ताज़ा खबर
 

राज्यसभा में दिखे शरद यादव के ‘बगावती तेवर’, इस मुद्दे पर दिया कांग्रेस का साथ

प्रश्नकाल में भी विपक्षी सदस्यों का हंगामा जारी रहा और सभापति हामिद अंसारी ने बैठक 15 मिनट के लिए स्थगित कर दी।
Author August 8, 2017 18:47 pm
शरद यादव ने कहा कि सरकार को जवाब देना होगा कि दो प्रकार के नोट कैसे छपे। (PTI)

जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के वरिष्ठ नेता शरद यादव मंगलवार को राज्यसभा में विपक्ष का साथ देते दिखे जब कांग्रेस दो प्रकार के नोटों की छपाई का आरोप लगाते हुए सरकार पर हमला बोल रही थी। चर्चा है कि शरद यादव बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू प्रमुख नीतीश कुमार द्वारा महागठबंधन तोड़ कर भाजपा के साथ जाने के मुद्दे पर नाराज चल रहे हैं। बिहार में भाजपा के साथ जदयू के गठबंधन के बाद भी सदन में शरद यादव की सीट नहीं बदली है और अब भी उनकी सीट विपक्ष की ओर ही है। शरद यादव के एक तरफ बसपा नेता एस सी मिश्रा की सीट है और दूसरी ओर सपा नेता रामगोपाल यादव की सीट है।

शून्यकाल में कांग्रेस सदस्य कपिल सिब्बल ने दो तरह के नोटों की छपाई का मुद्दा उठाया था। इस मुद्दे पर शरद यादव ने कहा कि दुनिया में कोई अन्य ऐसा देश नहीं होगा जहां दो आकार वाले नोट छपे हों। उन्होंने कहा कि सरकार को इस बारे में जवाब देना चाहिए। कांग्रेस सदस्यों को तृणमूल तथा जदयू के शरद यादव का समर्थन मिला। कई सदस्यों ने सदन में 500 रूपए के नए नोट भी दिखाए। तृणमूल के डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि यह एक गंभीर मुद्दा है। शरद यादव ने कहा कि सरकार को जवाब देना होगा कि दो प्रकार के नोट कैसे छपे।

कुरियन ने कहा कि वह कोई विशेषज्ञ नहीं हैं जो नोटों की जांच कर सकें। कांग्रेस के आनंद शर्मा ने कहा कि यह करेंसी की विश्वसनीयता का सवाल है। कुरियन ने हंगामा कर रहे सदस्यों से कहा कि वे इसे व्यवस्था के प्रश्न के तहत नहीं उठा सकते और अगर वे चर्चा चाहते हैं तो उन्हें उचित नोटिस देना चाहिए। सदन में हंगामा जारी रहने के कारण कुरियन ने बैठक करीब 11 बजकर 30 मिनट पर 15 मिनट के लिए स्थगित कर दी।

एक बार के स्थगन के बाद बैठक फिर शुरू होने पर भी सदन में इस मुद्दे को लेकर हंगामा जारी रहा। सरकार की ओर से संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी और कानून मंत्री प्रसाद ने कहा कि सरकार इस पर चर्चा के लिए तैयार है। कुरियन ने सदस्यों से शांत होने और सदन में शून्यकाल चलने देने की अपील की लेकिन हंगामा कर रहे सदस्यों पर अपील का कोई असर नहीं हुआ और उपसभापति ने 11 बजकर करीब 50 मिनट पर बैठक 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

प्रश्नकाल में भी विपक्षी सदस्यों का हंगामा जारी रहा और सभापति हामिद अंसारी ने बैठक 15 मिनट के लिए स्थगित कर दी। बैठक फिर शुरू होने पर भी हंगामा जारी रहने पर उन्होंने बैठक दोपहर एक बजे तक के लिए स्थगित कर दी। दोपहर एक बजे बैठक शुरू होने पर केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने 25 जुलाई 2017 को राज्यसभा में दिए गए एक अतारांकित प्रश्न के दिए गए उत्तर के संशोधनार्थ एक विवरण सदन के पटल पर रखा। इसके बाद बैठक दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गयी।

देखिए वीडियो - नीतीश के नए कैबिनेट में है दागियों की भरमार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.