ताज़ा खबर
 

Bihar Assembly Polls: लालू और नीतीश मिल कर लड़ेंगे चुनाव

बिहार में सत्तारूढ़ जद (एकी) और लालू प्रसाद की राजद ने राज्य विधानसभा का चुनाव मिल कर लड़ने का फैसला किया है। दोनों के बीच सीटों के बंटवारे पर विचार करने के लिए छह सदस्यीय समिति बनाई गई है। समाजवादी पार्टी के महासचिव रामगोपाल यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद के बीच दो घंटे तक चली बैठक के बाद यहां कहा- आज यह तय किया गया कि राजद और जद (एकी) बिहार चुनाव गठबंधन में लड़ेंगे।

लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार के हाथ मिला लेने से बिहार में भाजपा की मुश्किलें बढ़ गई हैं। राष्ट्रीय जनता दल और जनता दल (एकी) का गठजोड़ निश्चय ही बिहार की चुनावी संभावनाओं को गहरे रूप से प्रभावित करेगा।

बिहार में सत्तारूढ़ जद (एकी) और लालू प्रसाद की राजद ने राज्य विधानसभा का चुनाव मिल कर लड़ने का फैसला किया है। दोनों के बीच सीटों के बंटवारे पर विचार करने के लिए छह सदस्यीय समिति बनाई गई है। समाजवादी पार्टी के महासचिव रामगोपाल यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद के बीच दो घंटे तक चली बैठक के बाद यहां कहा- आज यह तय किया गया कि राजद और जद (एकी) बिहार चुनाव गठबंधन में लड़ेंगे।

एक अन्य दिलचस्प घटनाक्रम में नीतीश और लालू की बैठक से पहले बिहार के मुख्यमंत्री ने कांगे्रस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के आवास पर जाकर उनसे मुलाकात की।

सपा प्रमुख मुलायम सिंह की मौजूदगी में रविवार को हुई इस बैठक के बाद रामगोपाल ने कहा कि छह सदस्यीय एक समिति सीटों के बंटवारे के बारे में विचार करेगी लेकिन उन्होंने समिति के सदस्यों का नाम बताने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि इसका खुलासा नहीं किया जा सकता। दोनों पार्टियों के समिति में तीन-तीन सदस्य होंगे जो सीट बंटवारे के महत्त्वपूर्ण कार्य पर निर्णय करेंगे। मुख्यमंत्री पद के प्रत्याशी के विवादास्पद मुद्दे पर सपा महासचिव ने कहा कि कोई विवाद नहीं है। बाद में इन चीजों को देखा जाएगा।

अपनी पार्टियों के नेताओं की कई हफ्ते तक चली बयानबाजियों के बाद नीतीश कुमार और लालू प्रसाद की मुलायम के आवास पर बैठक हुई। इसमें गठबंधन की अड़चनों को दूर करने के लिए बातचीत हुई ताकि राजनीतिक रूप से संवेदनशील इस राज्य में भाजपा के सत्ता पर काबिज होने के प्रयासों को विफल किया जा सके। बैठक में जद (एकी) अध्यक्ष शरद यादव भी मौजूद थे। कई हफ्तों के बाद पहली बार लालू और

नीतीश के बीच यह बैठक हुई। ऐसा प्रतीत होता है कि दोनों नेताओं के बीच मुख्यमंत्री के मुद्दे पर जारी मतभेद का बैठक में कोई हल नहीं निकल पाया।

जद (एकी) इस बात पर जोर देता आ रहा है कि नीतीश को मुख्यमंत्री प्रत्याशी घोषित किया जाए। जबकि लालू इस बात पर कायम हैं कि इस मुद्दे को बाद में देखा जाए। इस मामले में राजद नेता की बात ही रखी गई और मामले को लंबित रखा गया है। इस बैठक से पहले शरद यादव ने गुरुवार को कहा था कि राजद, जद (एकी) एवं कांगे्रस मिल कर चुनाव लड़ेंगे। बिहार के मुख्यमंत्री की राहुल के साथ यह बैठक भाजपा से निपटने के लिए धर्मनिरपेक्ष गठबंधन को लेकर चल रही बातचीत के बीच हुई है।

राहुल के साथ उनकी इस बैठक को इस रूप में देखा जा रहा है कि नीतीश की तरजीही पसंद कांगे्रस है। मुख्यमंत्री पद के प्रत्याशी को लेकर राजद और जद (एकी) नेताओं में गतिरोध के बीच कांगे्रस ने यह स्पष्ट किया है कि भले ही वह लालू और नीतीश सहित प्रस्तावित महाविलय को लेकर इच्छुक है, लेकिन यदि वे साथ में आने में विफल रहे तो पार्टी जद (एकी) के साथ जाना पसंद करेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App