भी गए हैं। लेकिन खाप पंचायत ने शादी को गलत मानते अब ऐसा आदेश दिया है। प्रेमी युगल का कहना है कि जब शादी दोनों परिवारों की सहमति पर हुआ है तो खाप पंचायत को उसमें हस्तक्षेप करने की क्या जरूरत है।

मामले में जिलाधिकारी शिव सहाय अवस्थी और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डी प्रदीप कुमार ने इसको गंभीरता से लिया है। प्रेमी युगल के घर पर सीओ और सिटी मजिस्ट्रेट को भेजकर मामले की जानकारी ली। डीएम के मुताबिक पूरे मामले की जांच कराई जा रही है। सभी पक्षों के बयान लिए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि आरोपी खाप पंचायत के पंचों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। सुरक्षा की गुहार पर प्रेमी युगल को सुरक्षा भी दी गई है।

आम तौर पर खाप पंचायतों के फरमान सुनाने के मामले पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान आदि में ज्यादा होते हैं। वहां पर भी घर, गांव और बिरादरी से निकालने की सजा मिलती हैं। लेकिन गो-मूत्र पीने और गोबर खाने जैसी सजा बहुत कम दी जाती है। ऐसे में झांसी में इस तरह का मामला सामने आने पर पुलिस-प्रशासनिक महकमें में हड़कंप मचा हुआ है। स्थानीय लोगों ने घटना को लेकर आक्रोश जताया है।

Next Stories
1 Kerala Karunya Lottery KR-434 Today Results Highlights: देखें विजेताओं की सूची, इनकी लगी 1 करोड़ रुपए तक की लॉटरी
2 दिल्ली चुनाव में छुआछूत की एंट्री- मनोज तिवारी बोले- केजरीवाल पूजा करने गए थे या हनुमान जी को अशुद्ध करने? यूजर कर रहे ट्रोल
3 ‘नौकरियों में आरक्षण मौलिक अधिकार नहीं’, सुप्रीम कोर्ट ने कही बड़ी बात- राज्यों को कोटा लागू करने का नहीं दे सकते निर्देश
ये पढ़ा क्या?
X