ताज़ा खबर
 

दो महीने बाद जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी ने जारी किया CCTV फुटेज, लाइब्रेरी में घुसकर निहत्थे छात्रों पर डंडे बरसाते दिखे पुलिसकर्मी

वीडियो में नजर आ रहा है कि छात्र लाइब्रेरी में पढ़ाई कर रहे हैं और तभी अचानक पुलिस अंदर घुसी और लाइब्रेरी में पढ़ रहे छात्र की पिटाई कर दी।

JCC का दावा है कि 15 दिसंबर को जब नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ आंदोलन हुआ तो पुलिस ने जामिया के अंदर पढ़ रहे छात्रों पर लाठियां बरसाईं। (वीडियो स्क्रीन शॉट)

दिल्ली पुलिस पर पिछले साल 15 दिसंबर को आरोप लगे कि उसने जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी की लाइब्रेरी में घुसकर छात्रों संग मारपीट की। अब करीब दो महीने बाद जामिया की ओल्ड लाइब्रेरी का वीडियो फुटेज सामने आया है। वीडियो में नजर आ रहा है कि छात्र लाइब्रेरी में पढ़ाई कर रहे हैं और तभी अचानक पुलिस अंदर घुसी और लाइब्रेरी में पढ़ रहे छात्र की पिटाई कर दी। वीडियो सोशल मीडिया में भी खासा वायरल हो रहा है। 49 सेंकड का यह वीडियो शनिवार (15 फरवरी, 2020) को जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी (JCC) ने जारी किया।

JCC का दावा है कि 15 दिसंबर को जब नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ आंदोलन हुआ तो पुलिस ने जामिया के अंदर पढ़ रहे छात्रों पर लाठियां बरसाईं। कमेटी ने वीडियो जारी कर कहा कि सीसीटीवी फुटेज में साफ झलक रहा है कि पुलिस प्रायोजित हिंसा को अंजाम दे रही है। छात्र अपनी परीक्षा की तैयारी कर रहे थे, तभी उनपर लाठियों की बारिश होने लगी। पुलिस की पिटाई में एक छात्र की आंख भी चली गई थी।

यहां देखें वीडियो-

जनसत्ता ऑनलाइन वीडियो की पुष्टि नहीं करता है।

वीडियो सामने आने पर दिल्ली पुलिस ने कहा कि वीडियो में कुछ नकाबपोश भी दिख रहे हैं। पुलिस का यह भी कहना है कि क्राइम ब्रांच को पहले ही मामले की जांच सौंप दी गई थी। सामने आए सभी वीडियो की जांच की जाएगी। बता दें कि JCC का जामिया यूनिवर्सिटी से कोई संबंध नहीं है और कमेटी सीएए और एनआरसी के खिलाफ जारी आंदोलनों को लीड कर रही है। कमेटी में जामिया के कई पूर्व छात्र शामिल हैं।

उल्लेखनीय है कि पुलिस पर आरोप है कि वो 15 दिसंबर की रात जबरन जामिया यूनिवर्सिटी में घुसी और छात्रों की पिटाई की। हालांकि पुलिस लगातार इन आरोपों से इनकार करती रही है। तब मामले में जामिया प्रशासन की तरफ से भी पुलिस के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई थी।

यूनिवर्सिटी के छात्र प्रशासन से दिल्ली पुलिस के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं। बता दें कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली सहित देश के विभिन्न हिस्सों में एनआरसी और सीएए का जबरदस्त विरोध हो रहा है। दिल्ली के शाहीन बाग में भी महिलाएं सीएए के खिलाफ धरने पर बैठी हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 मध्य प्रदेश कांग्रेस के अंदर गहराया तकरार? बीच मीटिंग छोड़ निकले ज्योतिरादित्य सिंधिया
2 असहमति को ‘एंटी नेशनल’ कहना लोकतंत्र की आत्मा पर है चोट, मौजूदा हालात पर बोले सुप्रीम कोर्ट के सीनियर जज
3 वेलेंटाइन डे मनाने का विरोध किया तो पुलिसकर्मी मां की नाबालिग बेटी ने प्रेमी संग मिल कर दी हत्या, आंखों में पहले किया मिर्च स्प्रे, फिर दबा दिया गला