ताज़ा खबर
 

आरजेडी सुप्रीमो से मुलाकात के आरोपों पर प्रशांत किशोर का जवाब- मैं बोलूंगा तो शर्मिंदा हो जाएंगे लालू

लालू यादव ने अपनी किताब 'गोपालगंज टू रायसीना: माई पॉलिटिकल जर्नी' में दावा किया है कि महागठबंधन से अलग होने के 6 महीने बाद ही नीतीश कुमार दोबारा वापसी करना चाहते थे और उन्होंने इसके लिए पांच पर प्रशांत किशोर को मेरे पास भेजा था। हालांकि, प्रशांत किशोर ने लालू के दावे को बकवास बतयाा है।

लालू यादव के दावे पर प्रशांत किशोर का पलटवार। कहा- बकवास बोल रहे हैं। (फोटो सोर्स: एक्सप्रेस आर्काइव)

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के उस दावे पर जनता दल यूनाइटेड (JDU) के नेता प्रशांत किशोर ने खारिज किया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार महागठबंधन से अलग होने के 6 महीने बाद दोबारा वापसी की कोशिशें शुरू कर दी थीं। लालू ने यहा भी कहा है कि प्रशांत किशोर ने इसके लिए उनसे पांच बार मुलाकात भी की थी। प्रशांत किशोर ने पलटवार करते हुए इस दावे को बकवास करार दिया है।

प्रशांत किशोर ने कहा, “लालू जी ने जो दावा किया है वह पूरी तरह से बकवास है। यह उस नेता द्वारा खुद को प्रांसगिक बनाने की कमजोर पहल है जिसके अच्छे दिन बीत चुके हैं।” किशोर ने माना की उन्होंने लालू यादव से मुलकात की थी। लेकिन, उनकी मुलाकात तब हुई थी जब वह जेडीयू में शामिल नहीं हुए थे। उन्होंने कहा, “हां, मेरे जेडीयू में शामिल होने से पहले हम (लालू और प्रशांत किशोर) कई दफा मिल चुके थे। लेकिन, इस दौरान क्या-क्या बातें हुईं अगर मैं मुंह खोल दूं तो उन्हें शर्मिंदा होना पड़ जाएगा ।”

आरजेडी प्रमुख लालू यादव ने अपनी किताब ‘गोपालगंज टू रायसीना: माई पॉलिटिकल जर्नी’ में दावा किया है कि नीतीश कुमार ने 6 महीने के भीतर महागठबंधन में दोबारा शामिल होने की इच्छा जताई थी और कई बार प्रयास भी किए। लेकिन उन्होंने उनकी मांग को खारिज कर दिया। क्योंकि, नीतीश उनका विश्वास खो चुके थे। लालू के दावे पर उनके बेटे तेजस्वी यादव ने भी कहा है कि नीतीश कुमार ने महागठबंधन से अलग होने के 6 महीने बाद ही अलग-अलग माध्यमों के जरिए मुझसे संपर्क साधने की कोशिश की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App