ताज़ा खबर
 

कश्मीर में पाबंदियों में और ढील की उम्मीद : कंसल

राज्य के प्रधान सचिव रोहित कंसल के मुताबिक, कश्मीर के कई हिस्सों में निषेधाज्ञा में ढील दी गई है।

Author नई दिल्ली | Published on: August 14, 2019 4:58 AM
सांकेतिक तस्वीर।

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने मंगलवार को कहा कि स्वतंत्रता दिवस समारोहों के लिए विभिन्न जिलों में चल रहे पूर्वाभ्यास के पूरा होने के बाद पाबंदियों में आगे और ढील दिए जाने की उम्मीद है। हालांकि, कश्मीर के कई हिस्सों में पाबंदियां जारी हैं। राज्य के प्रधान सचिव रोहित कंसल के मुताबिक, कश्मीर के कई हिस्सों में निषेधाज्ञा में ढील दी गई है। दूसरी ओर, जम्मू क्षेत्र में पाबंदियां लगभग पूरी तरह से हटा ली गई हैं। उधर, जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने गृह मंत्रालय को रिपोर्ट भेजी है, जिसमें कहा गया है कि घाटी में शांति बनी हुई है। रिपोर्ट के मुताबिक, ईद-उल-अजहा पर तीन सौ से ज्यादा टेलीफोन बूथ पर लोगों को राज्य से बाहर फोन करने की सुविधा मुहैया कराई गई थी। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने गृह मंत्रालय को अवगत कराया है कि बड़ी संख्या में लोगों ने अलग-अलग मस्जिदों में जाकर नमाज पढ़ी।

प्रधान सचिव ने कहा, ‘हम यह आशा करते हैं कि स्वतंत्रता दिवस समारोहों के लिए जम्मू- कश्मीर और लद्दाख के विभिन्न जिलों में चल रहे फुल ड्रेस रिहर्सल के समाप्त होने के बाद और अधिक ढील (पाबंदियों में) दी जाएगी।’ उन्होंने कहा कि घाटी के हिस्सों में चरणबद्ध तरीके से पाबंदियों में ढील दी जाएगी और इसका आकलन स्थानीय अधिकारी करेंगे।

लगभग हफ्ते भर पहले जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को हटाने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों-जम्मू कश्मीर एवं लद्दाख- में बांटने के केंद्र के फैसले के बाद सुरक्षा कारणों को लेकर ये पाबंदियां लगाई गई थी।

कश्मीर में सबसे पहले नौ अगस्त को पाबंदियों में ढील दी गई, ताकि लोग स्थानीय मस्जिदों में जुमे की नमाज पढ़ सकें। सोमवार को ईद-उल-अजहा से पहले भी पाबंदियों में ढील दी गई। कंसल ने कहा कि प्रशासन राज्य के सभी हिस्सों में (पाबंदियों में) ढील देने की नीति अपना रहा है और सोमवार को ईद का त्योहार एवं नमाज शांतिपूर्ण रहे। प्रधान सचिव ने कहा कि जहां तक संचार की बात है, स्थानीय लोगों के लिए 300 पब्लिक बूथ स्थापित किए गए हैं, जहां से वे अपने सगे-संबंधियों और अन्य लोगों से बात कर सकते हैं। एक दिन में 5,000 फोन कॉल किए गए। सभी तरह की मेडिकल सेवाएं सामान्य रूप से और निर्बाध जारी हैं।

राष्ट्रीय राजमार्ग पर वाहनों का आवागमन सामान्य रूप से हो रहा है। पिछले 24 घंटों में 100 से अधिक भारी वाहन, एलपीजी सिलेंडर ढोने वाले ट्रक, तेल टैंकर और करीब 1500 हल्के वाहन एवं बसें गुजरी हैं। उड़ानों का संचालन भी नियमित है। श्रीनगर के लाल चौक सहित राज्य के विभिन्न स्थानों पर 15 अगस्त को तिरंगा फहराने के बारे में पूछे जाने पर कंसल ने कहा कि इस अवसर को पूरे सम्मान एवं भव्यता के साथ मनाया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘स्वतंत्रता दिवस मनाने की एक खास परंपरा है। यह राष्ट्रीय त्योहार है और पूरे सम्मान एवं भव्यता से मनाया जाएगा।’ मुझे कुछ विशेष लोगों के बारे में कुछ नहीं कहना।’ प्रधान सचिव ने बताया कि स्थिति के स्थानीय आकलन के आधार पर कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 उन्नाव बलात्कार पीड़िता और परिवार के सदस्यों के खिलाफ प्रगति रिपोर्ट मंगाने से इनकार
2 Kerala Flood, Karnataka, Maharashtra, Gujarat Rains, Weather Forecast Today Updates: केरल में बाढ़ से भारी तबाही अब तक 85 लोगों की हुई मौत, राहत एवं बचाव कार्य जारी
3 VIDEO: प्रयागराज में घूस को लेकर आपस में भिड़े पुलिस वाले, वीडियो वायरल होने पर दोनो सस्पेंड