ताज़ा खबर
 

Pulwama Terror Attack: आंखोंदेखी- ब्लास्ट के बाद दूर तक हिली धरती, फेंका गया घर में बैठा शख्स

Jammu and Kashmir Pulwama's Awantipora Terror Attack: लेथपोरा के स्थानीय नागरिक ने बताया कि 'हम लोग अपने घरों में बैठे हुए थे, जब तेज धमाका हुआ और एक बारगी धरती हिल गई। यह धमाका इतना ताकतवर था कि हम जहां बैठे हुए थे, वहां से उछलकर दूर जा गिरे।'

pulwama terror attack: प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, धमाके के बाद धरती तक हिल गई थी। (express photo)

आदिल अखजर, बशारत मसूद

Jammu and Kashmir Pulwama’s Awantipora Terror Attack: जम्मू कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को में अब तक के सबसे बड़े आतंकी हमले में 40 जवान शहीद हो गए। इस हमले की भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि विस्फोट के बाद वाहनों के कलपुर्जे नजदीक के गांव में जाकर गिरे। इंडियन एक्सप्रेस ने जिस जगह यह आतंकी हमला हुआ लेथपोरा, वहां के एक स्थानीय नागरिक से बात की तो उन्होंने हमले की भयावहता का जो हाल बताया, वह लोगों के रोंगटे खड़े करने के लिए काफी है। लेथपोरा के स्थानीय नागरिक ने बताया कि ‘हम लोग अपने घरों में बैठे हुए थे, जब तेज धमाका हुआ और एक बारगी धरती हिल गई। यह धमाका इतना ताकतवर था कि हम जहां बैठे हुए थे, वहां से उछलकर दूर जा गिरे।’

सीआरपीएफ के काफिले की जिस बस को आतंकी ने निशाना बनाया था, वह बस हमले के बाद इतनी बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हुई कि मौके पर वह कुछ तारों का ढांचा भर लग रही थी। वहीं शहीद जवानों के शरीर के हिस्से घटनास्थल पर यहां-वहां फैले हुए थे। धमाका इतना तेज था कि शहीद जवानों के सामानों को हमले के बाद घटनास्थल के पेड़ों से उतारा गया। हमले में दूसरी बस भी चपेट में आयी थी, लेकिन इस बस में किसी तरह से जान-माल के नुकसान की खबर नहीं है। हालांकि इस बस में कुछ जवान घायल हुए हैं, जिनका इलाज चल रहा है। घटना के समय मौके पर मौजूद सीआरपीएफ के एक जवान ने बताया कि ‘एक कार अचानक से काफिले के बीच आ गई और एक तेज धमाका हुआ। जब तक हम लोग नीचे उतरे तो बस गायब थी और धमाके में बस पूरी तरह से तबाह हो गई। जवानों के शरीर के टुकड़े वहां बिखरे हुए थे।’

उल्लेखनीय है कि सीआरपीएफ के जवानों का काफिला जम्मू से श्रीनगर जा रहा था। इस काफिले में 78 वाहन थे, जिनमें 2,547 जवान सवार थे। अधिकतर जवान छुट्टियां बिताकर ड्यूटी पर वापस लौटे थे और श्रीनगर जा रहे थे। सीआरपीएफ का काफिला जैसे ही पुलवामा के लेथपोरा इलाके में पहुंचा, तभी एक एसयूवी कार काफिले में पहुंची और एक बस से टकरा गई। तभी एक तेज धमाका हुआ। इस भयावह हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने ली है। वहीं हमले को अंजाम देने वाले आतंकी की पहचान 20 साल के स्थानीय आतंकी आदिल अहमद डार के रुप में हुई है। आदिल अहमद ने एक साल पहले ही आतंक की राह चुनी थी। सूत्रों के अनुसार शुरुआती जांच में पता चला है कि आतंकी की एसयूवी में 50-60 किलो उच्च श्रेणी का विस्फोटक भरा हुआ था। इतनी बड़ी मात्रा में विस्फोटक होने के चलते ही यह हमला इतना भयानक रहा।

pulwama terror attack

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 एक्‍सपर्ट कमेटी की मोदी सरकार को सलाह- देशभर में न्‍यूनतम मासिक मजदूरी हो 9,750 रुपये
2 Pulwama Terror Attack: कश्‍मीर गवर्नर ने मानी गलती, खुफिया एजेंसियों से हुई चूक
3 पुलवामा में आतंकी हमला: प्रियंका गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कैंसिल की, अमित शाह देते रहे भाषण
ये पढ़ा क्या?
X